वजन में हेराफेरी कर साढे़ 5 करोड़ की धोखाधड़ी:स्टील चुराकर भरते ट्रकों के चैम्बर में बजरी, सप्लायर के खिलाफ FIR

अजमेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो

ट्रकों में बनाए गए चैम्बर में बजरी भरकर स्‍टील के कच्‍चे माल की हेराफेरी कर साढे़ पांच करोड़ की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। कंपनी के प्लान्ट मैनेजर ने वजन में हेराफेरी करने वाले भीलवाड़ा के एक सप्लायर के खिलाफ श्री नगर पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया है।

टाटा इंटरनेशनल व्‍हीकल एप्‍लीकेशंस प्राईवेट लिमिटेड, रीको इंडस्‍ट्रियल एरिया, श्रीनगर-फाइल फोटो
टाटा इंटरनेशनल व्‍हीकल एप्‍लीकेशंस प्राईवेट लिमिटेड, रीको इंडस्‍ट्रियल एरिया, श्रीनगर-फाइल फोटो

टाटा इंटरनेशनल व्‍हीकल एप्‍लीकेशंस प्राईवेट लिमिटेड, रीको इंडस्‍ट्रियल एरिया, श्रीनगर के प्लान्ट मैनेजर उज्‍जवल भावराव पाटिल की ओर से श्रीनगर थाने में मामला दर्ज कराया गया। इसमें बताया कि उनकी कम्‍पनी श्रीनगर-अजमेर में ट्रेलर्स एवं सेमी ट्रेलर्स का निर्माण करती है तथा उस निर्माण कार्य में काम आने वाले कच्‍चे माल के रुप में स्‍टील राजस्‍थान कमर्शियल हाउस भीलवाडा के अनिल पोखरना से खरीदते हैं। सप्‍लायर वर्ष 2017 से स्‍टील का कच्‍चा माल परिवादी की कम्‍पनी को देता आ रहा है तथा अपने ट्रांसपोर्टर के जरिए कम्‍पनी में माल पहुंचाता था।

कुछ समय से स्‍टील का कच्‍चा माल कम डिलीवरी होने की जानकारी मिली तो कम्‍पनी के वाहनों की तहकीकात करना चालू कर दिया। इस पर ये पता चला कि सप्‍लायर ने स्‍टील के कच्‍चे माल से भरे ट्रकों में चैम्‍बर बना रखे थे, जिसमें बजरी भरकर वजन में हेराफेरी करता। वजन कांटे में स्‍टील का कच्‍चा माल भरते समय कराता, बाद में डिलीवरी के समय कांटे पर जाने से पहले कच्‍चा माल चोरी करके उसकी जगह उतने ही वजन की बजरी ट्रकों के चैम्‍बर मे भर देता। फैक्‍टरी के नजदीक पुनः बजरी सहित वजन करवाते और वहां से फैक्ट्री तक पहंचने से पूर्व रास्‍ते में लीवर के जरिए चलते ट्रक से गुप्‍त चैम्‍बर से बजरी खाली कर देते थे। इस प्रकार पिछले चार साल से फैक्ट्री के साथ चोरी व धोखाधडी करता आ रहा है। ट्रकों में बने चैम्‍बर की चोरी की फोटो व विडियो भी बनाई।

घपले की बानगी

रिपोर्ट में बताया कि 8 व 9 जुलाई 2022 को स्‍टील के कच्‍चे माल की खरीद के लिए ई-मेल ऑर्डर दिया गया। ऑर्डर के अनुसार 12 जुलाई 2022 को ट्रक जिसका कुल वजन 25 हजार 110 किलोग्राम तथा कीमत 19 लाख 37 हजार 295 रुपए थी। ट्रक के चैम्‍बर में बजरी भरकर 3340 किलोग्राम के कच्‍चे माल की चोरी कर कम स्‍टील का कच्‍चा माल दिया। ट्रक में 78 प्‍लेटें लोड करना दर्शाया, जबकि केवल 66 प्‍लेटों की डिलीवरी की गई। इस प्रकार ट्रक में 12 प्‍लेेटों की षडयंत्र पूर्वक धोखाधडी कर चोरी की गई। इसी प्रकार दूसरे ट्रक का कुल वजन 24910 किलोग्राम था तथा कीमत 19 लाख 52 हजार 487 रुपए थी। ट्रक के चैम्‍बर में बजरी भरकर 2640 किलोग्राम कम वजन की डिलीवरी दी। ट्रक में स्‍टील की 67 प्‍लेटें लोड करना दर्शाया, जबकि 61 प्‍लेटों की डिलीवरी की गई। इस 6 प्‍लेटों की चोरी की गई।

साढे़ पांच करोड़ की हानि हुई

रिपोर्ट में यह भी बताया कि इसकी सूचना मालिक अनिल पोखरना को दी तो कोई सन्‍तोषप्रद जवाब नहीं दिया। इसके बाद नोटिस दिया गया जिसमें बताया कि वर्ष 2017 से आज तक की गई सप्‍लाई की गणना की जाए तो लगभग 67,20,886 किलोग्राम की डिलीवरी की गई, जिसमें लगभग 8,06,506 किलोग्राम की चोरी हुई। कम्‍पनी को लगभग 5 करोड़ 50 लाख 3 हजार 372 रुपए की हानि हुई।अत: कार्रवाई की जाए। श्रीनगर थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच एएसआई कृष्‍ण कुमार को सौंपी है।