पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Celebrated Goodbye Zuma; In The Second Year Also, Akidatmand Prayed In Johar's Namaz Houses, And Prayed For The Elimination Of Corona.

अजमेर में कोरोना के बीच रमजान मुबारक:अलविदा जुमा मनाया; दूसरे साल भी अकीदतमंद ने जोहर की नमाज घरों में ही अदा, कोरोना के खात्मे के लिए भी दुआ की

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर दरगाह - Dainik Bhaskar
अजमेर दरगाह

मुस्लिम समुदाय ने शुक्रवार को अलविदा जुमा मनाया। कोरोना संक्रमण के चलते लागू लाॅकडाउन को देखते हुए अकीदतमंदाें ने दूसरे साल भी घरों पर ही जोहर की नमाज अदा की। अब तरावीह की नमाज में जारी कुरान शरीफ का दौर रविवार को पूरा हो जाएगा।

अलविदा जुमे पर भी दरगाह स्थित शाहजहांनी मस्जिद समेत शहर की सभी मस्जिदों में लॉकडाउन के चलते अकीदतमंद नमाज अदा करने नहीं पहुंचे। दरगाह में जायरीन व आम लोगों की आवाजाही बंद है। इधर, खादिम मोहल्ला, अंदरकोट, घोसियान मोहल्ला सहित विभिन्न क्षेत्रों में लोगों ने घरों में ही जोहर की नमाज अदा की। महिलाओं और बच्चों ने भी घरों में ही नमाज अदा कर शुक्राना अदा किया। कोरोना के खात्मे के लिए भी दुआ की गई।

कोरोना संक्रमितों की संख्या में वृद्धि के बाद लगाए गए लॉक डाउन को देखते हुए सुन्नी दावते इस्लामी अजमेर के निगरां मौलाना मोईनुद्दीन और जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मोहम्मद जलालुद्दीन ने लोगों से घरों में ही जोहर की नमाज अदा करने का आग्रह किया था। इससे पूर्व दरगाह नाजिम अशफाक हुसैन भी ऐसी अपील कर चुके हैं। इसे देखते हुए अकीदतमंद ने सरकार की गाइड लाइन की पालना करते हुए घरों में ही नमाज अदा की।

अजमेर के शहर काजी तौसीफ अहमद सिद्दीकी ने बताया कि रविवार 9 मई को शबे कद्र है और हर साल रोज़ेदार ओर मुसलमान रात भर जाग कर मस्जिद और दरगाहों में इबादत करते है। लेकिन इस बार घरों में ही करें। गौरतलब है कि पिछले साल भी जुमातुल विदा लॉक डाउन के दौरान ही आया था। उस समय भी अकीदतमंद ने घरों में ही जुमे की बजाए जोहर की नमाज ही घरों में अदा की थी।

खबरें और भी हैं...