पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अलविदा:दिलीप कुमार ने दरगाह कमेटी का सदस्य रहते दिल्ली में हुई बैठक में शिरकत की थी

अजमेर16 दिन पहलेलेखक: आरिफ कुरैशी
  • कॉपी लिंक
  • ट्रैजेडी किंग अभिनेता दिलीप कुमार दरगाह कमेटी के मेंबर भी रहे

ट्रेजिडी किंग दिलीप कुमार ख्वाजा साहब की दरगाह का प्रबंधन संभालने वाली दरगाह कमेटी के मेंबर रह चुके हैं। यह और बात है कि समय ना मिलने की वजह से दिलीप कुमार केवल दिल्ली में हुई कमेटी की एक बैठक में ही शिरकत कर पाए। उसके बाद इस पद से इस्तीफा दे दिया। दरगाह कमेटी के पूर्व नाजिम अलीम बाबू ने पुरानी यादें ताजा करते हुए यह राज खोला। अलीम बाबू बताते हैं कि तत्कालीन केंद्रीय वक्फ मंत्री जनरल शाहनवाज ने दिलीप कुमार को दरगाह कमेटी का सदस्य नियुक्त किया था। संभवत: यह 1975-76 की बात है। कारण, उस समय दरगाह नाजिम महमूद अली साहब थे। उन्हीं के कार्यकाल के दौरान दिलीप कुमार मेंबर रहे थे।

बहन से मिलने आते थे हाजी सैयद मुकद्दस मोइनी बताते हैं कि दिलीप कुमार की बड़ी बहन सकीना खान फूस की कोठी में रहती थीं। दिलीप साहब उनसे मिलने आते थे। यह उस समय की बात है जब दिलीप कुमार की सायरा बानो से शादी नहीं हुई थी। बड़ी बहन के कहने पर ही सायरा बानो से शादी की थी।

फैंस दीवाने थे दिलीप साहब के | यादों के झरोखों में झांकते हुए शूटिंग अरेंजमेंट करने वाले बाबू भाई घोसी बताते हैं कि नवाब लुहारु व राज्य के पूर्व चिकित्सा मंत्री एतमाद उद्दीन खान दुर्रु मियां के साथ दिलीप कुमार हैदराबाद निवासी दूसरी पत्नी असमा खान के साथ दरगाह जियारत को आए थे। जियारत के बाद उन्हें सर्किट हाउस ले जाया गया। सर्किट हाउस पर भी प्रशंसकों का जमावड़ा था। लोग दिलीप साहब से मिलने के लिए बेताब थे।

एक युग की समाप्ति : अमीन पठान

दरगाह कमेटी के चेयरमैन अमीन पठान ने दिलीप कुमार के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि हिन्दी फिल्मों के लोकप्रिय अभिनेता जिनको सदी का बेहतरीन कलाकार माना जाता है तथा ‘ट्रेजिडी किंग’ के रूप में भी मशहूर रहे साथ ही भारत की गंगा जमुनी तहजीब के पैरोकार रहे। उनका निधन भारतीय सिनेमा जगत के लिए अपूरणीय क्षति है व एक युग की समाप्ति है।

खबरें और भी हैं...