पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रॉपर्टी कारोबारियों का लगा रहता है जमघट:नगर निगम में टेबल पर बिखरी हैं फाइलें, एडीए की तर्ज पर हो लाॅक एंड की व्यवस्था

अजमेर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर विकास प्राधिकरण में इस तरह लाॅक एंड सिस्टम में सुरक्षित रहती है पत्रावलियां। - Dainik Bhaskar
अजमेर विकास प्राधिकरण में इस तरह लाॅक एंड सिस्टम में सुरक्षित रहती है पत्रावलियां।

नगर निगम के मानचित्र, अवैध निर्माण, संस्थापन सहित विभिन्न महत्वपूर्ण शाखाओं में आज भी कमर्शियल व दूसरी पत्रावलियां टेबल व अलमारियाें पर ऐसे ही खुले में पड़ी हैं। इस फाइलें गुम हाेने के बाद भी इन महत्वपूर्ण पत्रावलियाें की सुरक्षा काे लेकर आज तक नगर निगम प्रशासन कतई गंभीर नहीं दिखा।

सुरक्षा के नाम पर फाइलाें काे अलमारी के ऊपर या बैग में रखकर इतिश्री की जा रही है। इन कक्षाें में सुरक्षा के लिए सीसी टीवी कैमरे तक नहीं लगे हुए हैं। जहां पर तीसरी नजर लगी है उनकाे तिरछा कर दिया गया है। मानचित्र, संस्थापन जैसे महत्वपूर्ण कक्षाें में आमजन का प्रवेश नहीं हाेना चाहिए लेकिन वहां पर दिन भर प्रॉपर्टी डीलर व दलालाें का जमघट लगा रहता है। इसी की परिणिति है कि आए दिन वहां से महत्वपूर्ण फाइलें गायब हाे जाती है या कर दी जाती हैं। न्यू मैजेस्टिक सिनेमा व अंदरकोट की पत्रावली इसका सबसे बड़ा उदाहरण हैं।

एडीए जैसी व्यवस्था हो तो चाेरी नहीं : अजमेर विकास प्राधिकरण में लगातार फाइलें चाेरी हाेने के बाद वहां पर अब लाॅक एंड की जैसी व्यवस्था लागू की गई है। याेजना, नक्शा सहित महत्वपूर्ण विभागाें में विशेष अलमारियां बनवाई गई हैं। इन अलमारियाें में रेक हाेने के साथ ही बंद रहती हैं। पता ही नहीं चलता कि उनमें फाइलें रखी हुई है।

एडीए ने अपनी पत्रावलियाें के लिए फाइल ट्रेकिंग सिस्टम बना रखा है। हर फाइल काे एक नंबर दिया हुआ है। उस नंबर काे कम्प्यूटर में डालते ही पता चल जाता है कि अभी संबंधित पत्रावली किस शाखा में किस अधिकारी के पास है। ऐसे में उन फाइलाें के गुमने की समस्या नहीं रहती। यह व्यवस्था निगम काे यहां पर भी करनी चाहिए, लेकिन आज भी निगम में आवक जावक शाखा के ऑफ लाइन रजिस्टर के भराेसे ही फाइलें इधर से उधर भेजी जा रही हैं।

खबरें और भी हैं...