पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इस साल का बड़ा आंकड़ा:चिकित्सक, शिक्षक सहित 110 नए कोरोना संक्रमित, 2 की माैत, 1 दिसंबर के बाद सबसे ज्यादा मरीज अप्रैल में

अजमेर13 दिन पहलेलेखक: मनीष सिंह चाैहान
  • कॉपी लिंक
कोविड वार्ड में अब मरीजों के परिजनों को पहनना पड़ेगा पीपीई किट। - Dainik Bhaskar
कोविड वार्ड में अब मरीजों के परिजनों को पहनना पड़ेगा पीपीई किट।

अजमेर जिले में काेराेना की दूसरी लहर अब गति पकड़ रही है। जिले में मंगलवार काे रिकॉर्ड 110 नए काेराेना संक्रमित मरीज मिले हैं। यह इस साल एक ही दिन में सबसे बड़ा आंकड़ा है। अजमेर जिले में इससे पहले 123 नए काेराेना के मरीज गत वर्ष दिसंबर माह में मिले थे। वहीं दाे संक्रमितों की उपचार के दौरान माैत भी हाे गई। मृतकों में एक महिला व एक पुरुष शामिल है। एक मृतक सुभाष नगर निवासी है। जिले में लगातार काेराेना संक्रमित मरीज मिलने का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। मंगलवार काे एक साथ काेराेना संक्रमितों का विस्फोट हाे जाने के बाद भी विभाग की नींद नहीं उड़ी। विभाग के आला अधिकारी अभी भी कार्यालय का माेह नहीं छाेड़ पा रहे हैं।

शहर में एक के बाद एक कई क्षेत्रों से एक साथ संक्रमित मिल रहे हैं। धाेलाभाटा, गुलाबबाड़ी क्षेत्र में लगातार संक्रमित सामने आने के बावजूद अभी तक कंटेनमेंट जाेन या उस क्षेत्र में आवाजाही काे लेकर काेई गंभीर नहीं है। मंगलवार काे जेएलएन मेडिकल कॅालेज की एक महिला चिकित्सक व एमपीएस स्कूल के शिक्षक की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।

110 नए संक्रमितों के साथ ही जिले में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 24, 644 हाे गया है। वहीं मृतकों का ग्राफ बढ़कर 510 तक पहुंच गया।

बेपरवाही : फाइलों में ही काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग
अजमेर जिले में काेराेना की दूसरी लहर तेजी से आमजन काे अपनी चपेट में ले रही है। गत वर्ष के मुकाबले इस साल 24 गुणा तेजी से संक्रमित सामने आ रहे हैं। इसके बावजूद संक्रमण राेकने में चिकित्सा विभाग की लापरवाही सामने आ रही है। जिला चिकित्सा विभाग संक्रमिताें के बढ़ते आंकड़ाें काे छिपाने के लिए किसी की भी सैंपलिंग नहीं करवा रहा है।

केवल चिकित्सा विभाग की टीम फाैरी ताैर पर संक्रमित व्यक्ति से पूछताछ करके उसे पांच दिन की दवा देने के साथ ही अन्य सदस्यों व ट्रेवल हिस्ट्री की पूछताछ कर अपने कार्य की इतिश्री कर रहा है। उल्लेखनीय है कि नई गाइडलाइन के मुताबिक सरकार व जिला प्रशासन संक्रमित मिलने वाले व्यक्ति के पूरे की सैंपलिंग तथा बीते दस दिनों में वह किसके संपर्क में आया, इसकी काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग की जानी है।

संक्रमित मरीज के घर के आसपास 50 घराें में भी सैंपलिंग कर उसकी रिपोर्ट लेने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि संक्रमित व्यक्ति की संपर्क में आने वाले व्यक्ति की पहले ही पहचान हाे सके। अन्य काेई संक्रमित सुपर स्प्रेडर नहीं बन सके।

भास्कर ने पड़ताल की ताे हुआ हकीकत का खुलासा
केस 1- पुष्कर राेड निवासी एक युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव अाई। परिवार में पांच सदस्य हैं। गत दिनों चिकित्सा विभाग के यहां से फाेन आने के बाद डिस्पेंसरी की टीम दवा देकर चली गई। राेजाना फाेन पर फॉलोअप लिया जाता है, लेकिन परिवार के किसी सदस्य की जांच नहीं की गई।

केस 2 - बिजयनगर निवासी एक व्यापारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद टीम ने केवल पांच दिन की दवा दी। गत दिनों व्यापारी की दवा खत्म हाे गई। घर के सदस्य काे अस्पताल भेजा ताे कहा गया कि दवा केवल पांच दिन की मिलती है। दस दिन घर पर आराम कराे। ऐसे हालात में संक्रमण फैलता रहा ताे उसकी जांच काैन करेगा।

केस 3- जयपुर राेड घूघरा घाटी के निकट मिले संक्रमित युवक के परिवार में पांच सदस्य हैं। दवा केवल संक्रमित काे दी गई। फाेन पर बात करके पूछ लेते हैं। परिवार या पड़ौस में रहने वाले किसी भी व्यक्ति की सैंपलिंग तक नहीं की गई। यदि काेई संपर्क में आया हाेगा ताे 15 दिन बाद ही पता चलेगा कि काेई नया संक्रमित निकला है।

आंकड़ाें पर संदेह के सवाल : काेराेना संक्रमितों काे लेकर चिकित्सा विभाग आंकड़ों का खेल पिछले साल से खेल रहा है। मृतकों व पॉजिटिव मरीजों की संख्या छिपाई जा रही है। बीते दाे माह में सैंपलिंग लगभग नगण्य कराई। इस कारण काेविड के अधिकतर मरीज सामने नहीं आ पाए। मार्च के अंतिम सप्ताह में सैंपलिंग बढ़ाई ताे काेविड के मरीज भी बढ़ने लगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें