बैंक में नौकरी दिलाने का झांसा देकर ठगी:12 लोगों से हड़पे 4.25 लाख रुपए; आरोपी ने खुद को बताया RBI में अफसर

अजमेर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डेमो पिक। - Dainik Bhaskar
डेमो पिक।

बैंक में नौकरी दिलाने के लिए 12 जनों के साथ सवा चार लाख रुपए की ठगी करने का मामला सामने आया है। आरोपी ने खुद को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में चीफ जनरल मैनेजर बताकर पीड़ितों को अपने झांसे में लिया। आरबीआई से जब सूचना के अधिकार के तहत जानकारी चाही तो इसका खुलासा हुआ। पीड़ितों ने आदर्श नगर पुलिस थाने में अलग अलग मामला दर्ज कराया है।

परिवादी गढी मालियान, सामुदायिक भवन के सामने, अजमेर निवासी प्रदीप गढ़वाल, सविता गढ़वाल, मीना, अनिल झा, नितिन, जितिन ने आदर्श नगर थाने में रिपोर्ट देकर बताया कि नागौरी बेरा, मण्डौर, जोधपुर, हाल अशोक नगर, नारीशाला अजमेर निवासी मनीष गहलोत से उनका मिलना जुलना था और मनीष ने खुद को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में चीफ जनरल मैनेजर बताया। मनीष ने बैंक में नौकरी दिलाने का आश्वासन देकर उनसे दो लाख 35 हजार रुपए नकद प्राप्त किए। इसी प्रकार इसी प्रकार गढ़ी मालियान सूर्य नगर निवासी मुकेश माली, मोनू माली, मैनता सैनी, वीरेन्द्र सांखला, गजराज माली, शिवप्रकाश माली ने भी रिपोर्ट देकर बताया कि इनसे 1 लाख 90 हजार की ठगी की गई। आरोपी नागौरी बेरा, मण्डौर, जोधपुर, हाल अशोक नगर, नारीशाला अजमेर निवासी मनीष गहलोत है।

इन्होंने बताया कि जुलाई 2017 से अलग अलग किश्तों में यह राशि ली गई। लेकिन न तो नौकरी दिलाई और न ही रुपए वापस किए। बल्कि कोई ना कोई बहाना बनाकर व झूठे आश्वासन देकर आगे से आगे समय को बढ़ाता रहा है। शक होने पर आरबीआई नई दिल्ली में आरटीआई से सूचना मंगवाई तो पता लगा कि मनीष गहलोत नाम का कोई भी व्यक्ति आरबीआई की किसी भी शाखा में चीफ जनरल मैनेजर के पर पर तैनात नहीं है। तब जाकर धोखाधड़ी कर रुपए हड़पने का खुलासा हुआ। अत: आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाए। पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर दो अलग अलग मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...