पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

काेराेना की दहशत:सिटी डिस्पेंसरी में रक्तदान करने वाले युवक में दिखे लक्षण, सैंपल भेजे, वार्ड में अाइसाेलेट

ब्यावर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले लैब टेक्नीशियन मिला पॉजिटिव, रक्तदान करने वालाें में डर, सिटी डिस्पेंसरी अगले अादेश तक बंद

दो दिन पूर्व सिटी डिस्पेंसरी के लैब टेक्नीशियन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद डिस्पेंसरी में गत दिनों रक्तदान करने वाले एक युवक में हल्के लक्षण दिखाई देने के कारण उसे अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में आइसोलेट कर लिया गया। युवक के स्वाब के सैंपल लेकर जांच के लिए भिजवाए गए। इधर डिस्पेंसरी में गत दिनों आयोजित हुए रक्तदान शिविर में रक्तदान करने वाले 50 से अधिक लोगों में दहशत फैल गई। हालांकि चिकित्सा विभाग द्वारा अगले निर्देश तक सिटी डिस्पेंसरी को बंद कर दिया गया।

जानकारी के अनुसार दो दिन पूर्व राजकीय सिटी डिस्पेंसरी के लैब टेक्नीशियन चंपा नगर निवासी युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। प्रारंभिक तौर पर लैब टेक्नीशियन की कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं आई।

तबीयत खराब होने पर करवाई जांच
जानकारी मिली है कि सिटी डिस्पेंसरी के लैब टेक्नीशियन  की तबीयत खराब होने पर डॉक्टर को दिखाया गया। टेक्नीशियन को बुखार और नाक बहने की समस्या थी और उसने कुछ सेंपल लेने का कार्य किया था। इस कारण संदेह होने पर उसकी जांच करवाई गई। जिस पर उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। ऐसे ही लक्षण रक्तदान शिविर में रक्तदान करने वाले कुछ लोगों में आ रहे हैं। जिस कारण लोगों में दहशत है।
रिपोर्ट आएगी तो डॉक्टर करेंगे डिस्चार्ज
एक तरफ जहां लोगों में कोरोना काे लेकर दहशत है और चिकित्सा विभाग द्वारा सीनियर सिटीजन को अस्पताल में बेवजह नहीं आने की अपील की जा रही है तो वहीं दूसरी ओर अमृतकौर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती एक युवती की दादी को मंगलवार सुबह दो घंटे तक अस्पताल में इधर से उधर परेशान होना पड़ा। जानकारी के अनुसार गत दिनों प्रदेश के बाहर से लौटी एक किशोरी को कुछ परेशानी होने और गले में दर्द होने के कारण अस्पताल दिखाया गया। जहां उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर उसके सैंपल जांच के लिए भिजवाए गए। मंगलवार को किशोरी की दादी अस्पताल आई ताकि किशोरी की रिपोर्ट मिल सके। किशोरी की दादी जैसे तैसे वार्ड में पहुंची तो उसे वहां से कहा गया कि अभी रिपोर्ट नहीं आई आप लैब में मालूम करो। वृद्धा जिसे ब्लड प्रेशर की परेशानी भी थी और चलने में भी दिक्कत हो रही थी करीब दो घंटे तक अस्पताल में इधर से उधर घूमती रही लेकिन उसे कोई संतोषप्रद जबाव नहीं मिला। जानकारी मिली कि मंगलवार को एक विशेषज्ञ के अवकाश पर होने के कारण आइसाेलेशन वार्ड में राउंड तक नहीं हो सका। किसी अन्य डॉक्टर की ड्यूटी नहीं लगाने के कारण वार्ड में भर्ती मरीजों की रिपोर्ट आने के बाद भी उन्हें डिस्चार्ज नहीं किया जा सका। आखिर एक समाजसेवी के हस्तक्षेप के बाद महिला को रिपोर्ट मिली और वार्ड में राउंड किया गया तथा किशोरी को डिस्चार्ज किया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें