नाराजगी / आर्थिक पैकेज में अनदेखी किए जाने के कारण नाराज हुए ट्रांसपोर्ट कारोबारी

X

  • ट्रांसपोर्ट सैक्टर से जुड़े करीब 20 करोड़ लोगों की झोली में कुछ भी नहीं

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

ब्यावर. आल इंडिया गुड्स व्हीकल ऑनर्स एसाेसिएशन ने केन्द्र सरकार द्वारा ट्रांसपोर्ट क्षेत्र की पूरी तरह अनदेखी किए जाने से नाराजगी जताई है। एसाेसिएशन ने कहा कि 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज में ट्रांसपोर्टरों को सरकार से बहुत उम्मीद थी परंतु सरकार ने ट्रांसपोर्ट सैक्टर से जुड़े करीब 20 करोड़ लोगों की झोली में कुछ भी नहीं डाला। उन्होंने बताया कि देश भर के ट्रांसपोर्टरों ने वीडियो कांफ्रेंस द्वारा की गई चर्चा दौरान लगभग सभी ने निराशा जताते हुए माना है कि भारी नुकसान के कारण 1 जून के बाद गाड़ियां खड़ी करने की नौबत आ सकती है।

उन्होंने कहा कि संकट के समय हमने बचाव पैकेज भी मांगा था। ट्रांसपोर्ट सेक्टर द्वारा उम्मीद की जा रही थी कि सरकार, बीमा, नेशनल परमिट, डीएल, गुड्स टैक्स, गाड़ियों की ईएमआई बढ़ाए जाने, ब्याज माफी आदि की तत्काल राहत देगी परंतु ट्रांसपोर्ट सेक्टर की भावनाओं को बिल्कुल ही दरकिनार कर दिया गया। ट्रांसपोर्ट सेक्टर ने कभी भी सरकार से सीधे आर्थिक पैकेज की मांग नहीं की परंतु मौजूदा समय 70 प्रतिशत ट्रांसपोर्ट का व्यापार ठप्प है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा कि संकट के समय भी ट्रांसपोर्टरों ने देश भर में जरूरी सेवाओं की सप्लाई जारी रखी परंतु ऐसा लगता है कि सरकार की सोच में यह सेक्टर है ही नहीं।

केन्द्र सरकार ने हमें ठेंगा दिखा दिया है। एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, वित्त मंत्री सीतारमण और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को पत्र लिखकर ट्रांसपोर्ट व्यवसाय के लिये भी आर्थिक पैकेज में से कुछ राहत प्रदान करने की मांग की है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना