राम कृपा नासै सब रोगा...:99 वर्षीय बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात; जगदीशचंद्र ने कहा-समय पर ले दवाईयां, गाइड लाइन की करें पालना, ईश्वर पर रखे भरोसा

अजमेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राम कृपा नासे सब रोगा...यानी राम की कृपा से ही रोगों का नाश हो सकता है। इसलिए सभी इस महामारी के दाैर में ईश्वर पर भरोसा रखें। कोरोना गाइड लाइन की पालना करें, दवाइयां समय पर लें और घर पर ही रहें।यह कहना है केकड़ी के अजमेर रोड न्यू शास्त्री नगर निवासी 99 वर्षीय पंडित जगदीशचंद्र पांडेय का, जिन्हाेंने उम्र के इस पड़ाव में भी कोरोना को मात दे दी और अब पूर्ण रूप से स्वस्थ है।

कोरोना के कहर के बीच जहां अप्रिय समाचार ही सुनने को मिल रहे हैं, वहीं संक्रमण के इस दाैर में इनकी कहानी प्रेरणादायी है। जगदीशचन्द्र ने बताया कि 21 अप्रैल काे कोरोना का सैंपल दिए जाने के बाद से ही वे घर पर क्वारंटाइन हो गए। मुंह पर मास्सक लगाए रखा, समय पर दवा ली और काेरोना गाइड लाइन की पालना की। साथ ही गर्म पानी व हल्दी का दूध और नित्य अपनी दिनचर्या के अनुसार गायत्री माता के जाप करते रहे। हाल ही करवाई जांच में उनके शरीर में संक्रमण की ऐसी कोई स्थिति नहीं पाई गई और अब वे पूरी तरह से स्वस्थ महसूस कर रहे हैं।

आयु का शतक पूरा करने के नजदीक, रखा धेर्ये
99 वर्षीय जगदीशचंद्र पांडेय 70 वर्ष के होने तक किसानी करते थे। वहीं वे पंडिताई भी करते हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण की जद में आने के बावजूद विचलित नहीं हुआ और धेर्यें रखा। पिछले करीब साठ वर्ष से वे गायत्री महामंत्री, महामृत्युंजय और तक्षक मृत्युंजय का नित्य घंटों तक जाप करने की साधना भी कर रहे हैं। वे अपने स्वस्थ जीवन का श्रेय भी अपनी इस साधना को देते हैं क्याेंकि इसी साधना के कारण उनके जीवन में प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में उठने और स्वस्थ्य जीवन जीने की ललक लगी।

पौत्र के साथ जगदीशचन्द्र
पौत्र के साथ जगदीशचन्द्र

परिवार का मिला सहयोग, पौत्र ने की सेवा

इस रोग को हराने में उनके साथ कदम से कदम मिलाकर जहां परिवार खड़ा रहा, वहीं पाैत्र एडवाेकेट अनुराग पांडेय ने उनकी सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ी। जैसे ही कोरोना का सैंपल जांच को भिजवाया गया उसी दिन से घर की रसोई काे ऊपरी मंजिल पर अस्थाई ताैर पर शिफ्ट करवा दिया गया। पाैत्र अनुराग पांडेय बताते हैं कि उनकी माता पुष्पा देवी और पत्नी सोनिया द्वारा दूसरी मंजिल पर रसोई शिफ्ट करके भाेजन काे सुरक्षित रूप से सीढ़ियाें तक लाया जाता और दादाजी की सेवा में लगे पाैत्र अनुराग उनके कमरे में ले जाकर उन्हें भोजन करवाते।

उनके पुत्र कृष्णगाेपाल पांडेय की रिपाेर्ट पिछले दिनाें पॉजीटिव आई थी और उन्हीं के लक्षण पिता में भी दिखे। उनकी पुत्रवधु पुष्पा, पाैत्र अनुराग और उनकी पत्नी सोनिया व बड़े पाैत्र KVSS के CEO निरूपम पांडेय और पाैत्री मधु एवं इनके पति भागचंद शर्मा आदि द्वारा कोरोना के दाैरान परिवार की समस्त व्यवस्थाओं को सुचारू रखते हुए जगदीशचंद्र पांडेय के स्वास्थ्य लाभ में भूमिका निभाई गई।

(रिपोर्ट व फोटो-ज्ञानप्रकाश दाधीच)

खबरें और भी हैं...