असम में पकड़े गए 17 बांग्लादेशी अजमेर भी घूमकर गए:टूरिस्ट वीजा नियमों का उल्लंघन कर धर्म प्रचार करने का आरोप

अजमेर2 महीने पहले
गिरफ्तार आरोपी।

असम पुलिस की ओर से टूरिस्ट वीजा नियमों के उल्लंघन करने पर गिरफ्तार किए गए 17 बांग्लादेशी नागरिक अजमेर भी घूमकर गए। सभी आरोपियों पर नियमों का उल्लंघन कर धर्म प्रचार करने का आरोप है। लेकिन अजमेर पुलिस व सीआईडी को इसकी जानकारी तक नहीं है। वहीं बिश्वनाथ-असम के SP नवीन सिंह का कहना रहा कि अभी आरोपियों से पूछताछ की जा रही है, उसके बाद अजमेर पुलिस को भी जानकारी देकर पता किया जाएगा।

प्रारम्भिक पूछताछ में पता चला है कि सितम्बर माह के पहले सप्ताह में अजमेर आकर गए थे। यहां केवल टूरिस्ट की हैसियत से आए या टूरिस्ट वीजा का उल्लंघन कर धर्मप्रचार किया। इसको लेकर पड़ताल की जा रही है। सभी आरोपी अलग-अलग समूह बनाकर अलग-अलग जगहों से असम आए । उन्हें बिश्वनाथ जिले के गिंगिया क्षेत्र के सुदूर बाघमरी इलाके से गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में पता चला कि असम आने से पहले वे राजस्थान के अजमेर शरीफ और बंगाल के कूचबिहार जिले में भी गए थे। इन सभी आरोपियों का नेतृत्व सैय्यद अशरफुल आलम कर रहा था।

बिश्वनाथ के पुलिस अधीक्षक नवीन सिंह ने कहा कि बाघमारी क्षेत्र में कोई पर्यटक आकर्षण नहीं है, इसलिए हमने यह जानने की कोशिश की कि ये विदेशी यहां क्यों आए। वे एक विशेष संप्रदाय के सदस्य हैं। हमने उन लोगों के विवरण की भी जांच की। उन्होंने अलग-अलग तारीखों में बैचों में असम में प्रवेश किया। पिछले महीने भी धार्मिक उपदेश देने को लेकर चेतावनी दी गई थी, जिसकी अनुमति पर्यटक वीजा पर नहीं है।

ये बोला अजमेर पुलिस प्रशासन...

  • अजमेर CID के एडिशनल SP रघुवीर प्रसाद शर्मा ने कहा कि इस तरह की जानकारी उनके पास अभी तक नहीं है। इसकी जानकारी लेकर जांच करवाई जाएगी। साथ ही उन्होंने दरगाह क्षेत्र में फर्जी आईडी बनाकर रह रहे बांग्लादेशी लोगों के सवाल पर कहा कि इसे लेकर हमारी टीम काम कर रही है।
  • अजमेर SP चुनाराम जाट से असम में पकड़े गए 17 बांग्लादेशी लोगों के बारे में जानकारी ली गई तो उन्होंने कहा कि इस संबंध में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। जानकारी लेकर ही कुछ कह पाएंगे।