पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Every Family Will Get 8 Medicinal Plants; Forest Department Will Prepare, Distribution Of Giloy, Ashwagandha, Kalmegh And Tulsi Plants In July

घर-घर औषधि योजना:हर परिवार को मिलेंगे 8 औषधीय पौधे; वन विभाग करेगा तैयार, जुलाई में होगा गिलोय, अश्वगंधा, कालमेघ व तुलसी पौधों का वितरण

अजमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार की ओर से लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। इसके साथ ही आमजन भी संक्रमण के बचाव के लिए अपने स्तर पर प्रयास कर रहा है। कोरोनाकाल में लोगों का रुझान आयुर्वेद चिकित्सा के प्रति भी बढ़ा है। कोरोनाकाल में लोगों ने औषधीय गुण वाले प्राकृतिक पौधों का उपयोग कर अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया है।

औषधीय पौधों को लोगों के घरों, खेतों और निजी जमीनों के समीप उगाने में सहायता करने के लिए सरकार ने घर-घर औषधि वितरण योजना शुरु की है। इसी के तहत वन विभाग द्वारा उनकी नर्सरी में औषधीय गुणों से भरपूर इन पौधों को तैयार किया जाएगा। एक परिवार को चार प्रकार के 8 पौधे निशुल्क वितरित किए जाएंगे। 5 वर्षों के लिए लागू की गई इस योजना में राज्य के लगभग 1 करोड़ 26 लाख परिवार लाभान्वित होंगे। जुलाई माह तक पौधे तैयार कर आमजन को वितरण किया जाएगा।

अजमेर जिले में 5 लाख परिवार होंगे लाभान्वित
योजना के तहत अजमेर जिले के भी लाखों परिवारों को औषधीय गुणों वाले पौधे प्राप्त होंगे। वन विभाग द्वारा अजमेर जिले की वन विभाग के अंतर्गत आने वाली नर्सरी में कुल 21 लाख 62 हजार 886 पौधे तैयार किए जाएंगे। इन पौधों को जिले के 04 लाख 91 हजार 565 परिवारों को वितरित किया जाएगा। पौध वितरण के समय लाभार्थी के जन आधार कार्ड अथवा आधार कार्ड का विवरण दर्ज किया जाएगा। जिससे योजना के प्रबोधन एवं मूल्यांकन में सहायता होगी। साथ ही अगले वर्ष जिन परिवारों को लाभ दिया जाना है उनका चिह्नीकरण आसान होगा।

कई रोगों के उपचार में कारगर ये पौधे...

  • गिलोय- मधुमेह, खांसी, एनीमिया, पीलिया, चर्म रोग, बुखार आदि में।
  • अश्वगंधा- शरीर को ताकत मिलती है। सूजन कम करने के साथ दमा, खांसी, हृदय से जुड़ी तकलीफों में, गर्भवती महिला को पोषण देता है।
  • कालमेघ - पीलिया, लीवर और पेट की बीमारियों में लाभदायक। लीवर की समस्या में यह मुख्य औषधि है।
  • तुलसी : यह एंटी ऑक्सीडेंट रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है।

योजना के प्रमुख उद्देश्य

  • प्रदेश में औषधीय गुण वाले पौधे अपने घरों में उगाने के इच्छुक लोगों को वन विभाग की पौधाशालाओं में उपलब्ध कराया जाना।
  • इम्यूनिटी बढ़ाने तथा चिकित्सा के लिए उपयोगी औषधीय पौधों की उपयोगिता के बारे में बताकर आमजन को जागरुक करना।
  • औषधीय पौधों के प्राथमिक उपयोग व बढ़ावा देने के लिए आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग के सहयोग से प्रमाण-आधारित जानकारी उपलब्ध कराना।
  • जन-प्रतिनिधियों, पंचायतीराज संस्थाओं, विभिन्न राजकीय विभागों व संस्थानों, विद्यालयों और औद्योगिक घरानों का सहयोग लेकर क्रियान्वित करना।
खबरें और भी हैं...