लापरवाही / मुख्यमंत्री के आदेश के बावजूद भी हाईवे पर श्रमिकों का पैदल जाने का सिलसिला जारी

Despite the Chief Minister's order, the process of walking on the highway continues
X
Despite the Chief Minister's order, the process of walking on the highway continues

  • राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 पर रोजाना दिख जाते हैं मजदूर

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

खरवा. मुख्यमंत्री या अन्य जिला स्तरीय अधिकारी कितनी भी घोषणा करें, वैश्विक महामारी के दौर में संकट से निपटने के लिए लोगों को राहत देने के लिए कितने ही आदेश जारी करें। मगर इसके लिए जिम्मेदार स्थानीय अधिकारी जब तक सड़कों पर नहीं निकलेंगे चाहे मुख्यमंत्री हो अथवा जिला स्तरीय अधिकारी उनके आदेशों की ने तो पालना होगी और नहीं जरूरतमंदों को सहायता मिलेगी।
शाम होते होते आप हाईवे पर निकल जाइए आपको निश्चित रूप से राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 पर सिर पर बोले कंधों पर बैग और हाथों में थैली लेकर अपने गांव जाने के लिए आप तो श्रमिकों को चलता हुआ देख पाएंगे।
आदेश हैं सड़कों पर पैदल जाते नहीं दिखें मजदूर
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 4 दिन पहले स्पष्ट और सख्त आदेश देकर उपखंड स्तरीय अधिकारियों को पाबंद किया था कि कोई भी श्रमिक सड़क पर पैदल चलता हुआ नहीं दिखना चाहिए। इतना ही नहीं यह भी निर्देशित किया गया था कि उनके खाने-पीने ठहरने और रोडवेज से गंतव्य स्थान पर पहुंचाने की व्यवस्था की जाए। जब इस संबंध में तहसीलदार मसूदा से जानकारी चाही तो उन्होंने कहा कि मेरी जानकारी में कोई भी श्रमिकों के पैदल आने जाने की सूचना नहीं है। उल्लेखनीय है कि हाईवे पर न केवल मसूदा क्षेत्र के अपितु ब्यावर सहित अजमेर के अधिकारियों का भी आवागमन रहता है मगर किसी ने इन्हें रोकने की कोशिश नहीं की। 
सरकार के आदेश तो हैं मगर मेरी जानकारी में किसी ने भी नहीं बताया कि सड़कों पर कोई पैदल समेत गुजर रहे हैं।
प्रभात त्रिपाठी, तहसीलदार, मसूदा
^स्थानीय प्रशासन द्वारा बसों की मांग किए जाने पर हम व्यवस्था करने के लिए तैयार हैं। जब गुजरात के रतनपुर बॉर्डर से श्रमिकों का आगमन हो रहा था तब ब्यावर बस स्टैंड ही सेंटर था जहां से श्रमिकों को गंतव्य तक पहुंचाया।
रघुराज सिंह राजावत, मुख्य प्रबंधक

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना