• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Cheated By Bluffing The SI Of CRPF; The Thugs Won The Trust By Sending Their Own Reliance ID, Took The Amount From The Alwar Resident Victim In 9 Times, When The Money Was Not Received, FIR Was Lodged

2 लाख के लोन के लिए गवाएं पौने 2 लाख:CRPF के SI को झांसा देकर ठगी; ठगों ने खुद को बताया फाइनेंस कंपनी का कर्मचारी , 9 बार में हड़पे रुपए, नहीं लौटाने पर कराई FIR

अजमेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये भेजा लोन का लेटर। - Dainik Bhaskar
ये भेजा लोन का लेटर।

अजमेर के CRPF GC-2 में पोस्टेड सब इंस्पेक्टर को दो लाख के लोन का झांसा देकर पौने दो लाख रुपए की ठगी कर ली गई। यह राशि ठगों ने 9 बार में ली। पीड़ित को वसूली गई यह राशि लोन के साथ वापस लौटाने का झांसा दिया, लेकिन जब न तो लोन मिला और न ही दी गई राशि तो पीड़ित ने गंज पुलिस थाने पहुंचकर मुकदमा दर्ज कराया। पीड़ित सब इंस्पेक्टर विक्रमसिंह अलवर जिले के बहरोड के निकट गंडाला गांव का निवासी है। खास बात यह है कि आरोपियों ने खुद की रिलायंस फाइनेंस की ID और आधार सहित दस्तावेज भेजकर पीड़ित का विश्वास जीता।

एक आरोपी आलोक कुमार सिंह की भेजा गया आईडी कार्ड
एक आरोपी आलोक कुमार सिंह की भेजा गया आईडी कार्ड

ऐसे की ठगी की शुरूआत

विक्रमसिंह ने बताया कि अपने आपको दिल्ली में रिलायंस फाइनेंस लिमिटेड का कर्मचारी बताते हुए आलोक कुमार सिंह व वेदप्रकाश साहू ने 31 जुलाई को लोन की जरूरत के बारे में पूछा। लोन की जरूरत के लिए हां करने पर मेरे आधार कार्ड, पेन कार्ड व बैंक पास बुक की फोटो कॉपी मांगी। इसे भेजने से पहले उनके दस्तावेज मांगे तो कंपनी के आईडी कार्ड सहित खुद के आधार कार्ड व पेन कार्ड भी भेज दिए। इस पर विश्वास हो गया और उन्होंने लोन स्वीकृति के लिए पहली बार 1500 रुपए चार्ज मांगा। यह भी मैंने ऑनलाइन जमा करा दिए।

दूसरे कार्मिक वेदप्रकाश साहू का आईडी कार्ड
दूसरे कार्मिक वेदप्रकाश साहू का आईडी कार्ड

नौ बार में लिए 1 लाख 78 हजार 847 रुपए

विक्रमसिंह ने बताया कि इसके बाद बताया कि दो लाख का लोन सेंक्शन हो गया है और इसके लिए आपको कुछ राशि जमा करानी पडे़गी, जो लोन के साथ आपको वापस मिल जाएगी। इसके बाद झांसे पर झांसा देकर 1 लाख 78 हजार 847 रुपए ले लिए। इसके लिए बार बार वे लोन अप्रूवल लेटर भी भेज रहे थे, जिसमें उनके द्वारा दी गई राशि के साथ दो लाख के लोन की राशि भी थी। 3 अगस्त को अंतिम बार राशि भेजी। इसके बाद भी और राशि भेजने की बात कह रहे थे।

जब लोन नहीं मिला तो कराई FIR

विक्रमसिंह ने बताया कि जब लोन नहीं मिला तो खुद को रिलायंस कंपनी का कर्मचारी बताकर ठगी करने वाले बजरंग चौक, पलोद, टेकरी, रायपुर, छत्तीसगढ़ निवासी वेदप्रकाश साहू व पूरे लक्ष्मी नारायण गोपालपुर परशदेपुर रायबरेली सलोन अमेठी उत्तर प्रदेश निवासी आलोक कुमार सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

खबरें और भी हैं...