पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रेनों को तेज गति एवं संचालन में होगी आसानी:उप रेलवे के 15 रेल खंडों पर इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम की शुरुआत

अजमेर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।

उप रेलवे की ओर से 15 रेल खंडों पर इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम की शुरुआत कर दी गई है। इससे ट्रेनों को तेज गति से संचालित करने में आसानी होगी। उत्तर पश्चिम रेलवे के सीपीआरओ ले. शशि किरण ने बताया कि उच्च तकनीक युक्त सिगनल प्रणाली को अपनाते हुये उत्तर पश्चिम रेलवे के महत्वपूर्ण रेलखण्डों पर इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (आईबीएस) स्थापित किया जा रहा है।

एब्सोल्यूट ब्लॉक सिस्टम में दो स्टेशनों के बीच केवल एक ही ट्रेन चलने की अनुमति दी जाती है, जिससे लाइन क्षमता काफी हद तक सीमित हो जाती है। दो स्टेशनों के बीच लाइन क्षमता को बढ़ाने के लिए इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग सिस्टम (आईबीएस) का उपयोग किया जा रहा है जो ब्लॉक सेक्शन को दो भागों में विभाजित करता है। इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नलिंग (आईबीएस) के उपयोग से संरक्षा को सुनिश्चित करते हुए दो स्टेशनों के बीच एक ही दिशा में दो ट्रेनों की अनुमति प्रदान की जाती है। इससे रेल संचालन में स्टेशन पर ट्रेन को क्रासिंग पर खड़े रहने वाले समय की बचत होती है।

साथ ही दो स्टेशनों के बीच एक ही दिशा में दो ट्रेनों के संचालन से लाइन क्षमता में वृद्धि होती है, जिससे अधिक संख्या में ट्रेनों के संचालन को सुनिश्चित किया जा सकता है। उप रेलवे के 15 रेलखण्डों पर यह सिगनल प्रणाली लगाई जा चुकी है तथा 2 पर कार्य प्रगति पर है।

अजमेर रेल मंडल में इन रेल खंडों पर संचालन सराधना-मांगलियावास, मांगलियावास-खरवा,खरवा-बांगडग्राम, चन्दावल-बगड़ीनगर, सोजत रोड-धारेश्वर, अउवा-भीनवालिया, जवाली-रानी, नाना-मोरीबेड़ा में नए तरीके से सिग्नल संचालन किया गया है।

खबरें और भी हैं...