पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नशीली दवाओं की तस्करी का मामला:प्रतिबंधित नशीली दवाओं की तस्करी मामले में मुख्य आरोपी मूंदड़ा व साजिद को भेजा जेल

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नशीली दवा प्रकरण के मामले में श्यामसुंदर मूंदड़ा को जेल ले जाते। - Dainik Bhaskar
नशीली दवा प्रकरण के मामले में श्यामसुंदर मूंदड़ा को जेल ले जाते।

अजमेर काे प्रतिबंधित नशीली दवाओं की तस्करी का ट्रांजिट पाइंट बनाने के मामले में आराेपी बीके काैल नगर निवासी श्याम सुंदर मूंदड़ा और उसके काराेबार में सहयाेगी शेख साजिद काे गुरुवार काे पुलिस ने अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें 30 जून तक न्यायिक अभिरक्षा में सेंट्रल जेल भेज दिया गया। उल्लेखनीय है कि पांच दिन के पुलिस रिमांड के दाैरान मूंदड़ा से जांच अधिकारियाें ने दवा के अवैध काराेबार के नेटवर्क के बारे में गहनता से पूछताछ की है।

अब तक की जांच में यह सामने आया है कि अजमेर में जब्त 11 करोड़ रुपए की नशीली दवाइयां श्याम मूंदड़ा की ही है, हालांकि आराेपी मूंदड़ा ने इस काराेबार का मास्टरमाइंड गाेटन निवासी कमलजीत माैर्य काे ठहराया है। पुलिस माैर्य की तलाश में जुटी है। अलवर गेट और रामगंज थाना पुलिस दाे अन्य मुकदमाें में मूंदड़ा काे गिरफ्तार करेगी। इस मामले में अब तक पांच लाेगाें की गिरफ्तारी हाे चुकी है। इसमें चार लाेग मूंदड़ा के लिए काम करने वाले लाेग थे। सात दिन का रिमांड समाप्त होने पर मूंदड़ा और साजिद को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संख्या-5 हीना परिहार की अदालत में पेश किया गया। पुलिस ने आराेपियाें की रिमांड अवधि बढ़ाने की प्रार्थना अदालत से नहीं की। अदालत ने दाेनाें को 30 जून तक के लिए न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। मूंदड़ा के विरुद्ध दो अन्य मुकदमे दर्ज है। करीब सवा पांच करोड़ रुपए की नशीली दवाएं अजमेर के धोलाभाटा और रामगंज क्षेत्रों से भी जब्त की गई थी।

इन दोनों मुकदमों में अभी मूंदड़ा काे तफ्तीश के लिए प्राेडक्शन रिमांड पर जेल से गिरफ्तार किया जाएगा। मूंदड़ा के बयान के आधार पर अब पुलिस कमलजीत माैर्य की तलाश में जुटी है। जानकारी के अनुसार जिस तरह श्याम सुंदर मूंदड़ा ने अपने गुर्गे साजिद के नाम से वेलकम फार्मा के नाम से हाेलसेल दवाओं के काराेबार का लाइसेंस ले रखा था, उसी तरह माैर्य ने भी जयपुर की रम्या फार्मा काे शशि भारती के नाम से लाइसेंस दिलवा रखा था। माैर्य के काले कारनामे का नेटवर्क नागालैंड के दीमापुर तक फैला हुआ है।

खबरें और भी हैं...