• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ropar
  • Tarpaulins Were Blown From The Wheat Of Markfed Lying In The Open In Ropar Mandi Due To Storm, No One To Cover, Sacks Soaked

भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:आंधी से रोपड़ मंडी में खुले में पड़ी मार्कफेड की गेहूं से तिरपालें उड़ीं, ढंकने वाला कोई नहीं, भीग गई बोरियां

रोपड़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बारिश में भीग रही गेहूं की बोरियां। (इनसेट) शाम को ढंकी गई गेहूं। - Dainik Bhaskar
बारिश में भीग रही गेहूं की बोरियां। (इनसेट) शाम को ढंकी गई गेहूं।
  • अनाज मंडी रोपड़ में लापरवाही, मार्कफेड की गेहूं की हजारों बोरियां खुले आसमान में पड़ीं

सोमवार रात के बाद मंगलवार सुबह 11 बजे शुरू हुई बारिश करीब 45 मिनट जारी रही। इस दौरान अनाज मंडी रोपड़ में लापरवाही नजर आई, जहां मार्कफेड की गेहूं की हजारों बोरियां खुले आसमान में बिना ढंके पड़ी रहीं और बारिश में भीग गई। इन्हें देखने वाला कोई नहीं था।

इनमें से लगे कई रैकों में विभाग द्वारा दी गई तिरपाल हवा के कारण उड़ गई। मौके पर संबंधित एजेंसी का कोई अधिकारी या मुलाजिम नहीं मिला जोकि दोबारा इन तिरपालों को गेहूं की बोरियों पर डालता। इस संबंध में जब मार्कफेड की जिला मैनेजर नमिता रानी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कुछ दिन से हिमाचल के लिए गेहूं की लिफ्टिंग चल रही है।

इसके चलते गेहूं के कवर उतारे गए थे। जबकि दूसरी तरफ भास्कर टीम को मंडी में कहीं भी एक भी ट्रक ऐसा नहीं मिला जिसमें गेहूं की ढुलाई के लिए कवर उतारे गए गए हों। वहीं, मंडी में मौजूद कुछ आढ़तियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि गत रात चली हवा से तिरपाल उड़ गई थी। लेकिन किसी भी अधिकारी ने मंडी का दौरा नहीं किया। इसके चलते गत रात हुई बारिश व सुबह हुई बारिश से काफी संख्या में बोरियां पानी में भीग गईं।

2 दिन में 15 एमएम बारिश, आगे मौसम साफ रहने की संभावना

दो दिन में रोपड़ में 15 एमएम बारिश हुई है। इसमें मंगलवार को 3 और सोमवार को 12 एमएम बारिश दर्ज की गई है। मंगलवार को सुबह करीब 11 बजे शुरू हुई बारिश 45 मिनट तक जारी रही। मौसम विभाग के अनुसार अधिकतम तापमान 34 डिग्री तथा न्यूनतम 23 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

आने वाले दिनों में अधिकतम तापमान 39.0 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम 25.0 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है और मौसम शुष्क बना रहेगा। बारिश ने भीषण गर्मी और लंबे-लंबे बिजली कटों से निजात दिलाई है। इसका असर आने वाले 2-3 दिन रहेगा। जबकि उसके बाद तेज धूप खिलेगी और धीरे-धीरे पारा ऊपर चढ़ेगा।

मई में 5 साल की सबसे कम बारिश

वहीं, अब तक जिले में इस साल मई में पिछले 5 सालों में सबसे कम 16 एमएम बारिश हुई है। मई में सबसे अधिक 71 एमएम बारिश का रिकॉर्ड है। मई महीने में 2020 में 49 एमएम, 2018 में 32 एमएम, 2021 में 23 एमएम बारिश दर्ज की गई है। अगर मौसम विभाग की माने तो अब मई में बारिश होती नजर नहीं आ रही।

खबरें और भी हैं...