घूसखोर ASP दिव्या अजमेर जेल में नंगे पैर घूम रही:महिला बंदियों के साथ लाइन में खड़ी दिखी; 2 करोड़ की मांगी थी रिश्वत

अजमेर11 दिन पहले

लग्जरी लाइफ जीने वाली गिरफ्तार स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) की एडिशनल एसपी का रुतबा कल तक पूरे राजस्थान में चलता था। वह अब अपने काले कारनामों के चलते अजमेर की सेंट्रल जेल में बंद है। जेल के अंदर का दिव्या मित्तल का एक फोटो सामने आया है।

इसमें मित्तल जेल में नंगे पैर लाइन में खड़ी दिख रही है। सर्द मौसम में सीमेंट के फर्श पर नंगे पैर खड़ी दिव्या का फोटो सोशल मीडिया पर भी खूब शेयर किया जा रहा है। दिव्या 3 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में ही रहेंगी।

दरअसल, सोमवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव रामपाल जाट अजमेर सेंट्रल जेल स्थित महिला बंदी सुधार गृह का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

जाट के इस निरीक्षण की फोटो जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने जारी की है। इस फोटो में एसओजी की निलंबित एडिशनल एसपी दिव्या मित्तल आम महिला बंदियों की लाइन में नजर आई।

प्राधिकरण की ओर से हर सप्ताह महिला बंदियों से उनकी परेशानी या दूसरी समस्याओं की जानकारी लेने के लिए साप्ताहिक निरीक्षण किया जाता है।
प्राधिकरण की ओर से हर सप्ताह महिला बंदियों से उनकी परेशानी या दूसरी समस्याओं की जानकारी लेने के लिए साप्ताहिक निरीक्षण किया जाता है।

निरीक्षण के दौरान विचाराधीन महिला बंदियों से व्यक्तिगत रूप से बात की। दरअसल, जिन बंदियों के बाद वकील नहीं होते हैं प्राधिकरण उनकी कानूनी सहायता में मदद करता है।

वहीं, दिव्या मित्तल के केस में डीएसपी मांगीलाल ने बताया कि घूसखोर कांड में बर्खास्त कांस्टेबल सुमित की तलाश की जा रही है।

दिव्या से रिमांड के दौरान लैपटॉप और कुछ अन्य इलेक्ट्रोनिक्स गैजेट्स बरामद किए गए हैं, इनकी एफएसएल से जांच कराई जाएगी।

एसओजी एएसपी दिव्या मित्तल से जुड़ी दूसरी जानकारियों को लेकर भी एजेंसियां जांच कर रही है।
एसओजी एएसपी दिव्या मित्तल से जुड़ी दूसरी जानकारियों को लेकर भी एजेंसियां जांच कर रही है।

कोर्ट से नहीं मिली राहत
मंगलवार को एसीबी कोर्ट में दोनों पक्षों के बहस के बाद दिव्या मित्तल की जमानत अर्जी खारिज कर दी। इस मामले में सरकार की ओर से पैरवी एडवोकेट तनारायण चितारा ने की है।

झील में 3 घंटे हुआ था सर्च
दिव्या के सरकारी गाड़ी के ड्राइवर बहादुर की निशानदेही पर रिमांड के दौरान आनासागर के रामप्रसाद घाट इलाके में झील में सर्च किया गया था।

पता चला था कि दिव्या ने एसीबी मुख्यालय में केस दर्ज होने के एक दिन पहले रविवार को आनासागर में मोबाइल, बैग और अन्य सबेत फेंक दिए थे।

21 जनवरी को जयपुर एसीबी के द्वारा दो करोड़ की रिश्वत मामले में गिरफ्तार निलंबित एसओजी के एडिशनल एसपी दिव्या मित्तल को अजमेर कोर्ट में पेश किया गया था। जज ने दिव्या मित्तल को 3 फरवरी तक जेल भेजने के आदेश दिए थे।

दिव्या ने मांगी थी रिश्वत
2 करोड़ की रिश्वत मांगने के मामले में जयपुर ACB टीम ने अजमेर में 16 जनवरी को SOG की एडिशनल SP दिव्या मित्तल को पकड़ा गया।

मित्तल को एसीबी की टीम अजमेर से जयपुर लाई थी। इसके बाद गिरफ्तार कर लिया गया। माना जा रहा है कि SOG के किसी अधिकारी का रिश्वत में इतनी बड़ी रकम मांगने का यह पहला मामला है।

