पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नशीली दवा:नशीली दवा प्रकरण : आराेपी साजिद चार दिन के पुलिस रिमांड पर

अजमेर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नशीली दवा के काले काराेबार में गिरफ्तार आराेपी शेख साजिद उर्फ कलाम काे पुलिस ने अदालत में पेश कर चार दिन के रिमांड पर लिया है। पुलिस साजिद से काले काराेबार के मास्टरमाइंड विनायक मेडीकल फर्म के संचालक बीके काैल नगर निवासी श्याम सुंदर मूंदड़ा के नेटवर्क के बारे में पूछताछ कर रही है। मामले की जांच कर रहे क्लाक टावर थाना प्रभारी दिनेश कुमावत ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में साजिद ने कबूल किया है कि वह श्यामसुंदर मूंदड़ा के लिए काम करता था और उसका माल एक ट्रांसपाेर्ट से दूसरे ट्रांसपाेर्ट कंपनी तक पहुंचाया करता था।

उससे मुख्य आराेपी मूंदड़ा और नशे के काले काराेबार के नेटवर्क में शामिल लाेगाें के बारे में पूछताछ की जा रही है। आराेपी कलाम विनायक मेडिकल में डेढ़ महीने पहले तक कार्यरत था। कुमावत के अनुसार अाराेपी साजिद से रिमांड के दाैरान मूंदड़ा के काराेबार से जुड़े लाेगाें की तस्दीक कराई जाएगी। अजमेर एवं जयपुर में करीब 11 कराेड़ रुपए की प्रतिबंधित नशीली दवाई बरामद की गई थी। पुलिस ने न्यू ट्रांसपाेर्ट नगर स्थित लतीफ के गोदाम से दवा के 114 कार्टन बरामद किए थे। मामला उजागर होने के साथ ही पुलिस ने दो आरोपियों मोमिन शाह एवं कालूराम जाट को गिरफ्तार किया था।

यह दाेनाें गाेदाम व ट्रांसपाेर्टर के मजदूर हैं। दाेनाें काे पुलिस ने अदालत के आदेश से जेल भेज दिया है। दूसरी ओर अब तक की जांच में यह सामने आ चुका है कि जयपुर की फर्म रमैया से मूंदड़ा ने ही दवाओं की यह खेप मंगवाई थी, जबकि जयपुर की फर्म के संचालक पुलिस जांच में सहयाेग नहीं कर रहे हैं। पुलिस ने जयपुर में रमैया फर्म काे दवा सप्लाई करने वाली तीन कंपनियाें से भी तस्दीक कर ली है।

कंपनियाें ने पुलिस काे दवा सप्लाई की वैधता के प्रमाण दिए हैं। इससे यह ताे साबित हाेता है कि कंपनियाें से दवा की खरीद काे नियमानुसार की गई है, लेकिन इस नशीली दवाओं की सप्लाई अजमेर सहित देश के अन्य शहराें में अवैध तरीके से की जा रही थी। इस मामले में पुलिस श्यामसुंदर मूंदड़ा की तलाश कर रही है। उसके बयान से ही नशे के काले काराेबार के नेटवर्क से परदा उठ पाएगा।

खबरें और भी हैं...