पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • At The Age Of 5, The Hip Joint Was Broken And Stayed In The Hospital For A Year; Started With Tattooing, Learned Scuba Diving After Gold Medal In Shooting, Now Preparing For World Record

25 फीट गहरे पानी में पेंटिंग:5 साल की उम्र में हिप का जॉइंट टूटा तो एक साल हॉस्पिटल में रहे; टैटू बनाने से शुरुआत, स्कूबा डाइविंग सीखी, वर्ल्ड रिकॉर्ड की तैयारी

अजमेर10 दिन पहलेलेखक: सुनिल कुमार जैन
पानी में ऐसे की पेंटिंग

अजमेर के तोपदड़ा निवासी नितिन के.कृष्णा पानी में 25 फीट की गहराई में जाकर पेंटिंग बना देते हैं। दिव्यांग होने के बाद भी हिंद महासागर में सबसे पहले उन्होंने यह पेंटिंग बनाई थी और अभी एक स्विमिंग पूल में बनाई है। उनका दावा है कि विश्व में पहली बार ऐसा किसी ने किया है। वे खुद वर्ल्ड रिकॉर्ड का दावा कर रहे हैं। इन सभी से पहले नितिन को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। दिव्यांग होने के बाद भी वे हारे नहीं।

पांच साल की उम्र में एक हादसे के दौरान उनका हिप जॉइंट ब्रेक हो गया था। एक साल तक वे हॉस्पिटल में रहे और इसके बाद 4 साल तक हॉस्पिटल के चक्कर काटते रहे। इसके बाद भी उनका हिप जॉइंट सही नहीं हो पाया, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। टैटू बनाने से लेकर शूटिंग के में वे हमेशा विजेता रहे। नितिन ने बी.कॉम करने के बाद एम.कॉम, एलएलबी, बीएड और फाइन आर्ट में एमए किया है।

पानी की गहराइयों में जाने की तैयारी में नितिन
पानी की गहराइयों में जाने की तैयारी में नितिन

केरल में सीखी स्कूबा डाइविंग, हिंद महासागर में 30 मिनट में बनाई अंडर वाटर पेंटिंग
फाइन आर्ट में एमए करने के बाद नितिन ने अपना सफर यहीं नहीं रोका। दिव्यांग होने के बाद भी उन्होंने 2017 में 30 साल की उम्र में केरल जाकर स्कूबा डाइविंग सीखी। यहां उन्हें अंडर वाटर पेंटिंग बनाने का आईडिया आया। इसके बाद हिंद महासागर के कोल्वा बीच में 25 फीट की गहराई में जाकर उन्होंने समुद्र की पेंटिंग बनाई। जिसे बाद में वर्ल्ड आर्ट दुबई में प्रदर्शित किया गया।

इसके बाद हाल ही में कोरोना जागरूकता को लेकर स्विमिंग पूल में भी जाकर धरती को मास्क पहनने वाली पेंटिंग बना वे फिर से चर्चा में आए। इसको लेकर उनका दावा है कि विश्व में पहली बार किसी ने पानी की गहराई में जाकर ऐसा किया है। इसके लिए वर्ल्ड रिकॉर्ड का दावा भी किया गया है।

हिन्द महासागर में बनाई यह पेन्टिंग
हिन्द महासागर में बनाई यह पेन्टिंग

इसलिए पानी में नहीं आती दिक्कत
नितिन कहते हैं कि पानी में पेंटिंग के लिए वे स्कूबा किट पहनकर जाते हैं और इसमें चश्मा,ऑक्सीजन सिलेंडर,पाइप, फलोटिंग फुट पेड होते हैं। कुछ प्रेक्टिस करनी पड़ती है। पानी में पेंटिंग के लिए ऑयल कलर का इस्तेमाल करते हैं, ऐसे में कोई दिक्कत नहीं होती।

टैटू बनाने से की थी करियर की शुरूआत
टैटू बनाने से की थी करियर की शुरूआत

टैटू बनाने से शुरुआत, अब सचिवालय में लिपिक

  • 11 साल पहले पहले 2009 में उन्होंने टैटू बनाना सीखा, जब उसका कोई चलन नहीं था। इस दौरान कई कॉम्पीटीशन में उन्होंने हिस्सा लिया और विजेता रहे।
  • इसके बाद खेलों की ओर रुख किया। पिस्तौल शूटिंग सीखी व 2016 में पुणे में हुई नेशनल प्रतियोगिता में पिस्तौल शूटिंग 10 मीटर में गोल्ड मेडल जीता।
  • खेल कोटे से सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई किया। इसी साल जयपुर सचिवालय में ग्रेड सेकंड एलडीसी के पद पर उन्होंने जॉइन किया।
इस पेंटिंग के लिए कर रहे वर्ल्ड रिकॉर्ड का दावा पेश
इस पेंटिंग के लिए कर रहे वर्ल्ड रिकॉर्ड का दावा पेश
खबरें और भी हैं...