• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Huge Chaos On The Arrangements, First For Prescription Counter, Then For Doctors Consultation, Then For Medicine, Then For Test

अजमेर JLN अस्पताल में हर जगह इंतजार:पहले पर्ची काउन्टर, फिर डॉक्टर्स परामर्श, इसके बाद दवा व जांच के लिए भी कतार

अजमेरएक महीने पहले
मरीजों व परिजनों का दर्द।

अजमेर संभाग के सबसे बड़े जेएलएन अस्पताल की व्यवस्थाएं बेपटरी हैं। अस्पताल में आने वाले मरीजों के लिए कोई इंतजाम नहीं हैं। अव्यवस्थाओं के कारण समाधान की कोई कोशिश भी नजर नहीं आती। अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारी भी व्यवस्थाओं को लेकर अनदेखी करते दिखाई दे रहे हैं। जिससे अस्पताल में आने वाले मरीज व उनके परिजनों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

पर्ची के लिए लम्बी कतार, बाद में चिकित्सक के पास परामर्श एवं अंत में दवा व जांच के लिए भी कतार में इंतजार करना पड़ता है। पीड़ित व उनके परिजन को घंटों तक कतार का क्लेश झेलना पड़ रहा है। जिस मरीज को इन हालात में आराम करना चाहिए। उसे घंटों तक टकटकी लगाकर अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा है।

पर्ची कटवाने के लिए कतार में खड़े मरीज व परिजन
पर्ची कटवाने के लिए कतार में खड़े मरीज व परिजन

संभाग के जवाहरलाल नेहरू अस्पताल में ओपीडी में भारी भीड़ देखने को मिलती हैं। परिजन अपने मरीजों को लेकर डॉक्टर को दिखाने अस्पताल पहुंचते हैं। लेकिन डॉक्टर्स तक पहुंचने में उन्हें काफी मशक्कत करनी पड़ती है। डॉक्टर को दिखाने के लिए पहले पर्ची कटवाने के लिए घंटों तक लाइन में लगना पड़ता है। उसके बाद डॉक्टर को दिखाने के लिए लाइन में लगना पड़ता है, और बाद में फिर जांच, जांच रिपोर्ट और दवा केंद्रों की लाइन में लगना पड़ता है।

जिससे अस्पताल में दिखाने आए मरीज व उनके परिजनों को समस्याएं झेलनी पड़ती है। खास बात ये है कि यह समस्या काफी समय से चलती आ रही हैं। लेकिन इस और ध्यान देने वाला कोई नहीं। जिससे अस्पताल की व्यवस्थाओं की पोल खुलती नजर आ रहीं है। वहीं, अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारी भी बिगड़ रही व्यवस्थाओं पर अनदेखी करते दिखाई दे रहे हैं।

डॉक्टर को दिखाने के लिए लाइन में खड़े मरीज
डॉक्टर को दिखाने के लिए लाइन में खड़े मरीज

बुजुर्ग के साथ परिजन भी परेशान

अस्पताल में लंबी लंबी कतारों से बुजुर्ग मरीज व उनके परिजनों को परेशानी झेलनी पड़ती है। बुजुर्ग मरीज लंबी कतारों में खड़े होने से उन्हें समस्या होती हैं। वही, बुजुर्ग मरीजों के साथ आए परिजन उन्हें लंबी-लंबी कतारों में खड़े रहकर संभालते नजर आते हैं। जिससे उन्हें भी समस्या झेलनी पड़ती है।

घंटो तक खड़े रहने पर नहीं आता नंबर

परिजन सतनारायण ने बताया कि सोनोग्राफी जांच रिपोर्ट लेने के लिए वह आए थे। लेकिन 2 घंटे बीत जाने के बाद भी उनका नंबर नहीं आया है। उनका कहना है कि अस्पताल प्रशासन को इसे लेकर व्यवस्था करनी चाहिए। लोहाखान निवासी मरीज ने बताया कि वह भी 2 घंटे से जांच करवाने के लिए खड़े हैं। लेकिन बावजूद इसके लंबी कतारों के चलते नंबर नहीं आ रहा। अस्पताल प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

दवा काउंटर पर भी भीड़
दवा काउंटर पर भी भीड़

जिम्मेदार अधिकारी ले सुध

संभाग के अस्पताल में बिगड़ रही व्यवस्थाओं को लेकर अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारियों को सुध लेने की आवश्यकता है। अस्पताल में लगातार बिगड़ रही व्यवस्थाओं से मरीजों और परिजनों को समस्याएं झेलनी पड़ रही है।

खबरें और भी हैं...