लोग लौटे निराश:संगरूर और मालेरकोटला के 34 सेवा केंद्रों में 210 कर्मी कलमछोड़ हड़ताल पर, 28 विभागों की 379 सर्विस ठप

संगरूर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वेतन में बढ़ोतरी समेत अन्य मांगों को लेकर कर्मचारियों ने की हड़ताल, लोग लौटे निराश

वेतन में बढ़ोतरी की मांग को लेकर संगरूर और मालेरकोटला के 34 सेवा केन्द्रों के 210 से अधिक कर्मचारियों ने सोमवार को कलमछोड़ हड़ताल कर सेवा केन्द्रों के समक्ष प्रदर्शन किया। पूरा दिन 379 सर्विस ठप रहने से लोगों को परेशानी हुई। एक दिन की कलमछोड़ हड़ताल से संगरूर और मालेरकोटला के सेवा केंद्रों से करीब 2000 लोग खाली हाथ लौटे। सेवा केन्द्र कर्मचारी यूनियन के प्रधान करनैल सिंह, उपप्रधान मनदीप दियोल, सरप्रस्त पवितर सिंह का कहना है कि वह 6 वर्ष से सेवा केन्द्रों में सेवाएं निभा रहे हैं पर एक बार भी उनका वेतन नहीं बढ़ाया गया।

सेवा केन्द्रों में कंप्यूटर ऑपरेटर, सुरक्षा गार्ड और सफाई सेवकों का वेतन किस स्लैब के आधार पर निश्चित किया गया है इसकी कोई जानकारी नहीं है। सुरक्षा गार्ड सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक पूरा सप्ताह ड्यूटी निभा रहे हैं परंतु उन्हें एक भी छुट्टी नहीं दी जा रही है। कानून अनुसार मजदूर से सप्ताह में 48 घंटे ही काम लिया जा सकता है परंतु कंपनी 70 घंटे तक काम ले रही हैै। यूनियन के मुख्य सलाहकार दमनजीत सिंह ने बताया कि उन्हें मात्र 8800 रुपए वेतन दिया जा रहा है। उनकी साप्ताहिक छुट्टी भी बंद कर दी गई है। यूनियन का दावा है कि सोमवार को हड़ताल के कारण 28 विभागों से संबंधित काम पूरी तरह से बंद रखे गए हैं। ऐसे में जन्म मौत सर्टिफिकेट, जाति सर्टिफिकेट, मैरिज सटिफिकेट, असला लाइसेंस, नकल, निशान देही, लाल कॉपी आदि तरह के काम पूरी तरह से बंद रहे हैं।

खबरें और भी हैं...