पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ऑक्सीजन की आपूर्ति:मित्तल में ऑक्सीजन खत्म, परिजनाें काे भेजे मैसेज, मरीजाें काे ले जाओ, केवल सुबह तक का है स्टाॅक

अजमेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मित्तल अस्पताल के बाहर परेशान होते परिजन। - Dainik Bhaskar
मित्तल अस्पताल के बाहर परेशान होते परिजन।
  • लिक्विड ऑक्सीजन का लगा है प्लांट, लेकिन आपूर्ति नहीं हाेने से बिगड़े हालात

‘हमें आपको यह बताते हुए खेद है कि मित्तल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में एयर लिक्विड नॉर्थ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड से ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति नहीं मिल रही है। केंद्र सरकार द्वारा आवंटित अपर्याप्त कोटा के कारण हमारे यहां ऑक्सीजन की कमी हाे रही है। फिर भी हम ऑक्सीजन पाने की कोशिश कर रहे हैं और सरकार के सभी स्तरों पर प्रयास कर रहे हैं। हालांकि, हमें ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। हमारे पास कल सुबह यानी मंगलवार तक ही मरीजों को देने के लिए ऑक्सीजन स्टॉक में है। आपके सम्मानित रोगी के कल्याण के लिए हम विनम्रतापूर्वक आपसे अनुरोध करते हैं कि कृपया रोगी को किसी अन्य केंद्र में किसी भी तरह से कल सुबह 10 बजे से पहले स्थानांतरित कर दें

यह संदेश मित्तल अस्पताल प्रशासन की ओर से जारी किया गया है। कुछ ऐसे ही संदेश मरीजाें के परिजनों के माेबाइल पर आते ही खलबली मच गई। शाम सात बजे एक-एक करके वहां भर्ती मरीजाें के माेबाइल पर मैसेज भेजे गए। इन मैसेज काे पढ़कर मरीजो के परिजनाें के बीच असमंजस की स्थिति हाे गई है कि वह अपने मरीजाें काे ऐसी अवस्था में कहां लेकर जाएं। मित्तल अस्पताल में अधिकांश मरीज ऑक्सीजन व वेंटिलेटर पर हैं। ऐसे में मरीज काे शिफ्ट करना उनकी जान जाेखिम में डालना है। जिले के सभी अस्पताल फुल हैं। ऐसे में मरीज काे परिजन रात में कहां लेकर जाएं, इसी काे लेकर परिजन परेशान हैं। मैसेज आने के बाद परिजन तुरंत जेएलएन अस्पताल पहुंचे लेकिन यहां पर भी बेड फुल हैं। ऑक्सीजन का स्टाॅक यहां पर भी मरीजाें की भर्ती जितना ही है।

मित्तल अस्पताल से मरीजांे काे शिफ्ट करने के मैसेज जारी हाेते ही लाेग पैनिक हाेने लगे। कुछ ही देर में मरीजाें के परिजनाें का जमावड़ा अस्पताल के बाहर लग गया। यहां हालात बिगड़ते इससे पहले ही जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुराेहित ने तुरंत इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए मित्तल अस्पताल के संचालकाें काे पाबंद किया कि ऑक्सीजन की व्यवस्था की जाए, यहां से मरीजाें काे शिफ्ट नहीं किया जाएगा।

मित्तल अस्पताल के संचालकाें काे पाबंद किया है कि वह किसी भी मरीज काे नहीं भेजेंगे। क्सीजन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं।
- प्रकाश राजपुराेहित, जिला कलेक्टर

अस्पताल को रोजाना ढाई टन लिक्विड ऑक्सीजन की जरूरत है, लेकिन एक टन ही मिल रही है। इस एक टन की भी सोमवार की देर रात तक कोई कनफर्मेशन नहीं मिली है। इसीलिए समय रहते मरीजों को यहां से डिस्चार्ज करने की नौबत आई है। जिला प्रशासन, राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव भी इस मसले पर प्रयास कर रहे हैं।
-श्याम सोमानी,

अस्पताल को रोजाना ढाई टन लिक्विड ऑक्सीजन की जरूरत है, लेकिन एक टन ही मिल रही है। इस एक टन की भी सोमवार की देर रात तक कोई कनफर्मेशन नहीं मिली है। इसीलिए समय रहते मरीजों को यहां से डिस्चार्ज करने की नौबत आई है। जिला प्रशासन, राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव भी इस मसले पर प्रयास कर रहे हैं।
-श्याम सोमानी,
उपाध्यक्ष, मित्तल अस्पताल एंड रिसर्च सेंटर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें