कोरोना संक्रमण / ब्यावर बना हाॅट स्पाॅट सिक्याेरिटी गार्ड सहित तीन और पाॅजिटिव, दिल्ली से आए दंपती काे भाई ने घर में नहीं घुसने दिया, महिला पति सहित लापता

ब्यावर. रेगरान छोटा बास से किशाेर को लेकर जाती चिकित्सा टीम। ब्यावर. रेगरान छोटा बास से किशाेर को लेकर जाती चिकित्सा टीम।
X
ब्यावर. रेगरान छोटा बास से किशाेर को लेकर जाती चिकित्सा टीम।ब्यावर. रेगरान छोटा बास से किशाेर को लेकर जाती चिकित्सा टीम।

  • तीन दिन में काेरोना के 9 मामले आए सामने, इनमें 8 प्रवासी, आंकड़ा पहुंचा 26, एक की एंट्री अजमेर जेएलएन में हुई, पॉजिटिव आई महिला अपने पति समेत लापता, 15 साल के बालक को बताया 75 वर्षीय वृद्ध

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 06:47 AM IST

ब्यावर. जैसे जैसे प्रवासी श्रमिक वापस अपने घरों की ओर लौट रहे हैं वैसे वैसे कोरोना पॉजिटिव की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। शनिवार को चिकित्सा विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट में एक पूर्व सैनिक समेत तीन जने कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। हालांकि रिपोर्ट को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं क्योंकि रिपोर्ट में 15 साल के बालक को पॉजिटिव बताया गया है लेकिन उसकी उम्र 75 साल बताई गई है।
इसके साथ ही रिपोर्ट आने के बाद जब चिकित्सा विभाग की टीम एक दंपति को लेने पहुंची तो दंपति लापता हो गई और उनके रिश्तेदारों ने बताया कि वह आ रहे थे तो उन्हें पहले ही घर में घुसने से इंकार कर दिया। ऐसे में अब उनकी कांटेक्ट हिस्ट्री खंगालना प्रशासन के लिए बहुत बड़ी चुनौती होगी। पिछले तीन दिनों में ब्यावर क्षेत्र से 9 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं। चिंता की बात यह है कि इनमें से 8 पॉजिटिव प्रवासी हैं जो दूसरे प्रदेशों से लौटे हैं। 

नांगलोई से लौटी महिला पति संग हुई लापता, रिपोर्ट आई पॉजिटिव
शनिवार को जारी रिपोर्ट में संजय नगर निवासी एक महिला की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। लेकिन रिपोर्ट आने के बाद जब चिकित्सा विभाग की टीम उन्हें लेने पहुंची तो उनके बताए पते पर कोई नहीं मिला। इस संबंध में जानकारी चाहने पर उनके रिश्तेदारों ने बताया कि वह खुद किराए के मकान में रहते हैं और मकान मालिक के मना करने के कारण उन्होंने अपने भाई को फोन पर मना कर दिया कि घर ना आए। इस संबंध में जब भास्कर ने पॉजिटिव आई महिला के पति से बात की तो उसने बताया कि वह दिल्ली के नांगलाेई क्षेत्र में अपने परिवार के साथ रहता है तथा चप्पल बनाने का कार्य करता है।
उसने बताया कि उसकी माताजी का निधन हो जाने के कारण उसके भाई ने उसे बुलवाया जिस कारण वह 28 मई को दिल्ली से राजस्थान रोडवेज की बस में अजमेर पहुंचा। जहां से एक पिकअप में सवार होकर सीधा राजकीय अमृतकौर अस्पताल आया और जांच करवाई। घर पहुंचने पर रिश्तेदारों ने उसे घर में घुसने से ही इंकार कर दिया। ऐसे में वह सड़क पर ही रात गुजारने को मजबूर रहा। उसने रोते हुए कहा कि भाई के भरोसे वह अपने छोटे छोटे बच्चों को दिल्ली में अकेला छोड़ कर आ गया और यहां रिश्तेदारों ने भी मुंह मोड़ लिया।
उसने रोते हुए कहा कि कैसे भी उसे वापस अपने परिवार के पास वापस भिजवा दिया जाए। इसके बाद जब उसे चिकित्सा विभाग की टीम लेने पहुंची तो वह मौके पर नहीं मिला तथा उसने जो नंबर दर्ज करवाया वह भी स्विच ऑफ आ रहा था। अब चिकित्सा विभाग द्वारा पुलिस की मदद से उसकी तलाश की जा रही है ताकि उसकी संपर्क हिस्ट्री खंगाली जा सके। हालांकि महिला के पति ने बताया कि वह किसी से नहीं मिला और ना ही उसने किसी से कोई सामान खरीदा। पर सवाल यह है कि वह शुक्रवार रात को कहां और किसके पास रुका था। अब पुलिस की मदद से यह सारी जांच की जा रही है।

गड्‌डी थोरियान क्षेत्र में परिजनों को लेकर रवाना होती टीम।

पूर्व सैनिक को हुआ कोरोना
लाखीना हाल गड्डी थोरियान निवासी एक पूर्व सैनिक जो वर्तमान में ब्यावर बस स्टेंड पर सिक्योरिटी गार्ड के पद पर कार्यरत है, के परिजनों ने बताया कि उसकी तबीयत खराब होने पर कुछ दिन की छुट्टी लेकर उसे एक डॉक्टर को दिखाया था। उसे ब्यावर और अजमेर के एक निजी हॉस्पीटल भी दिखाया। हालत देखकर जेएलएन रैफर कर दिया गया। शुक्रवार को 53 वर्षीय पूर्व सैनिक का अजमेर में कोरोना टेस्ट हुआ था। इस मामले में सबसे ज्यादा लोगों के संक्रमित होने की संभावना है क्‍योंकि बस स्टेंड, दोनों निजी अस्पतालों में उसके संपर्क में कई लाेग आए हाेंगे।
150 से ज्यादा सैंपल किए गए कलेक्ट
शुक्रवार को एक साथ 4 लोगों के पॉजिटिव आने के बाद चिकित्सा विभाग द्वारा आस पास के क्षेत्रों से संपर्क हिस्ट्री के आधार पर सेंपल लिए गए। शनिवार को टीमों ने जमालपुरा, फतेहपुरिया और पोखरगंज क्षेत्र में 150 से ज्यादा लोगों के सेंपल लिए। चिकित्सा विभाग की टीमों द्वारा क्षेत्र की एएनएम और आशा सहयोगिनियों की मदद से कोरोना प्रभावित क्षेत्रों में स्क्रीनिंग और रेंडम सेंपलिंग शुरू कर दी गई है।

संजय नगर में पॉजिटिव आई महिला के बारे में जानकारी लेती पुलिस।

मुंबई से परिवार के साथ लौटा किशोर भी पॉजिटिव, रिपोर्ट को लेकर संशय
शनिवार को चिकित्सा विभाग द्वारा रिपोर्ट के अनुसार ब्यावर के रेगरान छोटा बास निवासी एक 75 वर्षीय व्यक्ति को भी कोरोना पॉजिटिव दर्शाया गया है। रिपोर्ट आने के बाद चिकित्सा विभाग की टीम जब पॉजिटिव व्यक्ति को लेने उसके घर पहुंची तो परिजनों ने बताया कि 75 साल का तो कोई व्यक्ति ही नहीं है। उन्होंने बताया कि जिस नाम से रिपोर्ट आई है वह तो महज 15 वर्षीय किशोर है। लेकिन इसे तकनीकी खामी बताते हुए चिकित्सा विभाग की टीम ने उसे अजमेर रैफर कर दिया। जानकारी मिली है कि किशोर अपने परिवार के साथ मुंबई के ठक्कर बप्पा कॉलोनी में रहता है और उनका परिवार वहीं चप्पल बनाने का काम करता है।
किशोर अपने परिवार के साथ 28 मई को ट्रेन में फुलेरा पहुंचे जहां से बस से ब्यावर आए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना