सतर्कता / साेशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने के नियमाें की पालना कराने में जुटी पुलिस

Police are involved in catering to the rules of special distancing and masking
X
Police are involved in catering to the rules of special distancing and masking

  • लॉकडाउन में छूट से आमजन को राहत: शहर में शाम सात बजे बाद जीराे माेबिलिटी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:45 AM IST

अजमेर. कर्फ्यूग्रस्त इलाकाें में पुलिस पूरी तरह से जीराे माेबिलिटी पर जाेर दे रही है, वहीं कर्फ्यूमुक्त वाले इलाकाें में लाेग बड़ी संख्या में घराें से बाहर निकल रहे हैं। पुलिस इन इलाकाें में लाेगाें काे राेकने के बजाए अब सोशल डिस्टेंसिंग और  मास्क लगाने के नियमाें की पालना कराने में जुटी है। पिछले तीन दिन में जिले भर में पुलिस ने एक हजार से ज्यादा लाेगाें पर कार्रवाई की और जुर्माना वसूला है। शहर में पड़ाव, केसरगंज, नला बाजार, दरगाह बाजार, धानमंडी, कवंडसपुरा, पुरानी मंडी आदि प्रमुख बाजारों में कर्फ्यू है।
नगरीय निकाय के अधिकारी भी वसूलेंगे जुर्माना

कोरोना के दौरान जारी एडवाइजरी के तहत मास्क नहीं पहनने सहित अन्य तरीके से उल्लंघन करने पर अब नगरीय निकायों के अधिकारी भी जुर्माना वसूल सकेंगे।  जिला कलेक्टर ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार राजस्व निरीक्षक से समकक्ष रैंक के नगर निगम, परिषद या पालिका के सभी अधिकारियों को राजस्थान महामारी अध्यादेश 2020 में वर्णित अपराधों के जुर्माने को इनके कार्य क्षेत्र में वसूलने के लिए अधिकृत किया गया है।
अजमेर शहर में शाम सात से सुबह 7 बजे तक सभी दुकानें बंद 
शहर में शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक जीराे माेबिलिटी की पालना पुलिस सख्ती से करवा रही है। पुलिस दलाें ने शुकवार काे भी क्रिश्चियनगंज, वैशाली नगर, रामगंज, श्रीनगर राेड, नसीराबाद राेड और मुख्य बाजार नयाबाजार, मदार गेट, कचहरी राेड और आसपास के इलाकाें में दुकानदाराें काे निर्धारित समय पर दुकानें बंद करने की अपील की। शाम सात बजे बाद सड़काें पर सिर्फ आपातकालीन और अन्य जरूरी सेवाओं से जुड़े लाेगाें की ही आवाजाही हाे रही है।
हाेम क्वारेंटाइन नियमाें की सख्ती से पालना पर जाेर
राज्य सरकार की ओर से एक जिले से दूसरे जिले में आने-जाने की छूट देने के बाद अजमेर जिले में बाहर से आने वालाें में सबसे ज्यादा संक्रमित निकल रहे हैं, यही कारण है कि अब बाहर से आने वाले लाेगाें पर निगरानी कड़ी कर दी है। हालांकि बाहर से आने वाले लाेगाें के लिए सरकारी अस्पताल या डिस्पेंसरी में सूचना देना जरूरी है। उन्हें मेडिकल जांच के बाद हाेम क्वारेंटाइन का नाेटिस दिया जाता है। इस नाेटिस काे घर के बाहर चस्पा कर इसके नियमाें और शर्ताें की पालना करने का प्रावधान है, लेकिन ज्यादातर लाेग क्वारेंटाइन नियमाें का पालन नहीं कर रहे हैं।  
इसलिए जरूरी है क्वारेंटाइन नियमाें की पालना

दूसरे शहराें से अजमेर आने वाले लाेगाें की मेडिकल जांच और एहतियात के ताैर पर इन्हें 14 दिन के लिए हाेम क्वारेंटाइन किए जाने के पीछे यह उद्देश्य है कि इनके द्वारा काॅलाेनी, गली-माेहल्लाें के लाेेगाें में संक्रमण नहीं फैले। इसके लिए हाेम क्वारेंटाइन के नियमाें के तहत परिवार के अन्य सदस्याें से अलग रहकर दिनचर्या का प्रावधान है। पिछले दिनाें मुंबई, अहमदाबाद और अन्य दूसरे शहराें से अजमेर आए लाेगाें में से सात लाेगाें की काेराेना जांच रिपाेर्ट पाॅजिटिव पाई गई है। 
इन धाराओं में मुकदमा

चिकित्सा विभाग की ओर से हाेम क्वारेंटाइन किए गए लाेगाें द्वारा अगर नियमाें का उल्लंघन किया जाता है ताे संबंधित थाना पुलिस आरोपियों के खिलाफ धारा 271 और 188 सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज हो सकता है। 
नियमाें के उल्लंघन पर यह जुर्माना

राज्य सरकार की ओर से जारी आदेश के तहत राजस्थान महामारी अध्यादेश 2020 के तहत क्वारेंटाइन नियमाें का उल्लंघन करने वालाें से 1000 रुपए, बिना मास्क पर आमजन से 200 और दुकानदार से 500 रुपए वसूले जाने के निर्देश हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना