सफर तय कर पानी सागरमती नदी से होते हुए पहुंचा:आनासागर झील के पानी से रामपुरा डाबला में एनिकट की चादर चली

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पीसांगन के रामपुरा डाबला में कालेसरा रोड स्थित एनिकट की चलती चादर। - Dainik Bhaskar
पीसांगन के रामपुरा डाबला में कालेसरा रोड स्थित एनिकट की चलती चादर।

अजमेर के आनासागर एस्केप चैनल से बहकर आने वाले पानी से नजदीकी पंचायत मुख्यालय रामपुरा डाबला के कालेसरा रोड स्थित एनिकट की चादर छलक पड़ी है। इससे छलकता पानी का खेजड़ी नाडी में फैलाव होने लगा है। रामपुरा डाबला सरपंच सीमा चौधरी ने बताया कि पिछले दिनों क्षेत्र में हुई बंपर बरसात के साथ ही आनासागर एस्केप चैनल का पानी खानपुरा, दौराई, डूमाड़ा, मसीनिया, मजीतिया, नदी प्रथम व द्वितीय, भांवता, नूरियावास, बुधवाड़ा, नाथूथला होते हुए करीब 35 किलोमीटर का सफर तय कर सागरमती नदी से होते हुए रामपुरा डाबला पहुंच गया। इससे कालेसरा रोड स्थित एनीकट लबालब हो गया। एनिकट की चादर दोपहर बाद छलक पड़ी। छलकता पानी रामपुरा डाबला स्थित खेजड़ा नाडी की ओर आगे बढ़ने लगा है। नाडी में पानी की आवक शुरू हो हुई। सरपंच चौधरी ने बताया की इस सीजन में पहली बार रामपुरा डाबला स्थित सागरमती नदी में पहुंचे बंपर पानी का नजारा देखने के लिए पंचायत क्षेत्र के अलावा हनुवंतपुरा समेत अन्य गांवों के ग्रामीणों का तांता चादर के समीप लगने लगा।

बीसलपुर बांध में 12 घंटे में 4 सेमी पानी की आवक

बीसलपुर बांध में गुजरे 12 घंटे में 4 सेमी पानी की आवक हुई है। जल स्तर शनिवार की शाम 310.69 मीटर तक पहुंच गया है। त्रिवेणी नदी से बांध में लगातार पानी की आवक जारी है, त्रिवेणी के का गेज 3.80 मीटर पर चल रहा है। जलदाय विभाग बीसलपुर के एईएन रामनिवास खाती ने बताया कि शनिवार सुबह 6 बजे झील का जल स्तर 310.65 एमएम था, जो शाम 6 बजे बढ़कर 310.69 मीटर हो गया। मालूम हो कि त्रिवेणी नदी का पूर्व में गेज 3.50 मीटर चल रहा था, त्रिवेणी के मार्ग में बारिश होने के बाद इसका गेज भी 3.80 मीटर पर आ गया है। बांध में लगातार पानी की आवक होने के कारण उसका फैलाव भी बढ़ रहा है।

खबरें और भी हैं...