पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Oxygen Concentrator Reaches Delhi For Kishangarh By Singapore Air Route, There Will Be A Shortage Of Oxygen In The Hospital

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मशीन की खासियत:सिंगापुर हवाई मार्ग से किशनगढ़ के लिए दिल्ली पहुंचे ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी होगी दूर

अजमेर/किशनगढ़8 दिन पहलेलेखक: विकास टिंकर
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए सांसद चौधरी ने दिए 30 लाख, विधायक टांक ने कंसन्ट्रेटर के लिए दिए 25 लाख

कोरोना की भयावहता के बीच ऑक्सीजन की कमी की खबरों के बीच मंगलवार को राहतभरी खबर सामने आई हैं। राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल के लिए मंगवाई जा रही ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीनें हवाई मार्ग से सिंगापुर से दिल्ली पहुंच चुकी हैं। मशीनें दो दिन में किशनगढ़ के सरकारी अस्पताल को मिल जाएगी। मशीनों के आने से ना सिर्फ ऑक्सीजन की कमी पूरी होगी बल्कि खुद अस्पताल प्रशासन ऑक्सीजन बना सकेगा। खास बात यह है कि यह मशीन 24 घंटे में से साढ़े 23 घंटे लगातार काम करती है।

आधे घंटे के लिए इस मशीन को बंद करना होता है। सबसे अच्छी बात यह है कि मशीन हवा से ही कृत्रिम शुद्ध ऑक्सीजन जनरेट कर लेती हैं। यानि इसके लिए इसे कहीं दूरस्थ स्थान पर ले जाने की आवश्यकता नहीं है। एक कंसन्ट्रेटर मशीन मल्टी ऑक्सीजन की सप्लाई देती हैं। यानि एक मशीन से दो मरीजों को ऑक्सीजन मिल सकती है। वर्तमान में सांसद भागीरथ चौधरी 30 लाख रुपए और विधायक सुरेश टांक 25 लाख रुपए की राशि से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मंगवा रहे हैं। ऐसे में अस्पताल के पास काफी संख्या में मशीनें होने से ऑक्सीजन की व्यवस्था बेहतर हो जाएगी।

आधे घंटे में तैयार होगी दिनभर की ऑक्सीजन बढ़ेगी कोविड वार्ड में बेड की संख्या
ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की खासियत यह है कि इतना तेजी से काम करता है कि आधे घंटे में दिनभर की ऑक्सीजन बना देता हैं। मशीन से दो ऑक्सीजन पाइप निकले होते है। इससे दो से तीन मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध करा दी जाती हैं। मशीन अत्याधुनिक हैं और इसे चलाना भी आसान हैं। विधायक सुरेश टांक ने व्यापारियों से आग्रह किया कि वे मशीन की खरीद में मदद करें। ताकि ज्यादा से ज्यादा कंसन्ट्रेटर मंगवा सके। इसके आने के बाद कोरोना मरीजों के लिए बैड की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।

कम हो जाएगी निर्भरता
यज्ञनारायण अस्पताल के पास प्रतिदिन 50 से 60 ऑक्सीजन सिलेंडर आ रहे हैं। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यह भी काफी कम है। अस्पताल को गेगल स्थित प्लांट से ऑक्सीजन सिलेंडर मिल रहे हैं। यानि अस्पताल दूसरे प्लांटों पर निर्भर हैं। लेकिन ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर आने के बाद अस्पताल प्रशासन खुद ऑक्सीजन बनाएगा। मरीजों को तुरंत ऑक्सीजन मिलने के साथ ही अस्पताल में लगे ऑक्सीजन प्लांट में भी पर्याप्त ऑक्सीजन भरी जा सकेगी। इससे 24 घंटे मरीजों को बेड टू बेड ऑक्सीजन मिल सकेगी।
दूसरे अस्पतालों को भी दे सकेंगे ऑक्सीजन : क्सीजन कंसन्ट्रेटर आने के बाद शहर के अन्य निजी अस्पतालों को भी ऑक्सीजन आपूर्ति की जा सकेगी। वर्तमान में शहर के निजी अस्पताल भी ऑक्सीजन दूसरे प्लांटों से मंगवा रहे हैं। अस्पताल प्रशासन निर्धारित शुल्क में ऑक्सीजन जनरेट करके दूसरे अस्पताल को दे सकता है।

ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर सामान्य हवा से ऑक्सीजन जनरेट करता है। लिक्विड ऑक्सीजन या प्रेशराइज्ड ऑक्सीजन की सुविधा नहीं होने पर यह कारगर हैं। बड़े से लेकर छोटे अस्पतालों नर्सिंग होम, क्लीनिक, होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए मददगार हैं। सांस की तकलीफों वाले मरीजों के लिए कंसन्ट्रेटर प्रेशर स्विंग एब्जॉशन तकनीक का इस्तेमाल कर ऑक्सीजन बनाता है। प्राकृतिक हवा में 21 प्रतिशत ऑक्सीजन, 78 प्रतिशत नाइट्रोजन और शेष हिस्से में अन्य गैस होती हैं। इसे सामान्य हवा से नाइट्रोजन को अलग करता हैं। ऑक्सीजन गैस बाहर निकालती है। एक ट्यूब के जरिये इसका इस्तेमाल मरीज सांस लेने में करता हैं। लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन 99 फीसदी तक शुद्ध ऑक्सीजन देता है। े एक साथ दो मरीजों को बिना ऑक्सीजन सिलेंडर ऑक्सीजन मिलेगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें