परेशानी / मूंग खरीद केंद्र के बाहर लगी ट्रैक्टरों की लाइन

Line of tractors installed outside Moong Purchase Center
X
Line of tractors installed outside Moong Purchase Center

  • खरीद केंद्र के अनुसार प्रतिदिन साठ किसानों को ही बुलाया जाता है

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

अरांई. सहकारी खरीद केंद्र के बाहर किसान अपने ट्रैक्टरों में चने भर कर धूप में दिन भर खड़े रहते है। बींजरवाड़ा खरीद केंद्र के अनुसार प्रतिदिन साठ किसानों को ही बुलाया जाता है जिससे सोशल डिस्टेंसिंग की पालना हो सके एवं किसानों को बेवजह परेशान नहीं होना पड़े। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार अरांई समर्थन मूल्य खरीद केंद्र बींजरवाड़ा में 15 दिन पूर्व चने एवं सरसों की खरीद शुरू की गई थी। प्रतिदिन साठ किसानों को एक दिन पूर्व एसएमएस एवं फोन द्वारा किसान को सूचित किया जाएगा। उसके बाद किसान को उसी दिन आकर अपने जिंस की तुलाई करानी होगी नहीं तो उसका टोकन रद्द माना जाएगा। बींजरवाड़ा समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र के बाहर सेकड़ाें किसान अपने जिंस लेकर तपती धूप में खड़े नजर आए। जबकि एक दिन में 60 से ज्यादा किसानों के जिंसों की तुलाई नहीं होनी है। अब सवाल यह उठता है कि जब तुलाई होनी ही नहीं है तो किसानों में कौन अफवाह फैला रहा है।
मेसेज 120 जा रहे है और कॉल सिर्फ 60 को
अरांई क्षेत्र के किसान असमंजस की स्थिति में है। समर्थन खरीद विभाग जयपुर द्वारा अरांई क्षेत्र के 120 किसानों को मैसेज कर बताया जा रहा है कि उनके टोकन का नम्बर आ गया है। अरांई समर्थन खरीद केन्द्र बींजरवाड़ा पर पहुंच कर तुलाई करवा कर अपना बिल प्राप्त करें। किसान सरकार के मैसेज पर अपने जिंस को ट्रैक्टर ट्रॉली में भर कर खरीद केंद्र के बाहर खड़ा हो जाता है। रोजाना सेकड़ाें ट्रैक्टर जिंस भर कर वहां जमा हो रहे है जिससे खरीद केंद्र के बाहर भीड़ लग गई है। वहीं समर्थन केन्द्र प्रभारी कैलाश चूनिया ने बताया कि अरांई खरीद केन्द्र की क्षमता कम है। रोजाना केन्द्र से 60 किसानों को फोन कर बताया जाता है कि वे अपने जिंस को तुलाई के लिए केन्द्र पर ले कर आए।  बींजरवाड़ा खरीद केन्द्र पर चने की बाेरियों का अंबार लगा हुआ है। केन्द्र पर करीब बारह हजार बोरियां रखी हुई है। खरीद केन्द्र से ट्रकों में लोड हो कर भेजे गए जिंसों को अभी किशनगढ़ मंडी में उतारा नहीं गया है। ट्रक नहीं हाेने से वह चने की बाेरियां लोड कर नहीं आ पा रहे है। खरीद केन्द्र पर खुले में रखे जिंसों के बारिश में खराब होने की आशंका बनी हुई है।
^ अरांई क्षेत्र के किसानों से अपील है कि वे खरीद केंद्र से फोन आने पर ही केंद्र पर आए। बींजरवाड़ा में अधिकतम 60 किसानों के जिंसों की तुलाई की व्यवस्था है। इसके अतिरिक्त आने वाले किसानों को धूप में बेवजह परेशान होना पड़ेगा। -कैलाश चूनिया, मैनेजर खरीद केंद्र, बींजरवाडा

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना