महिला ने हारकर फांसी लगाई:पति का अवैध संबंध बनी वजह, आखिर तक रिश्ता बचाने की कोशिश करती रही

अजमेर5 महीने पहलेलेखक: भरत मूलचंदानी

अजमेर की एक नवविवाहिता ने पति के अवैध संबंध और ससुराल वालों के टार्चर से तंग आकर सुसाइड कर लिया। अब इस मामले में कुछ नये खुलासे हुए हैं। मृतका अनुराधा (31) के भाई सर्वेश्वर सोमानी ने बताया कि मेरी बहन बहुत ब्रेव थी, हर चीज के लिए लड़ती थी। अपनी परेशानी को लेकर जूझ रही थी। इसके समाधान और न्याय के लिए हर सम्भव प्रयास खुद के स्तर पर कर रही थी। हर जगह से मदद की उम्मीद कर रही थी, लेकिन जब मदद नहीं मिली तो वह टूट गई।

अपनी बेटी के साथ अनुराधा।
अपनी बेटी के साथ अनुराधा।

भाई ने यह भी बताया कि 10 दिन से बहन पति से भी बातचीत करने का प्रयास कर रही थी। मैसेज भी किया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिल रहा था। पति, सास और दोस्तों से हेल्प मांगी, लेकिन कोई हल नहीं निकला। सुसाइड से पहले सास को फोन किया, लेकिन फोन नहीं उठाया। मेरी बहन फैशन शो भी करती थी। बीटेक एमबीए कर रखा था। हर चीज के लिए लड़ती थी। रिश्ता बचाने के लिए भी लड़ी। आखिरी दम तक लोगों से बात करने की कोशिश करती रही, लेकिन आखिर में टूट गई।

पुलिस से भी लगाई थी मदद की गुहार

पीड़िका का मोबाइल देखने पर पता चला है कि उसने फेसबुक के माध्यम से आईपीएस सचिन अतुलकर से भी मदद मांगी थी। वह पुलिस के पास नहीं जाना चाहती थी, वह बेटी को बाप का प्यार दिलाना चाहती थी।

पति का भी नहीं मिला साथ

भाई ने बताया कि उसके मोबाइल में ऑडियो रिकॉर्डिंग भी मिली। जिसमें पति अनिरूद्ध उनकी बहन अनुराधा से जबरन लिखवाना चाहता था कि घरवालों ने उसे बेदखल कर दिया है। सारा सामान व जेवरात उसे सौंप दिए हैं। वह यह बात लिखकर नहीं देना चाहती थी।

यह है मामला

अजमेर के वैशालीनगर के शिव सागर कॉलोनी में रहने वाले मधुसूदन सोमानी की बेटी अनुराधा (31) ने शनिवार को फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। घर पर माता-पिता व भाई नहीं था, केवल दो साल की बेटी अनन्या थी। परिवार घर पहुंचा तो वह फंदे पर लटकी मिली। पुलिस को सूचना दी। शव को जेएलएन अस्पताल की मॉर्चुरी में रखवाया गया। भाई सर्वेश्वर सोमानी ने क्रिश्चियन गंज थाने में शिकायत दी। सीओ (नॉर्थ) छवि शर्मा ने घटनास्थल का मुआयना कर सुसाइड नोट जब्त कर लिया है।

अपने पति के साथ अनुराधा।
अपने पति के साथ अनुराधा।

मृतका के ससुर ने कहा-बेवजह लगाए आरोप

किशनगढ़ के मित्र निवास कॉलोनी निवासी ससुर गोविन्द लाल मालपानी से बात की तो उनका कहना रहा कि हमारे ऊपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद है, यह बेवजह परेशान करना है। इससे ज्यादा अब क्या कहे।