पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धाेखाधड़ी का मामला:ट्रांसपोर्टर्स के व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़कर ठगा, दो गिरफ्तार

अजमेर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

यदि आपके व्हाट्सएप ग्रुप में काेई अनजान नंबर है या फिर आप किसी ऐसे ग्रुप से जुड़े हैं जिसका एडमिन ही आपके लिए अनजान है ताे सावधान रहें। क्रिश्चियन गंज थाना पुलिस ने साेमवार काे यूपी के दाे शातिर ठगाें काे गिरफ्तार किया है। दाेनाें ठग ट्रांसपाेर्ट काराेबारियाें के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े हैं।

ग्रुप में जैसे ही काेई काराेबारी माल भिजवाने काे लेकर मैसेज करता, ठग उसे रीड कर सीधे संबंधित काराेबारी काे काॅल कर बाजार रेट से कम मालभाड़ा बताकर खाते में पैसे जमा करवा लेते। इसी तरह से इन ठगाें ने अजमेर के एक ट्रांसपाेर्ट काराेबारी का वारदात का शिकार बनाया था। पुलिस ने आराेपियाें से 44000 रुपए बरामद किए हैं।

बदायूं यूपी निवासी प्रिंस अराेड़ा उर्फ अनुराग जैन पुत्र राजेश अराेड़ा और गाजियाबाद विजननगर निवासी शाेभित झा पुत्र उमेश बाबू काे गिरफ्तार किया गया। दाेनाें आराेपियाें ने जनाना राेड संस्कृति स्कूल के पास रहने वाले रामकिशाेर यादव काे धाेखाधड़ी की वारदात का शिकार बनाया था।

परिवादी यादव ट्रांसपाेर्टर हैं। ट्रांसपोर्टर्स के व्हाट्सएप ग्रुप में उन्हाेंने मैसेज डाला था कि माल नसीराबाद से राजकाेट भिजवाना है। इसके बाद एक माेबाइल नंबर 6397752448 से काॅल आया। जिस युवक का काॅल था, उसने खुद का नाम अंशुल जैन बताया और 57 हजार रुपए का माल भाड़ा तय किया।

इस पर उसके खाते में 44000 रुपए जमा करवा दिए गए। लेकिन उक्त युवक ने माल की गाड़िया रवाना नहीं की। पीड़ित यादव की रिपाेर्ट पर पुलिस टीम ने दाेनाें आराेपियाें काे यूपी के एक आलीशान फ्लेट से धर दबाेचा।

इस टीम ने किया खुलासा : एसपी जगदीश चंद्र शर्मा के दिशा-निर्देशाें पर सीओ नाॅर्थ डाॅ. प्रियंका के सुपरविजन में टीम गठित की गई थी। टीम में सीआई डाॅ. रविश सामरिया के नेतृत्व में हैड कांस्टेबल किशाेर कुमार, कांस्टेबल मूलाराम और कांस्टेबल सुरेंद्र कुमार काे शामिल किया गया।

खबरें और भी हैं...