बगैर मान्यता कॉलेज खोल हड़पी फीस:फ्री कोचिंग और स्कॉलरशिप का दिया झांसा, स्टूडेन्ट के भविष्य का साथ किया खिलवाड़

अजमेर10 दिन पहले
डेमो पिक।
  • उदयपुर निवासी कथित CEO के खिलाफ आदर्श नगर थाने में FIR

बगैर मान्यता कॉलेज खोलकर स्टूडेन्ट्स के भविष्य से खिलवाड़ करने व फीस राशि हड़पने का मामला सामने आया है। पीड़ित चन्‍द्रबरदाई नगर अजमेर निवासी कुलदीप सिंह चौहान ने प्रताप कॉलोनी उदयपुर निवासी प्रवीण रतलिया के खिलाफ आदर्श नगर थाने में शिकायत दी है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

कुलदीप के अनुसार वह खुद का ट्रेनिंग सेंटर फायर एण्‍ड सैफ्टी की नाम से अशोक नगर नारीशाला रोड पर पिछले चार वर्षो से संचालित कर रहा है। जनवरी 2020 में उसके पास प्रवीण का फोन आया और उसने खुद को मैसर्स प्‍लेटिनम ज्ञान प्राईवेट लि. ऐजुकेशन इन्‍स्‍टीट्यूट व कॉलेज इन्‍स्‍टीट्यूट का संचालक बताया। उसने कहा कि वर्तमान में 11 कॉलेज मध्‍य प्रदेश में चल रहे हैं और 20 बीवोक (बैचलर वोकेशनल एजुकेशन) संचालित कर रहा है। यह 1956 के अंतर्गत रजिस्टर्ड संस्था है और वुडलैण्ड कॉलेज अजमेर के नाम से कोई भी जगह अजमेर में किराए पर लेकर उसे देगा। साथ ही साथ स्टॉफ जो कॉलेज में चाहिए, उसे नियुक्ति कर लो

कुलदीप ने बताया कि जुलाई 2020 में मदर्स स्कूल, गड्डी मालियान अजमेर के एक भाग में लिखित इकरारनामे पर परिसर लिया और प्रवीण ने एक प्रिन्टर, एक कम्प्यूटर, एक मोबाइल, पेंपलेट, रसीद बुक और छात्र-छात्राओ की किताबें व नोट्स बाई पोस्ट ट्रेवल्स एजेन्सी के जरिए भेजे। इसके बाद प्रवीण ने कॉलेज शुरू करवाया और स्टाफ की नियुक्ति भी दी। स्टूडेन्ट्स को फ्री कोचिंग व स्कॉलरशिप मिलने सहित कई आश्वासन दिए गए। स्टूडेन्ट के एडमिशन के बाद एनरोलमेंट नंबर व आईडी कार्ड मांगने पर प्रवीण टालमटोल करता रहा। शक होने पर मोबाइल कॉल रिकॉर्ड की।

थोड़े दिन बाद प्रवीण ने कहा कि वुडलैण्ड कॉलेज से कोई लेना देना ही नहीं है और स्टूडेन्ट के प्रवेश के लिए कहा कि 30 छात्र से ज्यादा के अधिकार ही नहीं है। ऐसे में प्रवीण ने बगैर मान्यता के एडमिशन कर स्टूडेंट्स की फीस की राशि हड़प ली और प्रमोट नहीं कर भविष्य से खिलवाड़ किया। कुलदीप ने आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। पुलिस ने मामले की जांच एसआई कन्हैया लाल को सौंपी है।