दरगाह का सालाना उर्स:पहली बार पेश हुई अफगानिस्तान के राष्ट्रपति की चादर; मजबूत रिश्तों के लिए मांगी दुआ

अजमेर10 महीने पहले
अफगानिस्तान के राष्ट्रपति की चादर पेश करते प्रतिनिधि
  • सात सदस्यों के प्रतिनिधि मंडल को भेंट किया तबरुक

सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती उर्स के मौके पर पहली बार अफगानिस्तान के राष्ट्रपति की ओर से भी शनिवार को चादर पेश की गई। यह चादर अफगानिस्तान के कलचरल मिनीस्टर अजमल अलीम की अगुवाई में प्रतिनिधि मंडल के सात सदस्यों ने पेश की। ख़ादिम सैयद सलमान चिश्ती ने ज़ियारत कराई और दरगाह का तबरुक दिया।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ गनी का गरीब नवाज के उर्स के मौके पर चादर पेश करने का संदेश पहले ही मिल गया था। अफगानिस्तान के कलचरल मिनीस्टर अजमल अलीम सहित सात सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल के साथ अजमेर पहुंचें।

शनिवार सुबह दरगाह के आहाता ए नूर में महफिल हुई और इस मौके पर अफगानिस्तान के राष्ट्रपति की ओर से दिए गए जायरीन के नाम संदेश को भी पढ़कर सुनाया गया। बाद में भारत और अफगानिस्तान के मजबूत रिश्तों के लिए दुआ की गई।