• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • 14 Years Ago Ajmer Was Also Caught In Delhi Terrorist Mohammad Ashraf; Pak ISI Was Handling, Investigation Agencies Alerted

दिल्ली में पकड़ा गया आतंकी 14 साल पहले अजमेर रहा:आतंकी मोहम्मद असरफ नाम बदल कर रहा, झाड़-फूंक करता था; पाक ISI कर रही थी हैंडलिंग, अलर्ट हुई जांच एजेंसियां

अजमेर7 महीने पहले
  • आतंकी अशरफ का राजस्थान कनेक्शन
  • दिल्ली में पकड़ा गया आतंकी मोहम्मद अशरफ 14 साल पहले अजमेर में रहा, 2 साल तक नाम बदल कर रहा था झाड़-फूंक

दिल्ली के लक्ष्मीनगर में गिरफ्तार पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद अशरफ उर्फ नूरी उर्फ नासिर का राजस्थान से कनेक्शन सामने आया है। इसके बाद सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं। दिल्ली की स्पेशल सेल ने तफ्तीश के बाद यह पुष्टि की है कि आतंकी अशरफ का कनेक्शन बिहार, राजस्थान, दिल्ली के कई शहरों में था। वह ज्यादातर मौलवी और पीर फकीर के तौर पर मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में रहा।

आतंकी करीब 15 साल से अलग-अलग पहचान से कई जगह रह चुका है। वह सिलीगुड़ी से अजमेर आया था। अजमेर IGP एस.सैंगाथिर ने बताया कि अभी कोई अधिकृत सूचना नहीं मिली है, लेकिन पता चला है कि आतंकी 2005-2006 में करीब डेढ़-दो साल अजमेर में रहा। यहां झाड़ फूंक कर अपना समय बिताया। इसके बहाने कई एरिया में रेकी भी की थी। इसके लिए इंटेलिजेंस से भी इनपुट लिया जाएगा। इधर, पुलिस विभाग के अधिकारी भी हरकत में आ गए हैं। बताया जा रहा है कि इस मामले को लेकर आसपास के इलाकों में रहने वाले लोगों से भी पूछताछ हो सकती है। आतंकी ने अजमेर में रह कर क्या किया, इसकी भी पड़ताल की जा रही है।

आतंकी की हैंडलिंग पाकिस्तानी आईएसआई कर रही थी। इसे कोड नेम नासिर दिया गया था। जांच एजेंसियों ने अशरफ के काफी लंबे समय तक अजमेर में रहने की पुष्टि भी की है। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार पकड़े गए आरोपी मोहम्मद से कई फर्जी आईडी मिली। इनमें से एक अहमद नूरी के नाम की आईडी थी। इसने भारतीय पासपोर्ट हासिल कर लिया था। थाईलैंड और सऊदी अरब की यात्रा की थी। दस्तावेज के लिए गाजियाबाद में एक भारतीय महिला से शादी की थी। उसके पास बिहार की आईडी थी।

अजमेर का आतंक से कनेक्शन

  • 2003 में डेविड कोलमैन हेडली ने पुष्कर स्थित यहूदी धर्म स्थल खबाद हाउस की रेकी की थी।
  • 2006 में गेगल थाना पुलिस ने हथियारों का जखीरा लेकर जा रहे आतंकी मोहम्मद समीर को पकड़ा था।
  • 2007 में दरगाह में बम ब्लास्ट हुआ था।
  • 2010 में कर्नाटक एटीएस ने आतंकी यूसुफ उर्फ उमर को गिरफ्तार किया। यूसुफ ने दरगाह पुष्कर की रेकी की थी।
  • 2016 में हैदराबाद में एनआईए की गिरफ्त में फंसे आतंकी हैदराबाद निवासी मोहम्मद इब्राहिम राजदानी और हबीब मोहम्मद इलियास ने कबूल किया था कि वह लंबे समय से दरगाह इलाके में होटल दरबार पैलेस के कमरा नंबर 111 में रहे। एनआईए की टीम ने दोनों आतंकियों को इनसे होटल की तस्दीक भी करवाई थी।
  • 2021 में दिल्ली में पकडे़ गए आतंकी मोहम्मद अशरफ उर्फ नूरी उर्फ नासिर ने 14 साल पहले अजमेर में रहना कबूल किया।

दिल्ली में पकड़ा गया था आतंकी
स्पेशल सेल के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस प्रमोद कुशवाहा ने मंगलवार को बताया कि अशरफ को सोमवार रात 9.20 बजे गिरफ्तार किया गया। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने लक्ष्मीनगर इलाके से पकड़ा। वह दिल्ली के शास्त्री नगर में अली अहमद नूरी के नाम से रह रहा था। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक, अशरफ भारत में रहकर स्लीपर सेल की तरह काम कर रहा था। शुरुआती जांच में पता चला है कि अशरफ स्लीपर सेल की तरह काम करके कोई बड़ी साजिश रच रहा था।

खबरें और भी हैं...