निरीक्षण / जयपुर जेल में संक्रमण के बाद एहतियात, सभी जेलकर्मियों की हाेगी काेराेना जांच

Precaution after infection in Jaipur jail, Karena investigation of all jail staff
X
Precaution after infection in Jaipur jail, Karena investigation of all jail staff

  • डीजी जेल ने हाईसिक्यूरिटी और सेंट्रल जेल में व्यवस्थाओं का जायजा लिया

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:59 AM IST

अजमेर. राज्य के जेल महानिदेशक एनआरके रेड्डी ने शनिवार काे जाेधपुर से जयपुर लेटते समय अजमेर में हाई सिक्यूरिटी जेल और सेंट्रल जेल में व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्हाेंने अधिकारियाें काे निर्देश दिए कि  काेराेना संक्रमण से बचाव के लिए एहतियात बरती जाए। इसके तहत सभी जेलकर्मियाें की नियमित मेडिकल जांच और संदिग्ध लक्षण वाले लाेगाें के सेम्पल लिए जाएं। रेड्डी ने बताया कि अजमेर जेल कर्मियाें और कैदियाें की जांच रिपाेर्ट निगेटिव आई है। डीजी रेड्डी ने अधिकारियाें से कहा है कि सबसे पहले जेल स्टाफ काे काेराेना संक्रमण से बचाव करना हाेगा, अन्यथा स्थिति गंभीर हाे सकती है। 
सभी जेलाें में विशेष आइसोलेट वार्ड, साेशल डिस्टेंसिंग की पालना | जेल महानिदेशक एनआरके रेड्डी ने बताया कि पिछले दिनाें जयपुर जेल में संक्रमित पाए गए 80 प्रतिशत जेल कर्मियाें और कैदियाें की काेराेना जांच रिपाेर्ट निगेटिव आई है। जयपुर सेंट्रल जेल में 130 से ज्यादा कर्मचारी और बंदी संक्रमित पाए गए थे। जयपुर की घटना के बाद राज्य की सभी जेलाें में काेराेना संक्रमण से बचाव के सभी हरसंभव उपाय किए जा रहे हैं। नए बंदियाें काे जांच के बाद ही भीतर प्रवेश दिया जा रहा है और अलग वार्ड में क्वारेंटाइन किया जा रहा है। बंदियाें और जेल स्टाफ की राेजाना स्क्रीनिंग कराई जा रही है। संदिग्ध लक्षण वालाें के सैम्पल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। साेशल डिस्टेंसिंग कायम रहे इसके लिए जेलाें से कैदियाें काे शिफ्ट कर संख्या कम की जा रही है। उन्हाेंने बताया कि जयपुर, अलवर, सवाई माधाेपुर सेंट्रल जेल में नए कैदी नहीं रखे जा रहे हैं, इन क्षेत्राें के लिए दाैसा में एक अलग से जेल बनाया गया है, जहां नए कैदियाें काे रखा जा रहा है और उनकी लगातार जांच भी कराई जा रही है। 
जेल अधिकारियाें को दिए निर्देश - जेलकर्मियों की नियमित मेडिकल जांच कराएं
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनाें जाेधपुर और काेटा जेलाें से महिला बंदियाें काे अजमेर शिफ्ट किया गया था। सभी जेलाें में नए बंदियों को रखने की व्यवस्था की गई है। ताकि कोई भी नया बंदी अगर बीमार हो या कोरोना से संक्रमित हो तो पुराने बंदियों के संपर्क में नहीं आए और वे संक्रमित होने से बच सकें। प्रत्येक नए आने वाले बंदी के सैंपल लिए जा रहे हैं, उसके बाद ही उन्हें जेल में प्रवेश दिया जा रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना