• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Sangrur
  • Three Unions Reached The CM Residence With Demands, The Police Stopped Them And Staged A Sit in, When The Concerned Minister And Panel Meeting Got The Time.

रोजगार देने की मांग:तीन यूनियनें मांगों को लेकर सीएम निवास पहुंचीं, पुलिस ने रोका ताे वहीं दिया धरना, संबंधित मंत्री व पैनल बैठक का समय मिलने पर धरना

संगरूर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम निवास के पास ईटीटी टेट पास बेरोजगारों को आगे बढ़ने से रोकती पुलिस तथा (दाएं) धरना देते आदर्श स्कूल अध्यापक। - Dainik Bhaskar
सीएम निवास के पास ईटीटी टेट पास बेरोजगारों को आगे बढ़ने से रोकती पुलिस तथा (दाएं) धरना देते आदर्श स्कूल अध्यापक।

रोजगार देने व कच्चे कर्मियों को रेगुलर करने की मांग को लेकर विभिन्न यूनियनों की ओर से रविवार को मुख्यमंत्री भगवंत मान निवास के समक्ष धरना दिया गया। सभी यूनियन सदस्य वेरका मिल्क प्लांट से रोष मार्च करते हुए सीएम निवास तक पहुंचे। जहां से यूनियन सदस्यों ने सीएम निवास की तरफ बढ़ना चाहा तो बड़ी संख्या में तैनात पुलिस बल ने उन्हें आगे नहीं जाने दिया। इसके बाद यूनियन सदस्यों ने वहीं पर धरना देकर प्रदर्शन शुरू कर दिया।

आदर्श स्कूल पीपीपी अध्यापक यूनियन के सदस्य रेगुलर करने, जबकि ईटीटी टैट पास बेरोजगार 2364 संघर्ष कमेटी पंजाब और इलेक्ट्रिक एंड वायरमैन आईटीआई पास यूनियन के सदस्य रोजगार की मांग कर रहे हैं। प्रशासन की ओर से लेक्ट्रिशन एंड वायरमैन आईटीआई पास यूनियन को 12 अगस्त को बिजली मंत्री के साथ, ईटीटी टेट पास बेरोजगार 2364 संघर्ष कमेटी पंजाब को 18 अगस्त और आदर्श स्कूल पीपीपी अध्यापक यूनियन के सदस्यों को 22 अगस्त की पैनल बैठक का भरोसा दिलाया गया। इसके बाद यूनियनों ने अपना प्रदर्शन समाप्त किया।

अध्यापक और दर्जाचार कर्मी रेगुलर किए जाएं

आदर्श स्कूल पीपीपी अध्यापक यूनियन के राज्य प्रधान मक्खनवीर व जिला प्रधान जसवीर गलोटी ने कहा कि वह 12 वर्षों से आदर्श स्कूलों में अपनी सेवाएं निभा रहे हैं, लेकिन उन्हें अभी तक रेगुलर नहीं किया गया है। वहीं, जायज मांगों के लिए अपनी आवाज उठाने वाले कई अध्यापकों को नौकरी तक गंवानी पड़ी है। दर्जाचार कर्मचारियों के हालात ऐसे हैं कि पूरा दिन काम करने के बावजूद उन्हें मात्र 8 हजार वेतन ही दिया जा रहा है। सरकार की गलत नीतियों के कारण पंजाब के 2 आदर्श स्कूलों को बंद भी कर दिया गया है, जिस कारण इन स्कूलों के कर्मचारियों को नौकरी से भी निकाल दिया है। कांग्रेस कार्यकाल के दौरान भी अपनी जायज मांगों के लिए कई बार प्रदर्शन कर चुके हैं, परंतु अभी तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया है। यूनियन की ओर से मांग की गई कि विभिन्न कैडरों के अध्यापकों और दर्जाचार कर्मचारियों की सेवाएं रेगुलर कर विभाग की ओर से वेतन जारी किया जाए। सभी कर्मियों को ग्रेड वेतन समेत सभी भत्ते दिए जाए।
भर्ती प्रक्रिया पूरी कर रोजगार देने की मांग

ईटीटी टेट पास बेरोजगार 2364 संघर्ष कमेटी के प्रतिनिधि सुरिंदरपाल ने कहा कि 6 मार्च 2020 को ईटीटी अध्यापकों के 2364 पदों के लिए आवेदन मांगे गए थे। इनमें पास होने वाले उम्मीदवारों को अभी ज्वाइनिंग लेटर नहीं मिले हैं। उन्होंने मांग की कि भर्ती प्रक्रिया पूरी कर उन्हें रोजगार दिया जाए।

भर्ती पर अप्रेंटशिप की शर्त खत्म करने की मांग | इलेक्ट्रिेशन एंड वायरमैन आईटीआई पास यूनियन के गुरमीत सिंह व गुलजार सिंह ने कहा कि पीएसपीसीएल द्वारा 1700 पदों का नोटिफिकेशन जारी किया गया है। इसमें अप्रेंटशिप की शर्त रखी है, जिसे खत्म कर इन पदों को भरने की मंजूरी दी जाए।

खबरें और भी हैं...