पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • In Ajmer, BJP Councilor's Husband Threatened And Demanded 50 Lakh ACB Arrested Two Touts With Rs 2 Lakh From GCA Intersection; The Deal Was Settled For 40 Lakhs, The First Installment Was To Be Paid 5 Lakhs

भाजपा पार्षद के पति ने धमकाकर मांगे 50 लाख:पत्नी के रूतबे से पीड़ित की पुश्तैनी जमीन पर रूकवाया काम, फिर 40 लाख में तय किया सौदा; 2 लाख लेते दो दलाल गिरफ्तार; फरार मुख्य आरोपी की तलाश

अजमेर2 महीने पहले
एसीबी की गिरफ्त में आरोपी दलाल।

अजमेर के जोंसगंज क्षेत्र में पुश्तेनी भूमि के समतलीकरण के कार्य को लेकर भाजपा पार्षद पति की ओर से 50 लाख रुपए रिश्वत मांगने का मामला सामने आया। आरोपी पार्षद ने 50 लाख या 10 प्लॉट देने की डिमांड रखी थी, लेकिन बात नहीं बनी। आखिर में पार्षद पति ने 40 लाख में सौदा तय किया। पहली किश्त पांच लाख रुपए मांगी। बुधवार को जब दो दलालों ने इस मामले में 2 लाख रुपए की रिश्वत ली तो भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) की टीम ने दोनों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। एसीबी मामले की जांच कर रही है। परिवादी का नाम गोपनीय रखा गया है।

फरार पार्षद पति रंजन शर्मा
फरार पार्षद पति रंजन शर्मा

एसीबी के अनुसार, परिवादी के जोंसगंज इलाके में पुश्तैनी भूमि के समतलीकरण करने के दौरान भाजपा पार्षद नीतू मिश्रा के पति रंजन शर्मा ने परिवादी को धमकाकर काम रुकवा दिया। इसके बाद काम करवाने एवं अपनी पत्नि के वार्ड सं 41 से वार्ड पार्षद होने का हवाला देकर पार्षद कोटे से कार्य करवाने के लिए 50 लाख रुपए की मांग की गई। पार्षद पति रंजन शर्मा ने अपने दो दलाल देवेन्द्रसिंह एवं किशन खंडेलवाल को रिश्वत राशि के संबंध में वार्ता करने एवं रिश्वत लेने के लिए कहा।

एक जुलाई को मांग सत्यापन के दौरान 40 लाख रुपए में सौदा तय हुआ। प्रथम किस्त रिश्वत राशि के रूप में 5 लाख रुपए देना तय हुआ। 7 जुलाई को दलाल किशन खंडेलवाल एवं देवेन्द्रसिंह ने राजकीय महाविद्यालय चौराहे पर 2 लाख रुपए की रिश्वत राशि ली और एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ लिया। एसीबी ने न्यू गोविन्द नगर रामगंज अजमेर निवासी किशन खंडेलवाल व पिपली बालाजी मंदिर के पास बिहारीगंज अजमेर निवासी देवेन्द्रसिंह को गिरफ्तार कर लिया है।

किशन खंडेलवाल
किशन खंडेलवाल

पार्षद के पति के घर चल रही तलाशी
DSP पारसमल ने बताया कि फिलहाल पार्षद और उसके पति के घर पर तलाशी ली गई। पार्षद का पति मौके से फरार है। आरोपी पार्षद पति को भी मौके पर रिश्वत लेने पहुंचना था, लेकिन वो नहीं पहुंचा। उसकी तलाश की जा रही है।

देवेन्द्रसिंह
देवेन्द्रसिंह

पार्षद की भूमिका की भी होगी जांच

एसीबी पार्षद की भूमिका की भी जांच करेगी और अगर जांच में पार्षद भी भूमिका पाई गई तो नियमानुसार कार्रवाई करेगी। एसीबी इन्टैलीजेंस यूनिट टीम में उप अधीक्षक पारसमल, पुलिस निरीक्षक राजेन्द्रसिंह, एएसआई कन्हैयालाल, लक्ष्मणदान, भरतसिह, अर्जुनलाल, मनीष कुमार शामल थे।

खबरें और भी हैं...