राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड:रीट 2021 काे लेकर बाेर्ड ने दाखिल की कैवियट

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हाईकाेर्ट की जाेधपुर व जयपुर बेंच में पेश की कैवियट

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 26 सितंबर को आयोजित की गई राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट जाेधपुर व जयपुर में अलग-अलग कैवियट दाखिल कर दी है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और शिक्षा विभाग द्वारा यह कैवियट राजस्थान हाईकोर्ट की जाेधपुर स्थित मुख्य पीठ व जयपुर पीठ में दाखिल की गई है।

अखिलेश राजपुरोहित ने राज्य सरकार की ओर से सचिव शिक्षा विभाग राजस्थान सरकार सचिवालय जयपुर और रीट कॉर्डिनेटर अरविंद सेंगवा की ओर से यह कैवियट फाइल की है। कैवियट के जरिये अदालत से प्रार्थना की है कि बोर्ड द्वारा ली गई रीट परीक्षा 2021 को लेकर यदि कोई भी अभ्यर्थी रिट दायर करता है तो एेसे प्रकरण में बोर्ड का पक्ष भी सुना जाए। यह कैवियट राजस्थान हाईकोर्ट रूल्स के रूल 159 के अधीन दाखिल की गई है।

सचिव अरविंद कुमार सेंगवा ने राजस्थान हाईकोर्ट जयपुर में दाखिल कैवियट में कहा कि यदि कोई अभ्यर्थी 11 जनवरी 2021 को रीट 2021 को लेकर जारी संशोधन व 26 सितंबर 2021 को आयोजित रीट परीक्षा जो कि तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती लेवल प्रथम व लेवल द्वितीय के लिए हुई है उसकी परीक्षा प्रक्रिया आदि को लेकर बोर्ड के विरुद्ध रिट दायर करता है तो उसमें बोर्ड का पक्ष भी सुना जाए। सचिव बोर्ड की ओर से वकील विज्ञान शाह का वकालत नामा पेश किया गया है।

गंगापुर सिटी प्रकरण में बोर्ड को जांच रिपोर्ट का इंतजार

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को रीट 2021 परीक्षा के दौरान गंगापुर सिटी में हुए प्रकरण को लेकर जांच रिपोर्ट मंगलवार को भी नहीं मिल पाई है। बोर्ड के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि बोर्ड अध्यक्ष व रीट समन्वयक डॉ. डीपी जारोली ने एक दिन पहले ही बयान दिया है कि गंगापुर सिटी प्रकरण में जिला परीक्षा संचालन समिति की रिपोर्ट आएगी, इस आधार पर ही आगे की कार्यवाही की जाएगी। इधर, प्रदेश भर में अभ्यर्थी इस प्रकरण को लेकर बोर्ड के निर्णय का इंतजार कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि रविवार को रीट 2021 आयोजन के दौरान गंगापुर सिटी में परीक्षा शुरू होने से पहले ही करीब सुबह 8.30 बजे पर्चा व उसके आंसर बाहर आ गए थे। यह प्रकरण उजागर होने के बाद प्रदेश भर में रीट से जुड़े अभ्यर्थियों में परीक्षा को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। बोर्ड की ओर भी अभ्यर्थियों की निगाहें लगी हैं। अभ्यर्थी इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि बोर्ड स्पष्ट करे कि गंगापुर सिटी में पेपर लीक हुआ है या नहीं। दरअसल प्रकरण के दो दिन बाद भी बोर्ड ने उक्त मामले में स्थिति स्पष्ट नहीं की है।

नकल गिरोह के सरगना को दबोचने बीकानेर पहुंची पुलिस

मदनगंज-किशनगढ़ | रीट परीक्षा के दौरान अग्रवाल स्कूल में चप्पल में डिवाइस लगाकर नकल करने के मामले में पुलिस आरोपी अभ्यर्थी गणेश जाट को साथ लेकर मुख्य सरगना तुलसाराम को पकड़ने के लिए बीकानेर पहुंच गई। पुलिस ने जगह-जगह दबिश दी लेकिन तुलसाराम का सुराग नहीं मिला। पुलिस को पकड़ने के लिए पकड़े गए अभ्यर्थी गणेश ढाका से नेटवर्क में शामिल अन्य सदस्यों के बारे में जानकारी जुटाने में लगी है। पुलिस ने बीकानेर, चूरू पुलिस से भी संपर्क कर आरोपियों के बारे में जानकारी ली है। पुलिस गिरोह में शामिल लोगों की हिस्ट्री निकालकर उनकी धरपकड़ के प्रयास कर रही है।

