पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एसबीआई कैश डिपॉजिट मशीन:अब एसबीआई की कैश डिपॉजिट मशीन से नहीं निकलेगी नकदी

अजमेर22 दिन पहलेलेखक: अतुल सिंह
  • कॉपी लिंक

नूह मेवाती गैंग द्वारा देशभर में स्टेट बैंक आॅफ इंडिया की कैश डिपॉजिट मशीनों (सीडीएम) से लाखाें की नकदी निकालने की ताबड़तोड़ वारदातों के बाद बैंक ने व्यवस्थाओं में बदलाव किया है। एसबीआई की इन मशीनाें से अब नकदी नहीं निकाली जा सकेगी, यानी बैंक ग्राहक अपने एटीएम कार्ड से सीडीएम से कैश नहीं निकाल सकेंगे। अब तक सीडीएम से नकदी निकाली औैर जमा करवाई जा सकती है। बढ़ती वारदाताें के बाद यह कदम उठाया है।

क्या हाेती है सीडीएम ? इन्हीं मशीनाें काे क्याें चुनते थे वारदाताें के लिए : नूह मेवाती गैंग ने देशभर में एसबीआई एटीएम बूथाें में जितनी भी वारदाताें काे अंजाम दिया है, उनका सभी का एक ही तरीका-ए-वारदात है। गैंग के गुर्गे सीडीएम में ही वारदात करते हैं, वारदात काे इस तरह से अंजाम दिया जाता था कि जैसे ही कैश निकालने की समस्त प्रक्रिया पूरी हाेती, तुरंत मशीन की पाॅवर ऑफ कर दी जाती। इससे कैश काे बाहर निकल जाता, लेकिन यह बैंक के रिकार्ड में नहीं चढ़ता। ऐसा सिर्फ सीडीएम में किसी बड़ी तकनीकी खामी के कारण हाे रहा था। जैसे ही बैंक काे यह समझ आया, तुरंत प्रभाव से सीडीएम से नकदी की निकासी बंद कर दी गई।

अजमेर में हैं 12 सीडीएम : अजमेर में नूह मेवाती गैंग के गुर्गाें से पिछले दिनाें कई वारदाताें काे अंजाम दिया था। सभी वारदातें एसबीआई एटीएम बूथ में अंजाम दी गई। अजमेर में एसबीआई की 12 सीडीएम लगी हुई हैं। गैंग के गुर्गाें ने करीब 26 लाख रुपए निकाल लिए थे। हालांकि इस मामले में जिला पुलिस ने त्वरित कार्रवाई कर गैंग के सरगना औैर दाे गुर्गाें काे गिरफ्तार किया था। गैंग का सरगना बीटेक डिग्री धारी था, औैर गांव के कई युवाओं काे एटीएम में वारदात करने का तरीका सिखा चुका था।

अब 24 घंटे एसबीआई एटीएम में तैनात रहेंगे गार्ड : जिलेभर में एसबीआई के 158 एटीएम पर अब 24 घंटे सिक्यूरिटी गार्ड तैनात करने की तैयारी की जा रही है। शहर के सभी मुख्य एटीएम पर चाैबीस घंटे की गार्ड तैनात कर दी गई है।

खबरें और भी हैं...