पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चिकित्सकों ने मनाया राष्ट्रीय विरोध दिवस:जवाहर लाल नेहरू अस्पताल- सुबह 8 से 10 बजे तक ओपीडी का बहिष्कार

अजमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की संघर्ष समिति की ओर से शुक्रवार को चिकित्सकाें के प्रति बढ़ती हिंसा व नीम हकीम चिकित्सकों सहित बाबा रामदेव की ओर से चिकित्सा व्यवस्था के विरुद्ध लगातार अनर्गल बयानबाजी पर रोष व्यक्त करते हुए राष्ट्रीय विरोध दिवस मनाया गया। आईएमए की ओर से आहूत इस प्रदर्शन को सभी चिकित्सा संघों ने समर्थन दिया।

जेएलएन हॉस्पिटल में कार्यरत आईएमए सदस्यों सहित अन्य चिकित्सकों व रेजीडेंट्स डॉक्टर्स ने सुबह 8 से 10 बजे तक सामान्य ओपीडी का बहिष्कार किया। इस दौरान केवल आपातकालीन मरीजों का ही उपचार किया गया। सुबह 10 बजे जेएलएन मेडिकल कॉलेज के बाहर चिकित्सकों की विभिन्न एसोसिएशन की ओर से काली पट्‌टी और काले कपड़े पहनकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया गया।

आईएमए अजमेर के अध्यक्ष डाॅ. राजकुमार जयपाल, महासचिव डाॅ. हरबंस सिंह दुआ, डॉ. संजीव माहेश्वरी, डॉ. श्याम भूतड़ा, डाॅ. लाल थदानी और डॉ. पंकज तोषनीवाल ने संबोधित करते विभिन्न मांगों की ओर ध्यानाकृष्ट कराया। चिकित्सकों के प्रतिनिधिमंडल ने पीएम के नाम कलेक्टर के माध्यम से ज्ञापन सौंपा, जिसमें मांग की गई है कि अस्पतालों व चिकित्सकों, चिकित्साकर्मियों के साथ होने वाली हिंसा व तोड़-फोड़ की घटनाओं के विरोध में एक सख्त राष्ट्रीय कानून बनाया जाए।

सभी अस्पतालाें को सुरक्षित क्षेत्र घोषित किया जाए। एपिडेमिक डिसीज कंट्रोल व आपदा प्रबंधन कानून के तहत रामदेव के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें गिरफ्तार किया जाए। बताया गया कि कोरोनाकाल के मद्‌देनजर कार्य बहिष्कार नहीं किया जा रहा है मगर मांगों की अनदेखी किए जाने पर आंदोलन तेज किया जाएगा।

गांधीवादी तरीके से जताया विरोध: जेएलएन की आपातकालीन यूनिट के बाहर चिकित्सकों, रेजीडेंट सहित नर्सिंगकर्मियाें ने काली पट‌्टी बांधकर अपना विराेध जताने के साथ ही नारेबाजी की। दाे घंटे कार्य बहिष्कार की घाेषणा की गई थी, लेकिन ओपीडी में मरीजाें की भीड़ व उन्हें परेशान हाेता देख चिकित्सकाें ने तुरंत मरीजाें के उपचार व सार संभाल काे प्राथमिकता देते हुए तुरंत ओपीडी में अपना कार्य संभाला।

वहीं दूसरी ओर अखिल राजस्थान सेवारत चिकित्सक संघ (अरिस्दा)के प्रदेशाध्यक्ष डॉ अजय चौधरी ने बताया कि प्रदेशभर के सभी सेवारत चिकित्सकों ने शुक्रवार को ब्लैक रिबन लगाकर गांधीवादी तरीक़े से विरोध प्रदर्शन किया। प्रवक्ता डाॅ. ज्याेत्सना रंगा ने कहा कि अस्पताल में चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा के इंतजाम सरकार काे किए जाने के साथ ही अस्पतालों को प्रोटेक्टेड जोन घोषित किया जाए।

खबरें और भी हैं...