सबसे पहले प्रकरण में शामिल गिरोह का मुख्य सरगना बीकानेर के चाणक्य इंस्टीट्यूट संचालक तुलसाराम है। आरोपी गणेश ने चूरू में ही डिवाइस में लगी सिम एक साल पहले खरीदने की बात कबूली है। मालूम हो कि 26 सितंबर रविवार को चूरू निवासी गणेश जाट को पुलिस ने आचार्य धर्मसागर स्कूल में रीट की परीक्षा देते समय डिवाइस लगी चप्पल में ब्लूटूथ लगाकर नकल करते हुए पकड़ा था। सबसे पहले बीकानेर पुलिस ने कार्रवाई कर तीन लोगों को पकड़ा था। वहां से स्थानीय पुलिस को गणेशा के बारे में इनपुट मिला और उसके नकल करते हुए पकड़ लिया गया।

पुष्कर में पकड़े गए गिराेह के शातिर श्रवणराम ने उगले कई राज, रीट के अलावा कई परीक्षाओं के लिए करते थे सौदेबाजी

रीट में पास कराने का झांसा देकर अभ्यर्थियों से सौदेबाजी करने के मामले में पुष्कर से पकड़े गए श्रवणराम की रिमांड अवधि समाप्त हाेने पर पुलिस ने उसे अदालत के आदेश से न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है। आराेपी के बयानाें से जानकारी मिली है कि उसका गिराेह रीट के अलावा स्टेनाेग्राफर व कर्मचारी चयन आयाेग की विभिन्न परीक्षाओ में डमी अभ्यर्थी बैठाने और पास कराने का झांसा देकर लाखाें रुपए ऐठ चुका है। आराेपी श्रवणराम के माेबाइल फाेन में विभिन्न प्रतियाेगी परीक्षाओ के अभ्यर्थियाें के प्रवेश पत्र, फाेटाे और अन्य दस्तावेज की फाेटाे बरामद हुई है।

कई अभ्यर्थी के मोबाइल नंबर व वाट्सएप चैट मिले : सहायक पुलिस अधीक्षक आईपीएस सुमित मेहरड़ा के अनुसार आरोपियों की मोबाइल चैटिंग में रीट परीक्षा के कई अभ्यर्थियों के दस्तावेज और अन्य कागजात मिले हैं। श्रवण रीट परीक्षा में परीक्षार्थी की जगह अन्य को बैठाकर परीक्षा पास कराने, पेपर देने व सरकारी नौकरी लगवाने के झांसे देकर बेरोजगार छात्रों से सौदेबाजी कर रहा था। इससे बरामद मोबाइल में रीट परीक्षा के अभ्यर्थियों से चैटिंग में परीक्षा में पास कराने के नाम पर रुपए के लेनदेन की बातचीत पुष्टि हुई है। आरोपी के मोबाइल में जयपुर के संदीप पांडे का नंबर 89202504, कुचामन के मोबाइल नंबर 787 926 3807, जयपुर के सुशील के नंबर 86961999646, श्रवण राम के मोबाइल नंबर 9501 8646 42 पर अभ्यर्थियों को पास करने और उनसे वसूली की चैटिंग की पुष्टि हुई है।

आरोपी के मोबाइल में एक ऑडियो रिकॉर्डिंग भी मिली : उसके मोबाइल में मोनिका यादव, नरेंद्र, लोकेश चौधरी, विनय चौधरी, राजेश कुमार मीणा, रामधन मीणा के रीट परीक्षा के प्रवेश पत्र एवं सचिन गुर्जर लक्ष्मण गुर्जर धनराज बागोर के कर्मचारी चयन बोर्ड का एडमिट कार्ड, प्रवेश कार्ड और राजेश कुमार मीणा स्टेनोग्राफर के रोल नंबर मिले हैं। आरोपी के मोबाइल में एक ऑडियो रिकॉर्डिंग भी मिली है जिसमें दो व्यक्तियों के बीच परीक्षार्थियों से पैसों के लेनदेन के संबंध में बातचीत है। राजेश कुमार मीणा, विनय चौधरी की भी व्हाट्सएप चैट आरोपी के मोबाइल में मिली है।

खबरें और भी हैं...