• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Municipal Garbage Filling In ADA Plots; Tracking Ground About 15 KM Away, Garbage Dumped Here And There To Save Diesel

अजमेर में कचरा परिवहन में अनियमितता:ADA भूखंडों में भर रहा नगर निगम कचरा; करीब 15 KM दूर ट्रेचिंग ग्राउंड, डीजल बचाने के लिए इधर उधर डाल रहे कचरा

अजमेर6 महीने पहले
डाला जा रहा कचरा

अजमेर में कचरा परिवहन में अनियमितता बरती जा रही है। माखुपुरा में बनाए गए ट्रेचिंग ग्राउंड के बजाय नगर निगम की ओर से बाहरी क्षेत्र के गली- मोहल्लों व अन्य जगहों से एकत्र कचरे को अजमेर विकास प्राधिकरण (ADA) के खाली पडे़ भूखंडों में डाला जा रहा है। इससे कचरा परिवहन कर रहे ट्रेक्टर चालकों का डीजल व समय तो बच रहा है, लेकिन खाली भूखंडों में डाला जा रहा कचरा क्षेत्रवासियों के लिए परेशानी बन रहा है।

ऐसा ही एक उदारहण कोटड़ा में मंगलम फ्लेट्स के पास शनिवार को देखने को मिला। पास ही कॉलोनी से चकरा भरकर एक ट्रेक्टर चालक खाली पडे़ भूखंडों में उसे डाल रहा था तो क्षेत्रवासी कुछ लोग आ गए और उसे रोक दिया। पकडे़ जाने पर उसे जब पूछा कि ट्रेचिंग ग्राउंड के बावजूद यहां क्यों डाल रहा है, तो उसने खुद का बचाव करते हुए कहा कि वह अभी नया है और उसे जानकारी नहीं। इसलिए गलती से डाल दिया। वैसे माखुपुरा ही डालना था।

नगर निगम का ट्रेक्टर, जिससे कचरा डाला जा रहा
नगर निगम का ट्रेक्टर, जिससे कचरा डाला जा रहा

बाद में जब क्षेत्रवासियों कैलाशचन्द जांगीड़, राजकुमार पारीक, शिवलहरी पुरोहित आदि ने अजमेर विकास प्राधिकरण व नगर निगम के अधिकारियों को इसकी सूचना दी तो बाद में ट्रेक्टर चालक ने अपने ट्रेक्टर को हटाया और डाला गया कचरा वापस भरकर ले जाने की बात कही। इस पर क्षेत्रवासी शांत हुए और भविष्य में ऐसा नहीं करने के लिए हिदायत दी।

इसलिए करते है ऐसा

जानकारों के मुताबिक कोटड़ा से ट्रेचिंग ग्राउंड की दूरी करीब पन्द्रह किलोमीटर है और ऐसे में आस पास की कॉलोनियों से एकत्र किए गए कचरे को आस पास में ही खाली भूखंड देखकर भर देते है। इससे एक तो इनके समय की बचत हो जाती है और दूसरा डीजल भी बच जाता है। इस ट्रेक्टर का माइलेज मीटर भी चालु नहीं था। ऐसे में दूरी से बचकर खुद की जेब भर रहे है।

ADA को नहीं परवाह

नगर निगम की ओर से खाली पडे़ भूखंडों में यह कचरा डाला जाता है। यह कचरा किसी निजी आदमी के भूखंड में डाले तो विरोध होने का डर रहता है लेकिन अजमेर विकास प्राधिकरण के भूखंडों पर कोई रोक टोक नहीं होती और ये यहां आराम से अपना कचरा डाल देते है।

खबरें और भी हैं...