विश्व हृदय दिवस पर विशेष:विश्व के हृदय रोगियों में 15% महिलाएं, कई को बीमारी की जानकारी ही नहीं होती

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हर साल हार्ट अटैक से विश्व में दो करोड़ लोगों की होती है मौत

विश्व में हृदय रोगी मरीजों में 15% महिलाएं हैं। इनमें कई महिलाएं ऐसी हैं जिनको इस बीमारी की जानकारी ही नहीं होती। आंकड़ों को देखें तो विश्व में 80% लोगों की मौत का कारण भी हार्ट अटैक ही माना गया है। एक सर्वे के अनुसार हर साल हार्ट की बीमारी में बरती जाने वाली लापरवाही के कारण विश्व में तकरीबन 2 करोड़ लोग की मौत हो जाती है। विश्व हृदय रोग दिवस पर भास्कर ने कार्डियोलॉजी विशेषज्ञों से जाने इसके हृदय रोग से बचाव के कारण।

चिकित्सकों का मानना है कि दिल यानी शरीर का वो सबसे खूबसूरत हिस्सा जिसके बिना जीवन ही संभव नहीं। दिल ना हो तो इमोशन नहीं, जबात नहीं, मोहबत नहीं और इन सबके बिना जिंदगी का वजूद भी संभव नहीं। दिल के सबसे अनमोल हिस्से को सुरक्षित रखने के प्रति लोग कतई वफादार नहीं हैं।

दिल का इस्तेमाल जुड़ने में करें
दिल का इस्तेमाल दूसरों के साथ जुड़ने में करने के साथ ही अच्छी आदतों व स्वस्थ जीवन शैली से जुड़ना। दिल की जरुरत है अच्छी आदतें हृदय को स्वस्थ रखने के लिए सही समय पर सही चीज खाओ, पर्याप्त नींद लेने के साथ ही तनाव से दूर रहें। एक हैप्पी हार्ट ही स्वस्थ हार्ट होता है। इसी कारण खुश रहो और ज्यादा जीओ।
-डॉ. आनंद अग्रवाल, कार्डियोलॉजिस्ट, क्षेत्रपाल हॉस्पिटल

वसा वाले आहार से खतरा ज्यादा

उच्च वसा वाले आहार हार्ट की बीमारी बड़ा रहे हैं उच्च वसा वाले आहार हृदय रोगों के लिए जोखिम को बढ़ा रहे हैं। तनावपूर्ण जीवन शैली में, यह महत्वपूर्ण हो गया है कि हम दिल को स्वस्थ रखने के लिए रचनात्मक कदम उठाएं। हृदय रोग भारत में मृत्यु दर का प्रमुख कारण बन गया हैं। हृदय रोग, स्ट्रोक सहित सीवीडी, दुनिया में हर साल 18.6 मिलियन लोगों की मौत का प्रमुख कारण है।
-डॉ. राहुल गुप्ता, कार्डियोलॉजिस्ट,
मित्तल अस्पताल

खबरें और भी हैं...