यजुर्वेद महायज्ञ की पूर्णाहुति:आर्यसमाज के तीन यजुर्वेद महायज्ञ में 24 जोड़ों ने हवन में डाली आहुतियां

किशनगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आर्यसमाज मदनगंज किशनगढ़ का वार्षिकोत्सव रविवार को यजुर्वेद महायज्ञ की पूर्णाहुति के साथ संपन्न हुआ। इन तीन दिनों में 24 जोड़ों ने यज्ञ में आहूतियां डालकर कर्तव्यपारायणता का संकल्प किया।

मंत्री सरोज मालू ने बताया कि यज्ञ के ब्रह्माआचार्य आत्मानंद गुरुकुल सवाईमाधोपुर में विद्याध्ययन करवाने वाले सोमदेव रहे। उन्होंने तीन दिन में कई ऐसे सूत्र दिए, जिससे अपने जीवन और समाज को ऊंचा उठाया जा सकता है। पंडित कंचन कुमार ने अपने सुमधुर भजनों से सभी को भाव विभोर कर दिया।

पिछले दो वर्षों में जिन्होंने यज्ञ कार्य में सहयोग किया, उनमें शामिल डिंपल अग्रवाल, राजेंद्र कुमावत, सरोज शर्मा और सुमन शर्मा को हवनकुंड, सामग्री, सत्यार्थप्रकाश, गीता और हवन की पुस्तिका पुरस्कार स्वरूप भेंट की गई। महामंत्री नीरज आर्य ने सभी समाजों और योग समितियों द्वारा किए गए सहयोग के लिए आभार जताया। यज्ञ का प्रसाद ऋषि लंगर आर्यसमाज के अध्यक्ष रामपाल छीपा की ओर से प्रदान किया गया।

कोषाध्यक्ष दिनेश मालू ने बताया कि आने वाले समय में आर्यसमाज ने कई सेवा कार्य हाथ में लेने का फैसला किया है। कार्यक्रम में चंद्र प्रकाश शर्मा का सहयोग रहा।

खबरें और भी हैं...