किसान आंदोलन का समर्थन:पैदल मार्च में थोड़ी दूर ही चली बैलगाड़ी; कांग्रेसी बोले- PM हठधर्मिता छोडे़, वापस ले तीनों काले कानून

अजमेरएक वर्ष पहले
कांग्रेस के पैदल मार्च में बैलगाड़ी
  • कांग्रेस कार्यालय से शुरू हुआ मार्च,

किसान आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस ने अजमेर में विभिन्न मार्गों से पैदल मार्च निकाला और केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से हठधर्मिता छोड़कर तीनों काले कानून वापस लेने की मांग की। रैली में बैलगाड़ी भी चलाई गई, लेकिन यह ज्यादा देर नहीं चली। केसर गंज से शुरू हुए पैदल मार्च में मदार गेट से बैलगाड़ी चली और बैल ढलान पर बिदक गया। ऐसे में गांधी भवन पर ही बैल गाड़ी छोड़नी पड़ी। मार्च का समापन आगरा गेट पर हुआ।

पैदल मार्च में शामिल महिलाएं
पैदल मार्च में शामिल महिलाएं

शहर जिला कांग्रेस कमेटी की ओर से अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर केसर गंज स्थित कांग्रेस कार्यालय से पैदल मार्च की शुरुआत हुई। निवर्तमान जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय जैन ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से लाए गए तीनों कृर्षि कानून किसान हितैषी नहीं है और कॉर्पोरेट कंपनियों​ के इशारे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यह कानून बनाए। इन कानूनों का देशभर में विरोध हो रहा है।

केन्द्र सरकार के तीनाें कानूनों को लेकर किसान कईं दिनों से आंदोलन कर रहे हैं लेकिन केन्द्र सरकार पर जूं तक नहीं रेंग रही। कांग्रेस किसानों के साथ है और अंतिम समय तक आंदोलन का समर्थन करेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से हठधर्मिता छोड़कर तीनों कानूनों को वापस लेना चाहिए।

पैदल मार्च निकालते कांग्रेसी
पैदल मार्च निकालते कांग्रेसी

किसानों के समर्थन में केसर गंज से पैदल मार्च से शुरू किया गया है, जो शहर के विभिन्न मार्गों से निकाला गया। मार्च का समापन आगरा गेट पर हुआ। इस दौरान बैलगाड़ी भी शामिल की गई। रैली में हेमन्त भाटी, डॉ. गोपाल बाहेती, महिला कांग्रेस की शबा खान आदि मौजूद रहे।