इतनी बड़ी अधिकारी को ट्रैप करना भी आसान नहीं था। दिव्या ने मादक पदार्थ तस्करी के मामले में हरिद्वार की फार्मा कंपनी के मालिक काे गिरफ्तार नहीं करने की एवज में बर्खास्त पुलिसकर्मी सुमित कुमार के माध्यम से यह घूस मांगी थी।

उदयपुर स्थित नेचर हिल रिसॉर्ट। यहां एक मैरिज पार्टी के लिए करीब साढ़े तीन लाख रुपए तक किराया लिया जाता है। कहा जाता है कि यह रिसॉर्ट दिव्या मित्तल का है।
उदयपुर स्थित नेचर हिल रिसॉर्ट। यहां एक मैरिज पार्टी के लिए करीब साढ़े तीन लाख रुपए तक किराया लिया जाता है। कहा जाता है कि यह रिसॉर्ट दिव्या मित्तल का है।

लग्जरी लाइफ की शौकीन
दिव्या से जुड़े लोगों ने बताया कि उसे हमेशा से लग्जरी लाइफ का शौक है। उदयपुर में एक रिसॉर्ट नेचर हिल पैलेस के बारे में तो ज्यादातर लोगों को पता है, लेकिन इसके अलावा भी कई प्रॉपर्टी हैं, जो दिव्या ने अपने रिश्तेदारों के नाम से खरीदी है। दिव्या के नजदीकियों का कहना है कि वो हर साल प्रॉपर्टी में इंवेस्ट करती है।

दिव्या की पर्सनल लाइफ भी उतार-चढ़ाव भरी रही है। जून 2014 में दिव्या की मुलाकात सोशल मीडिया पर हिसार के CA प्रतीक से हुई। तीन महीने बाद दोनों उदयपुर में मिले। दिव्या के घरवाले शादी के लिए राजी थे। प्रतीक ने दिव्या से कहा कि गुड़गांव में उसकी मां की रजामंदी के बाद ही शादी करेंगे।

दिव्या और उसके पिता विनोद मित्तल दिल्ली गए थे। वे कई दिनों तक वहीं रुके, लेकिन प्रतीक की मां से मुलाकात नहीं हुई। इसके बाद प्रतीक और दिव्या ने गुपचुप मंदिर में शादी कर ली थी। तय किया कि कुछ दिनों के बाद प्रोग्राम में शादी कर लेंगे। इसके बाद दोनों पति-पत्नी के रूप में किराए के मकान में साथ रहने लगे। दोनों भरतपुर, उदयपुर, मथुरा में भी साथ रहे थे।

दिव्या के पिता विनोद मित्तल ने 2015 में हिसार पुलिस को दहेज प्रताड़ना की शिकायत दी थी। विवाद होने के बाद दोनों के बीच में तलाक हो चुका है।

45 साल पहले हरियाणा से झुंझुनूं आया परिवार
दिव्या मित्तल का परिवार मूलत: हरियाणा में चरखीदादरी के पास गांव का रहने वाला है। करीब 45 साल पहले परिवार हरियाणा से झुंझुनूं के चिड़ावा में शिफ्ट हो गया था। पिता ने ट्रैक्टर की एजेंसी खोली थी। बाद में एजेंसी बंद कर दी थी। दिव्या दो भाई व तीन बहनों में सबसे छोटी है।

दिव्या ने चिड़ावा में स्कूल और कॉलेज में पढ़ाई पूरी की थी। भाई पहले बस और माइनिंग का काम करते थे। एक भाई अभी पिलानी (झुंझुनूं) में बिजनेस कर रहा है। दूसरे भाई का प्रॉपर्टी व माइनिंग का काम है। दिव्या के माता-पिता अभी भी गांव में ही रहते हैं।

ये भी पढ़ें-

दिव्या ने कोर्ट को भी चकमा दिया:केस क्लब नहीं होने से 15 दिन में छूटा आरोपी, हाईकोर्ट में पूरे तथ्य पेश नहीं किए

प्रतिबंधित दवाओं की तस्करी के केस में गिरफ्तारी का डर दिखाकर हरिद्वार की फार्मा कंपनी के मालिक से 2 करोड़ रुपए की घूस मांगने के मामले में गिरफ्तार एसओजी की एएसपी दिव्या मित्तल दवा सप्लायर को फायदा पहुंचाने के लिए हाईकोर्ट तक को चकमा देने से नहीं चूकीं। (पूरी खबर पढ़ें)