पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट:शहर के ड्रेनेज, सीवरेज, साॅलिड वेस्ट मैनेजमेंट और वाॅटर सप्लाई सिस्टम पर भड़के विधायक

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिटी लेवल एडवायजरी फाेरम की बैठक विधायक बोले : बुनियादी सुविधाएं दरकिनार, सजावटी प्रोजेक्ट्स पर फाेकस

स्मार्ट सिटी के लिए जाे सबसे ज्यादा जरूरी प्रोजेक्ट्स हैं, उन पर फाेकस नहीं किया जा रहा है। शहर में ड्रेनेज का काेई सिस्टम नहीं है। बारिश में नालियाें का पानी सड़काें पर भर जाता है। 24 घंटे में वाटर सप्लाई जैसे प्राेेजेक्ट अब खाेखले नजर आने लगे हैं। यह कैसा स्मार्ट सिटी है? यह कहना है विधायक वासुदेव देवनानी का। उन्हाेंने वर्तमान में चल रहे स्मार्ट सिटी के सभी प्राेजेक्ट पर सवालिया निशान खड़े करते हुए कहा - स्मार्ट सिटी के हालाताें का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि 22 माह बाद सिटी लेवल एडवायजरी फाेरम की बैठक आयाेजित की गई है।

राजीव गांधी विद्या भवन में आयाेजित दूसरी बैठक में देवनानी ने कहा कि किसी भी सूरत में शहर का अहित नहीं हाेने दिया जाएगा। बैठक के दाैरान विधायक अनिता भदेल ने पार्किंग, साॅलिड वेस्ट मैनेजमेंट, वाॅटर सप्लाई, चिकित्सा जैसी मूलभूत सुविधाओं को नाकाफी बताया। उन्हाेंने कहा कि स्मार्ट सिटी के लिए जाे सबसे जरूरी काम हैं, उनपर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। बैठक में जिले कलेक्टर प्रकाश राजपुराेहित, एसपी कुंवर राष्ट्रदीप, एसीईओ डाॅ. खुशाल यादव, चीफ इंजीनियर अनिल विजयवर्गीय, टीम लीडर डाॅ. नितिन कुमार भावसर सहित अन्य अफसर माैजूद थे।

फूड काेर्ट पर बाेलीं भदेल- दुकानें बनाने के बाद क्यों मांग रहे हैं सलाह
अरबन हाट बाजार में 1.43 कराेड़ की लागत से फूडकाेर्ड के निर्माण पर विधायक अनिता भदेल ने कहा कि पहले से ही अरबन हाट बाजार में 50 पक्की दुकानें हैं, जाे उद्याेग मेले व अन्य मेलाें में अधिकतर खाली रह जाती हैं। ऐसे में 15 दुकानें बनाने वाले इस प्राेजेक्ट का काेई औचित्य नहीं है। जाे 50 दुकानें हैं, उन्हीं में 15 दुकानें फूड काेर्ट काे दे दी जाएं। स्मार्ट सिटी के अफसराें ने कहा कि 15 नई दुकानें बनाई जा चुकी हैं। भदेल ने सख्त लहजे में कहा कि जब सब काम हाे ही चुका है ताे फिर क्याें सलाह ली जा रही है।
ध्वस्त पड़े शहर के ड्रेनेज सिस्टम और साॅलिड वेस्ट मैनेजमेंट काे लेकर भदेल ने खरी-खरी सुनाई। उन्हाेंने कहा कि शहर के कई क्षेत्राें में जलभराव के समस्या जस की तस बनी हुई है। स्मार्ट सिटी में साॅलिड वेस्ट मैनेजमेंट काे लेकर अब तक काेई खास काम नहीं हुआ, जबकि यह सबसे जरूरी प्राेजेक्ट्स में शामिल है। हालात यह हैं कि अब तक सूखा और गीला कचरा अलग-अलग एकत्रित करने की पुख्ता व्यवस्था नहीं की गई है। एक की काम काे दाे अलग-अलग ठेकेदाराें द्वारा करवाया जा रहा है।
अब हर दाे माह में हाेगी एडवायजरी फाेरम की बैठक - जिला कलेक्टर : जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुराेहित ने कहा कि वर्तमान में स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट के तहत 668 कराेड़ के काम जारी हैं। बैठक के दाैरान सुझाव आमंत्रित किए गए। बैठक 22 माह बाद हुई है, लेकिन अब रेगुलर फीड बैक मैकेनिज्म बनाया जाएगा। हर 2 माह में एडवायजरी फाेरम की बैठक हाेगी।

