पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंतिम संस्कार:अजमेर जिले में 55 और लाेगाें की कोरोना संक्रमण से माैत

अजमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काेराेना का कहर इस कदर है कि ऋषि घाटी मृक्तिधाम में शव सुबह 5 बजे से आना शुरू हाे जाते हैं। - Dainik Bhaskar
काेराेना का कहर इस कदर है कि ऋषि घाटी मृक्तिधाम में शव सुबह 5 बजे से आना शुरू हाे जाते हैं।
  • श्मशानाें में अल सुबह 5 बजे से ही हाेने लगे हैं

गुरुवार को अजमेर जिले के विभिन्न शमशान स्थलाें में 55 काेराेना संक्रमिताें के अंतिम संस्कार हुए हैं। इनमें अजमेर शहर के सात मुक्तिधामों के 28 और ग्रामीण इलाकाें के श्मशानाें में 27 संक्रमिताें के अंतिम संस्कार शामिल हैं। संक्रमण से माैताें पर आंकड़ाें का खेल गुरुवार काे भी जारी रहा। शाम 6 बजे की सूची में अजमेर जिले में महज 7 संक्रमिताें की माैत दर्शाई गई है। दूसरी ओर एक तथ्य यह भी है कि जिन माैताें काे सामान्य माना जा रहा है उनमें भी अधिकांश माैतें उन लाेगाें की हाे सकती हैं जाे काेविड के कारण घराें में आइसाेलेट हैं या जिन्हें अस्पतालाें में बेड नहीं मिले।

शहर के सात मुक्तिधामों में गुरुवार काे कुल 51 शवाें का दाह संस्कार किया हुए। ऋषि घाटी मुक्तिधाम में 1 लावारिस काेराेना संक्रमित व्यक्ति का शव भी लाया गया था। बताया जाता है कि यह लावारिस व्यक्ति अपना घर में रहता था। दाेनाें डाेज लगने के बाद भी वृद्ध की माैतकेकड़ी में न्यू शास्त्री नगर निवासी एक 65 वर्षीय वृद्ध की माैत वैक्सीन की दाेनाें डाेज लगने के बाद हुई है। वृद्ध काेराेना संक्रमित था और गुरुवार काे निधन हाे गया।

ऐसे हालात में बेपरवाही

अधिकांश श्मशानाें में काेविड अंतिम संस्कार, सेनेटाइज सिर्फ तीनशहर के अधिकांश श्मशान स्थलाें में काेविड संक्रमिताें के अंतिम संस्कार हाे रहे हैं, लेकिन प्रशासन शहर के मात्र तीन शमशानाें काे ही सेनेटाइज करता है। आंतेड़ शमशान स्थल में आज सुबह एक संक्रमित का अंतिम संस्कार हुआ लेकिन रात 8 बजे तक भी सेनेटाइज नहीं किया गया था। डिप्टी मेयर नीरज जैन का कहना है कि प्रशासन की ओर से दी गई सूची में केवल तीन मुक्तिधामाें के नाम हैं। यदि आंतेड़ मुक्तिधाम में संक्रमित शव का दाह संस्कार हुआ है ताे वहां सुबह सैनेटाइजेशन करा दिया जाएगा। इस संबंध में संबंधित अधिकारियाें से जानकारी भी ली जा रही है कि यदि संक्रमित शव का दाह संस्कार हुआ है ताे सैनेटाइनेशन क्याें नहीं कराया गया?

कोरोना से हेड कांस्टेबल नरेंद्र सिंह का निधन

15 पुलिस कर्मी हैं संक्रमितकाेराेना संक्रमण राेकने के लिए पहली पंक्ति में काम कर रहे ट्रैफिक पुलिस के जवान भी काेराेना से प्रभावित हाे रहे हैं। ट्रैफिक पुलिस के 15 जवान संक्रमित हैं, इनमें से गुरुवार काे हेडकांस्टेबल नरेंद्र सिंह ने जेएलएन अस्पताल में दम ताेड़ दिया। विशेष तथ्य यह है कि नरेंद्र सिंह ने वेक्सीन का पहला टीका 16 अप्रैल काे लगवा लिया था, जबकि 27 अप्रैल काे उनकी काेविड जांच रिपाेर्ट पाॅजिटिव आई थी।

वे उपचार रत थे। गुरुवार सुबह उनकी तबीयत ऑक्सीजन लेवल कम हाेने के कारण बिगड़ गई। उन्हें जेएलएन अस्पताल के आपातकालीन विभाग में लाया गया, जहां उपचार के दाैरान उनकी माैत हाे गई। इसी तरह मांगलियावास थाने में तैनात एक सिपाही की पत्नी की भी काेराेना संक्रमण से माैत हाे चुकी है

खबरें और भी हैं...