पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Parents Expressed Their Anger By Reaching The Collectorate; Said Playing With The Future Of Children, Administration Should Take Action

प्राइवेट स्कूलों पर परेशान करने का आरोप:अभिभावकों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर जताया रोष; कहा-बच्चों के भविष्य से कर रहे खिलवाड़, कार्रवाई करें प्रशासन

अजमेर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
विरोध करते अभिभावक। - Dainik Bhaskar
विरोध करते अभिभावक।

प्राइवेट स्कूलों पर मनमर्जी करने व परेशान करने का आरोप लगाकर अभिभावकाें ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर विरोध जताया। बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे प्राइवेट स्कूलों पर कार्रवाई की मांग की। कलेक्टर ने अभिभावकों को उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

संयुक्त अभिभावक संघ के अजमेर जिला अध्यक्ष लोकेन्द्र खंडेलवाल व महासचिव मुकेश पारीक सहित अन्य की ओर से दिए गए ज्ञापन में बताया गया कि निजी स्कूल फीस को लेकर लगातार हठधर्मिता बरत रहे हैं और फीस का दबाव बनाकर बच्चों के भविष्य तक से खिलवाड़ करने की धमकियां दे रहे है। इन दिनों देखने को भी मिला है कि फीस को लेकर निजी स्कूलों ने छात्र-छात्राओं की ऑनलाइन पढ़ाई, रिजल्ट और एग्जाम तक रोक दी है जो पूरी तरह से गैरकानूनी है।

अभिभावक कोरोना संक्रमण के इस विपरीत काल से इतना प्रभावित हुआ है कि वह अपने परिवार के पालन-पोषण को लेकर असमर्थ हो चुका है, ऐसी स्थिति में निजी स्कूलों की फीस वसूली जख्मों पर नमक छिड़कने का कार्य कर रही है। वे ना केवल अभिभावकों को अपमानित कर रहे हैं, बल्कि बच्चों की आड लेकर उन्हें प्रताड़ित तक किया जा रहा है। निजी स्कूलों के अनैतिक दबाव से उनके भविष्य के सपनों के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

परेशान कर रहे प्राइवेट स्कूल

संदीप वर्मा ने बताया कि प्राइवेट स्कूल वाले कोरोना काल की पूरी फीस लेना चाह रहे है और वह फीस देने में असमर्थ है। ऐसे में न तो बच्चे को पढ़ाई कराई जा रही है और न ही टीसी दे रहें है। ऐसे में उसका दूसरी स्कूल वाले भी एडमिशन नहीं कर रहे। ऐसे में परेशान है। खुशाल अग्रवाल ने कहा कि मैं वर्तमान स्कूल को अफोर्ड नहीं कर पा रहा हूं और ऐसे में दूसरी स्कूल में एडमिशन कराना चाहता हूं, लेकिन वे टीसी मांग रहे हैं। जब बिना टीसी प्रवेश देने का नियम है तो फिर अभिभावकों को क्यों परेशान किया जा रहा है।