पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरएएस इंटरव्यू घूसकांड:एसीबी ने दिया नोटिस, भैरोसिंह आज 11 बजे तक हाजिर हों

अजमेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गिरफ्तार आराेपी सज्जन और पाेसवाल की रिमांड अवधि 2 दिन बढ़ी

राजस्थान लोक सेवा आयोग में घूसखोरी प्रकरण में एसीबी ने आयाेग मेंबर राजकुमारी गुर्जर और उनके पति रिटायर्ड आईपीएस भैराेसिंह काे जांच के दायरे में लिया है। ब्यूराे ने भैराेसिंह काे नाेटिस जारी कर पूछताछ के लिए तलब किया है।

इस नाेटिस के मुताबिक उन्हें गुरुवार सुबह 11 बजे ब्यूराे के जयपुर मुख्यालय के कमरा नंबर 203 में उपस्थित हाेने के लिए कहा गया है। ये नाेटिस मानसराेवर, जयपुर स्थित भैराेसिंह के आवास पर भेजा गया, लेकिन वे नहीं मिले। इस कारण उनके आवास पर इसे चस्पा करवा दिया गया है। इसी नाेटिस की काॅपी आयाेग मेंबर राजकुमारी गुर्जर के अजमेर स्थित सरकारी आवास पर भी चस्पा की गई है।

ब्यूराे के नाेटिस पर भैराेसिंह गुर्जर यदि उपस्थित नहीं हुए ताे उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है। भैराेसिंह से पकड़े गए दाेनाें घूसखाेराें का आमना सामना कराया जाएगा। इस बीच दाेनाें आराेपियाें काे पांच दिन की रिमांड अवधि समाप्त हाेने के बाद एसीबी ने आज अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए दाे दिन का और रिमांड लिया है।

एफआईआर में फिलहाल सज्जन सिंह और नरेंद्र पाेसवाल नामजद आरोपी

एसीबी ने रिमांड आयाेग के कनिष्ठ लेखाकार सज्जनसिंह गुर्जर और राजकुमारी के भाई के टाेल नाके के सुपरवाईजर नरेंद्र पाेसवाल काे भैराेसिंह से रूबरू कराने और आराेपियाें और भैराेसिंह के बीच घूसखाेरी संबंधाें की पुष्टि के लिए ही लिया है।

जांच अधिकारी एडिशनल एसपी बजरंग सिंह के अनुसार फिलहाल एफआईआर में आराेपी सज्जनसिंह और नरेंद्र पाेसवाल काे नामजद किया गया है, लेकिन दाेनाें की बातचीत की रिकार्डिंग और इनके बयानाें से इसकी पुष्टि हाे गई है कि दाेनाें आरपीएससी मेंबर राजकुमारी के पति भैराेसिंह के नाम पर रिश्वतखाेरी करते थे।

आरपीएससी घूसखाेरी मामले में गिरफ्तार आरोपी सज्जन सिंह गुर्जर और नरेंद्र पोसवाल को रिमांड अवधि समाप्त हाेने पर बुधवार को एसीबी ने विशेष न्यायाधीश की कोर्ट में पेश किया, जहां से दाेनाें आराेपियाें की रिमांड अवधि 16 जुलाई तक बढ़ा कर एसीबी काे साैंपा गया है।

जांच अधिकारी एडिशनल एसपी बजरंग सिंह ने न्यायालय में अर्जी पेश कर दोनों आरोपियों का 3 दिन का रिमांड बढ़ाने की प्रार्थना की थी। एसीबी की ओर से रिमांड अवधि बढ़ाने का कारण बताया गया है कि आरोपियों से आरपीएससी मेंबर राजकुमारी गुर्जर और उसके पति रिटायर्ड आईपीएस भैरो सिंह के बारे में तफ्तीश करनी है।

आरोपियों से यह तफ्तीश की जानी है कि आरपीएससी मेंबर राजकुमारी और उसके पति भैरो सिंह की घूसखोरी नेटवर्क में क्या भूमिका थी? एसीबी की अर्जी स्वीकार करते हुए अदालत ने दोनों आरोपियों की रिमांड अवधि दाे दिन और बढ़ा दी। अब एसीबी आरोपियों को 16 जुलाई को न्यायालय में पेश करेगी।

एसीबी मुख्यालय में गहन पूछताछ

जांच अधिकारी एडिशनल एसपी बजरंग सिंह ने बताया कि आरोपियों और आरपीएससी मेंबर राजकुमारी गुर्जर के पति रिटायर्ड आईपीएस भैराेसिंह का आमना सामना कराया जाएगा। एफआईआर में ऐसे कई तथ्य हैं, जिनके आधार पर आरपीएससी मेंबर राजकुमारी गुर्जर और उनके पति रिटायर्ड आईपीएस भैराेंसिंह जांच के दायरे में हैं।

एसीबी एडीजी दिनेश एमएन के अनुसार मामले की जांच में मेंबर राजकुमारी गुर्जर और उनके पति भैराेसिंह का रेफरेंस ताे आया है, लेकिन अभी ऐसे तथ्य नहीं मिले हैं जिसमें इनकी प्रत्यक्ष ताैर पर रिश्वत लेने की पुष्टि हाेती है, इन्हें जांच के दायरे में रखा गया है। आरोपी सज्जन सिंह और नरेंद्र पाेसवाल रिटायर्ड आईपीएस भैरो सिंह गुर्जर से नजदीकी होने का दावा कर अभ्यर्थियों से रिश्वत लेते थे।

राजकुमारी आज लौटेंगी या नहीं!

आरपीएससी मेंबर राजकुमारी गुर्जर की अवकाश अवधि बुधवार को पूरी हो गई। अब गुरुवार को वे आयोग कार्यालय आएंगी या नहीं, इस पर लोगों की निगाह लगी हुई हैं। सज्जन सिंह गुर्जर ने आयोग सदस्य राजकुमारी गुर्जर के नाम पर ही यह रिश्वत की राशि ली थी। मामला सामने आने के बाद से ही राजकुमारी गुर्जर अवकाश पर चली गई थीं।

खबरें और भी हैं...