गिनाई खामियां, सुधार के लिए दिए सुझाव

वासुदेव देवनानी बाेले...
1. माेइनिया स्कूल में नहीं बने पार्किंग
माेइनिया स्कूल में स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट के तहत जाे पार्किंग बनाई जा रही है, उसका काेई औचित्य नहीं है। स्कूल ग्राउंड में इतनी जगह नहीं है कि मल्टीस्टाेरी पार्किंग बने।
रेलवे स्टेशन के सामने स्थित शिवाजी पार्क काे स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट में लेकर विकसित किया जाए। पड़ाव में नगर निगम की पार्किंग स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट में शामिल कर बेहतर बनाया जा सकता है।
2. एलिवेटेड राेड, आनासागर लेक फ्रंट, सीवरेज, वाॅटर सप्लाई, जेएलएन अस्पताल और खेल मैदान
एलिवेटेड राेड : समयबद्ध कार्यक्रम करें। खाईलैंड सहित अन्य स्थानाें पर दाेनाें ओर जाे सड़के खुदी हुई हैं, उनकी तत्काल रिपेयरिंग करें।
आनासागर लेक फ्रंट : आनासागर लेक फ्रंट की तरह फाॅयसागर काे विकसित करें। यह भी निगम की प्राेपट्री है। आनासागर पुलिस चाैकी से फाॅयसागर तक की सड़क काे अतिक्रमण हटाकर अन्य सड़काें की तरह लेकर चाैड़ा करें।
सीवरेज : वर्षाें से सीवरेज का काम चल रहा है। जाे सीवरेज पहले के बने हुए हैं, उनमें गंदा पानी ऊपर की ओर आ रहा है। सड़के धंस गई हैं, जिनकी रिपेयरिंग नहीं हाे रही है।
वाॅटर सप्लाई : स्मार्ट सिटी में 24 घंटे में पेयजल सप्लाई की व्यवस्था की जानी थी, लेकिन 120 कराेड़ दिए जाने के बावजूद भी 24 घंटे ताे दूर 48 घंटे में भी पेयजल सप्लाई नहीं हो रही है।
जेएलएन अस्पताल : मास्टर प्लान बनाकर निर्माण करें। टीवी अस्पताल औैर दाेनाें ट्रेनिंग सेंटर्स काे शहर से बाहर ले जाएं ताकि मल्टी स्टाेरी बिल्डिंग बन सके। नगीना बाग के पिछले हिस्से में बनाई जा रही माेर्चरी क्षेत्रवासियाें के लिए दिक्कतें पैदा करेगी। इसके विकल्प के बारे में साेचा जाए।
खेल मैदान : जैसे रामगंज के चंद्रवरदाई नगर में अत्याधुनिक स्पाेर्ट्स काम्प्लेक्स बनाया जा रहा है, वैसा ही हरिभाऊ उपाध्याय नगर में भी बनाया जाए।
3. एस्कैप चैनल, पशु चिकित्सालय, बस स्टैंड, सब्जी बाजार, साइंस पार्क और ओपन एयर जिम
एस्कैप चैनल : ब्रह्मपुरी नाला इन्हीं अधिकारियाें ने स्वीकृत किया था। टेंडर हाे गया, वर्कऑर्डर हाे गया। काम शुरू हाेने वाला था, किसी इंजीनियर की सलाह पर यह ब्लाॅक हाे गया। इसकी परीक्षण किया जाए। एस्कैप चैनल के सभी नालाें काे ठीक करवाया जाए।
नया पशु चिकित्सालय : शास्त्रीनगर में पशु चिकित्सालय के निर्माण कार्य काे तेजी से पूरा करें, ताकि नया बाजार का पशु चिकित्सालय वहां शिफ्ट हाे सके। यहां पार्किंग बनेगी, इसके बाद दुकानदाराें औैर ग्राहकाें के लिए पार्किंग के समस्या दूर हाेगी।
बस स्टैंड : शहर के 5 एंट्री प्वाइंट्स हैं, लेकिन बस स्टैंड पर्याप्त नहीं है। इसलिए शहर में जगह-जगह बसें खड़ी दिखाई देती हैं। सभी एंट्री प्वाइंट्स पर बस स्टैंड बनें।
सब्जी बाजार : स्मार्ट सिटी में जाेन वाइज फल-सब्जी के मार्केट बनें, वर्तमान में हालात खराब हैं। नाॅन वैंडिंग जाेन में ठेले व रेहड़ी वालाें का जमावड़ा देखा जा सकता है।
साइंस पार्क : साइंस पार्क का काम अटका है, जबकि केंद्र सरकार 8.65 कराेड़ रुपए कभी के आ चुके हैं। लेकिन अब काम शुरू नहीं हुआ।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें