पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

RAS 2018 इंटरव्यू का परिणाम घोषित:झुंझुनूं की मुक्ता राव रहीं टॉपर; टोंक के मनमोहन शर्मा दूसरे और जयपुर की शिवाक्षी खांडल तीसरे स्थान पर, टॉप 10 में 4 छात्राएं

अजमेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की गई RAS संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा 2018 के इंटरव्यू मंगलवार को दिन में पूरे हो गए। रात को ही आयोग ने परिणाम घोषित कर दिया। RPSC ने लॉकडाउन से अनलॉक होने के साथ ही सबसे बड़ी भर्ती का परिणाम जारी किया है। परीक्षा में झुंझुनूं की मुक्ता राव ने टॉप किया है। दूसरे नंबर पर टोंक के मनमोहन शर्मा और तीसरे नंबर पर जयपुर की शिवाक्षी खांडल रहे हैं। आयोग ने टॉप 10 अभ्यर्थियों की लिस्ट जारी की है।

आयोग द्वारा कुल 1051 पदों के लिए इस भर्ती प्रक्रिया का आयोजन किया था। इसमें नॉन टीएसपी क्षेत्र के 1014 और टीएसपी क्षेत्र के 37 पद शामिल हैं। आयोग के अध्यक्ष व पूर्व डीजीपी डॉ. भूपेंद्र सिंह यादव के कार्यकाल का आरएएस का यह पहला परिणाम है। परिणाम आयोग वेबसाइट पर देखा जा सकता है।

ये हैं 10 टॉपर
मेरिट में टॉप 10 में रहे अभ्यर्थियों में जयपुर का पलड़ा भारी रहा । 10 में से 3 अभ्यर्थी जयपुर के हैं। इसके साथ ही झुंझुनूं के 2 अभ्यर्थी मेरिट में आए हैं। अजमेर से इस बार भी कोई भी अभ्यर्थी टॉप 10 रेंक में अपनी जगह नहीं बना पाया। जयपुर से तीन, टोंक व झुंझुनूं से दो-दो अभ्यर्थी टॉप 10 में रहे।

  1. मुक्ता राव झुंझुनूं टॉपर
  2. मनमोहन शर्मा टोंक
  3. शिवाक्षी खांडल जयपुर
  4. निखिल कुमार झुंझुनूं
  5. वर्षा शर्मा जयपुर
  6. यशवंत मीना जयपुर
  7. रवि कुमार गोयल अलवर
  8. बीनू देवाल जालौर
  9. विकास प्रजापत टोंक
  10. सिद्धार्थ संधू नागौर

आयोग सचिव शुभम चौधरी ने बताया कि RAS 2018 के इंटरव्यू आयोग द्वारा 22 मार्च 2021 से 16 अप्रेल तक और इसके बाद 21 जून से 13 जुलाई तक आयोजित किए गए। ये इंटरव्यू आज पूरे हो गए। आयोग द्वारा कुल 2012 अभ्यर्थियों के इंटरव्यू किए गए। आयोग ने वेबसाइट पर नॉन टीएसपी व टीएसपी क्षेत्र के अलग-अलग अभ्यर्थियों के रोल नंबर मय मेरिट क्रमांक व कैटेगरी के जारी किए हैं।

टीएसपी क्षेत्र के कुल 54 और नॉन टीएसपी क्षेत्र के कुल 1969 अभ्यर्थियों के रोल नंबर, मेरिट क्रमांक व कैटेगरी जारी किए गए हैं। आयोग ने चार अभ्यर्थियों के परिणाम कोर्ट के आदेश पर रोक रखा है। इनके रोल नंबर भी जारी किए गए हैं।

झुंझुनूं के चिड़ावा की मुक्ता राव ने रचा इतिहास:RAS टॉपर ने कहा- बेटा रोज पूछता था, मम्मी आपने आज कितनी पढ़ाई की, उसकी ताकत ने बना दिया अव्वल

10 घंटे लग गए परिणाम तैयारी में
आयोग के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक दोपहर करीब 1 बजे इंटरव्यू पूरे हो गए थे। रात करीब 11 बजे परिणाम जारी हुआ। परिणाम तैयारी में 10 घंटे का समय लगा। आयोग की सीक्रेसी और कांफिडेंशियल टीम ने इस परिणाम को तैयार किया। आयोग के सूत्रों के मुताबिक ये टीम बिना परिणाम तैयार किए हुए आयोग के बाहर नहीं निकलती है।

RAS 2021 की भर्ती का विज्ञापन भी जल्द
राजस्थान लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष डॉ. भूपेंद्र सिंह यादव ने सभी सफल अभ्यर्थियों को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि आरएएस-2021 की भर्ती का विज्ञापन आयोग शीघ्र ही जारी करेगा।

यहां देखें RAS 2018 का परिणाम

तीन साल में पूरी हुई भर्ती प्रक्रिया, विवाद से शुरू, विवाद पर खत्म

राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित गई आरएएस 2018 अब 39 महीने से अधिक समय बीतने के बाद पूरी हाे सकी है। तत्कालीन सीएम वसुंधरा राजे के शासन काल में यह भर्ती प्रक्रिया शुरू हुई थी और अब सीएम अशोक गहलोत के कार्यकाल में मंगलवार को पूरी हुई।

इस तीन साल के लंबे अरसे के दौरान यह भर्ती प्रक्रिया कट ऑफ मार्क्स, परिणाम और इंटरव्यू में बुलाए अभ्यर्थियों की संख्या को लेकर कई बार कोर्ट में पहुंचने के कारण अटकती रही। विवादों का सिलसिला यहीं नहीं थमा, अब भर्ती प्रक्रिया अंजाम के करीब आते ही इस पर एसीबी की कार्रवाई का दाग भी लग गया। आयोग की ही सदस्य राजकुमारी गुर्जर के नाम पर आयोग के ही जूनियर अकाउंटेंट सज्जन सिंह गुर्जर द्वारा रिश्वत लेने का मामला उजागर होते ही इस पूरी भर्ती प्रक्रिया पर एक बार फिर अविश्वास और संशय के अनेक सवाल उठ खड़े हाे गए हैं।

इस भर्ती की प्रक्रिया 2 अप्रैल 2018 विज्ञापन जारी करने के साथ ही शुरू हो गई थी। यह भर्ती कई बार तकनीकी व नियम पालना संबंधी विभिन्न विवादों के कारण अटकती रही। कई बार कोर्ट प्रकरण होने पर आयोग के प्रति अभ्यर्थियों का विश्वास डगमगाया, लेकिन आयोग प्रबंधन ने कोर्ट में सही पक्ष रख कर समय रहते इस विश्वास को बहाल करने में कामयाबी पाने की कोशिश की, लेकिन अब ऐन इंटरव्यू समाप्ति के चार दिन पहले आयोग की सदस्य राजकुमारी गुर्जर के नाम पर आयोग के ही जूनियर अकाउंटेंट द्वारा रिश्वत लेते पकड़े जाने से एक बार फिर आयोग की साख दांव पर लग गई।

नवंबर 2018: प्री लिम्स से ही कोर्ट पहुंच गई थी भर्ती

यह भर्ती प्रीलिम्स से ही कोर्ट में पहुंच गई थी। पहला मामला नवंबर 2018 में कोर्ट पहुंचा। आयोग द्वारा जारी आरएएस प्री 2018 के परिणाम में ओबीसी की कटऑफ जनरल से अधिक होने को लेकर अभ्यर्थी कोर्ट पहुंच गए थे। कोर्ट ने मुख्य परीक्षा के परिणाम पर रोक लगा दी। आयोग ने कोर्ट के आदेश पर मुख्य परीक्षा का आयोजन 25-26 जून 2019 को करा लिया लेकिन परिणाम करीब एक साल बाद जुलाई 2020 को जारी हो सका।

अगस्त 2020 : इंटरव्यू के लिए चयनित अभ्यर्थियों की संख्या को लेकर विवाद

2 अगस्त 2020 काे आरएएस 2018 का मामला फिर कोर्ट पहुंच गया। आयोग द्वारा मुख्य परीक्षा के परिणाम में पदों के विरुद्ध डेढ़ गुणा अभ्यर्थियों को ही इंटरव्यू के लिए चयनित किए जाने को कोर्ट में चुनौती दी गई। इस पर कोर्ट ने आरपीएससी के पक्ष काे सही माना था, जिसके बाद ही यह इंटरव्यू प्रक्रिया संभव हाे सकी।

सितंबर 2020: राज्य सरकार व आरपीएससी को मिला नोटिस

आरएएस 2018 में असफल अभ्यर्थियों के मार्क्स नहीं जारी करने और उत्तर पुस्तिका नहीं दिखाने को लेकर मामला सितंबर 2020 को हाईकोर्ट पहुंच गया। इस मामले में राज्य सरकार व आरपीएससी को नोटिस पहुंचे।

दिसंबर 2020 : आयोग को इंटरव्यू स्थगित करने पड़े

आरएएस 2018 भर्ती का तीसरी बार मामला हाईकोर्ट में चले जाने पर आयोग को 7 दिसंबर 2020 से शुरू किए जाने वाले इंटरव्यू स्थगित करने पड़े थे। इसके चलते भर्ती और देरी से पूरी हुई। पूर्व सैनिक व मंत्रालयिक कर्मचारी वर्ग को बिना डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के इंटरव्यू के लिए बुलाने को लेकर भी विवाद रहा।

आरएएस सहित कई इंटरव्यू बोर्ड में शामिल रही हैं राजकुमारी

एसीबी की कार्रवाई के बाद सुर्खियों में आई राजस्थान लोक सेवा आयोग की सदस्य राजकुमारी गुर्जर आरएएस 2016 व 2018 सहित कई भर्तियों के इंटरव्यू बोर्ड में शामिल रही हैं। हालांकि, आयोग प्रबंधन आरएएस 2018 सहित सभी भर्तियों के इंटरव्यू में किसी प्रकार की गड़बड़ी से इंकार कर रहा है, लेकिन इन भर्तियों से जुड़े प्रदेश के कई अभ्यर्थियों की ओर से परीक्षा परिणाम की निष्पक्षता को लेकर संशय के सवाल भी उठने लगे हैं।राजकुमारी गुर्जर 7 दिसंबर 2016 को आयोग में सदस्य बन कर आई थीं।

आयोग में जितने भी सदस्य होते हैं, उन सभी को ही इंटरव्यू बोर्ड में शामिल किया जाता है। आरएएस 2016, कुल 725 पदों के लिए हुई थी। इन पदों के लिए हुए इंटरव्यू बोर्ड में राजकुमारी भी शामिल थी। अन्य भर्तियों में भी वे इंटरव्यू बोर्ड में शामिल रहीं। आरएएस 2018 के अधिकांश इंटरव्यू बोर्ड में राजकुमारी गुर्जर शामिल रहीं।

एसीबी की कार्रवाई के बाद हुए अंत में दो दिन के इंटरव्यू में यह शामिल नहीं थी। आयोग सूत्रों के मुताबिक आरएएस भर्ती के साथ ही एसआई भर्ती परीक्षा 2016 के 511 पदों के लिए हुए इंटरव्यू, जूनियर लीगल ऑॅफिसर के 156 पदों के लिए हुए इंटरव्यू, सीनियर साइंटिफिक ऑॅफिसर के 23 पद, वाइस प्रिंसीपल सुप्रींटेंडेंट आईटीआई के 86 पद, पीआरओ भर्ती के 26 पद, लाइब्रेरियन ग्रेड सेकंड भर्ती के 12 पदों आदि के लिए हुए इंटरव्यू में भी शामिल रही हैं। आयोग में बाहरी लोगाें की एंट्री पर रोक : एसीबी की कार्रवाई के बाद आयोग प्रशासन हरकत में आया है। आयोग में अब बाहरी लोगों की एंट्री पर रोक लगा दी गई है। विभागाध्यक्षों को पालना के लिए निर्देशित किया है।

आरएएस 2018 के इंटरव्यू पूल प्रूफ हुए हैं। आयोग के जिस जूनियर अकाउंटेंट सज्जन गुर्जर को एसीबी ने पकड़ा है, इंटरव्यू प्रक्रिया में उसका कोई हाथ नहीं है। कोई व्यक्ति आयोग के बाहर लोगों से क्या झूठा प्रॉमिस करके झांसे में ले रहा है, इसका आयोग को कैसे पता चलेगा। एसीबी भी तफ्तीश कर रही है और आयोग भी इस बारे में जानकारी जुटा रहा है।

-डॉ. भूपेंद्र सिंह यादव, अध्यक्ष राजस्थान लोक सेवा आयोग

परचून की दुकान पर सामान बेचते थे रवि:अब RAS में 7वीं रैंक, मां सिलाई मशीन से खर्च चलाती थी, एक-एककर चढ़ी सफलता की सभी सीढ़ियां

RAS में 10वीं रैंक, फिर भी अधूरी रह गई खुशी:जिस पिता के सपने को लक्ष्य बनाकर सिद्धार्थ ने मेहनत की, कोरोना ने उसे एक महीने पहले छीन लिया; अब IAS की तैयारी में जुटे

खबरें और भी हैं...