पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हालात बदतर:ग्रामीण इलाकों में अजमेर शहर से दोगुनी माैतें; 24 घंटे में 47 ने दम तोड़ा, विभाग ने बताईं मात्र 7

अजमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण अब गांवों में कहर बरपा रहा है। पिछले 24 घंटे में ग्रामीण इलाकों में अजमेर शहर से दोगुनी माैतों ने चिंता की लकीरें खींच दी हैं। हालात यह हैं कि शुक्रवार को जिलेभर में कुल 47 मृतकों में से 15 तो ब्यावर क्षेत्र निवासी हैं। शुक्रवार को अजमेर शहर के 7 श्मशानों में से 4 में एक भी संक्रमित शव का दाह संस्कार नहीं हुआ।

कुल 42 शवाें का दाह संस्कार मुक्तिधामाें में हुआ, इनमें से 16 काेराेना संक्रमित शव थे। हालांकि इनमें से भोपों का बाड़ा मुक्तिधाम में आए संक्रमित शख्स का दाह संस्कार गुरुवार देर रात में किया गया था। शास्त्री नगर निवासी इस व्यक्ति की पत्नी और बेटे की भी पिछले दिनों कोरोना से मौत हो चुकी है।

शुक्रवार काे ब्यावर के में 15, किशनगढ़ में 10, नसीराबाद, केकड़ी में 2-2 और राजाेसी में 1 सहित कुल 30 संक्रमिताें के अंतिम संस्कार हुए हैं। पुष्कर में भी एक संक्रमित की मौत हुई है। चिकित्सा विभाग की ओर से केवल 7 मौतों की जानकारी दी गई, जबकि जिलेभर के मुक्तिधामों में 47 संक्रमितों का अंतिम संस्कार किया गया। दूसरी ओर, शुक्रवार को जिलेभर में 450 नए कोरोना केस सामने आए। अब तक जिले में 37,707 कोरोना मरीज मिल चुके हैं, वहीं 951 की मौत हुई है। जिले में अभी 5,146 एक्टिव केस हैं।

पूरी रात एंबुलेंस में पड़ा रहा शव

गुरुवार देर शाम एक 40 साल की युवती की कोरोना से मौत हो गई। शव जेएलएन से दे दिया गया, मगर मुक्तिधाम के बंद हो जाने से परिवार के पास शव को रखने का संकट खड़ा हो गया। अंत में शव को पूरी रात एम्बुलेंस में रखा गया।

खबरें और भी हैं...