लेटेस्ट थ्री डी नेवीगेशन सिस्टम मशीन:हाईटेक कैमरे और उपकरण से शरीर के अंदरूनी हिस्सों की जांच लाइव देख सकेंगे जेएलएन के चिकित्सक

अजमेर2 महीने पहलेलेखक: मनीष सिंह चौहान
  • कॉपी लिंक

जवाहर लाल नेहरू मेडिकल काॅलेज काे चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से अब तक की सबसे लेटेस्ट थ्री डी नेवीगेशन सिस्टम मशीन मिली है। यह मशीन ईएनटी विभाग काे साैंपी गई है। इस मशीन से मरीज के शरीर के अंदरूनी हिस्से तक की जांच हो सकेगी। चिकित्सक मरीज के शरीर में यदि काेई औजार जांच के लिए अंदर डालते हैं ताे उसकी भी स्थिति इस मशीन के जरिए पता लग सकेगी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने इस मशीन के लिए प्रदेश के तीन अस्पतालाें का चयन किया था। इनमें अजमेर के जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय, जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल, आरयूएचएस व उदयपुर का मेडिकल काॅलेज शामिल है।

ब्लैक फंगस के इलाज में सामने आई थी परेशानी

जेएलएन मेडिकल काॅलेज के ईएनटी विभाग के आचार्य डाॅ. दिग्विजय सिंह ने बताया कि काेविड के बाद ठीक हाेने वाले मरीजाें में ब्लैक फंगस सबसे बड़ी समस्या बनकर सामने आई। मरीजाें के आंख, कान, गले में फंगस इस कदर फैला कि ऐसी काेई मशीन नहीं थी जाे पता लगा सकती कि बीमारी का आखिरी छाेर कहां तक है। अंदर तक फंगस काे निकालने के लिए औजार भी सावधानी से डालते थे। कई बार ताे चीरफाड़ तक करनी पड़ रही थी, लेकिन इस मशीन के आने के बाद कैमरे व उपकरण नसाें के अंदर भी जाकर जांच कर सकेंगे।

जल्द और मिलेंगी नई मशीनें | ईएनटी विभाग में चार कराेड़ की लागत से नई मशीनें आ रही हैं। डेढ़ कराेड़ की लागत से एक मशीन आ चुकी है, जल्द ही नए उपकरण व दूसरी मशीनें अाएंगी। ये भी है मशीन में सुविधाएं | जेएलएन काे मिली नई सिटी स्कैन मशीन में मरीज की जांच के बाद सीडी भी बनाकर तैयार की जाएगी ताकि प्रिंट खराब हाे जाए ताे चिकित्सक सीडी की सहायता से जांच कर सकें। इसी सीडी काे लगाने की सुविधा नई थ्री डी नेवीगेशन सिस्टम मशीन में है।

ईएनटी विभाग काे नई अत्याधुनिक मशीन मिली है। मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल के प्रयास सफल रहे, अजमेर काे प्राथमिकता दी गई है। -डाॅ. पीसी वर्मा, विभागाध्यक्ष ईएनटी, जेएलएन अस्पताल

खबरें और भी हैं...