10 जुलाई को देवशयनी एकादशी:विवाह व मांगलिक कार्यों पर लगेगा विराम, शुरू होगा चातुर्मास

ब्यावर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आगामी 10 जुलाई को देवशयनी एकादशी है। इसके बाद चार माह के लिए विवाह व अन्य मांगलिक कार्यों पर विराम लग जाएगा। शास्त्रों के अनुसार भगवान चार माह के लिए बैकुंठ धाम में योग निंद्रा के लिए चले जाते हैं। इसलिए इस चार माह की अवधि में शुभ कार्य नहीं हो पाते हैं।

जुलाई में दो अबूझ सावे

पंडित रविशंकर शास्त्री ने बताया कि देवशयनी एकादशी का व्रत आषाढ़ मास शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को है। यह शादी विवाह का शुभ मुहूर्त है। जुलाई माह के आठ सावों में दो अबूझ सावे हैं। 8 जुलाई को भड़ल्या नवमी और देवशयनी एकादशी पर 10 जुलाई को अबूझ सावा रहेगा। इसके बाद चार माह तक कोई मांगलिक मुहूर्त नहीं है, लेकिन इस दौरान पूजा-पाठ पर कोई पाबंदी नहीं है। इस चार मास की अवधि को चार्तुमास के नाम से जाना जाता है। इसके बाद नवंबर में देवउठनी एकादशी से फिर शादी-ब्याह का सिलसिला शुरू होगा।

तीन महीने के शुभ मुहूर्त

जुलाई- 3, 4, 6, 7, 8, 9, 10

नवंबर- 25, 26, 28, 29

दिसंबर- 1, 2, 4, 7, 8, 9, 14

खबरें और भी हैं...